Look Inside
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha
Cancer Ki Vyatha-Katha

Cancer Ki Vyatha-Katha

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Cancer Ki Vyatha-Katha

Cancer Ki Vyatha-Katha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

चरक के संहिता काल में कैंसर की ग्रन्थि और अर्बुद रूप में लक्षणों के आधार पर अवधारणा, पहचान और उपचार और सुश्रुत की शल्य चिकित्सा में आज आयुर्वेद में भी काफ़ी परिवर्तन आया है, विकास हुआ है। आधुनिक चिकित्सा में कैंसर के निदान और उपचार के साधनों का व्यापक विस्तार हुआ है। देश में कैंसर जानलेवा रोगों में प्रमुख है, फिर भी इसकी व्यापकता के विश्वस्त आँकड़े उपलब्ध नहीं हैं। कैंसर रजिस्ट्री (पंजीयन) आधारित आंशिक आँकड़े उपलब्ध हैं। इनके अभाव में कैंसर के निदान, उपचार और निवारण की नीतियाँ और व्यवस्था अपर्याप्त और अप्रभावी हैं।
कैंसर पर डॉ. सिद्धार्थ मुखर्जी की एक पुस्तक आई है ‘द एम्परर ऑफ़ ऑल मैलेडीज : ए बायोग्राफ़ी ऑफ़ कैंसर’। यह एक ऐतिहासिक किताब है।
इसी से प्रेरित होकर मैंने भारतीय सन्दर्भ में ‘कैंसर की व्यथा-कथा : आग का दरिया तैरकर जाना’ लिखी है, क्योंकि मेरा मानना है हिन्दी में इसकी नितान्त आवश्यकता है।
कैंसर के बारे में, पढ़े-लिखे और अनपढ़, सभी में जानकारी कम और भय व भ्रम अधिक है। आज भी कैंसर को एक रोग माना जाता है। एक ही दवा से हर प्रकार के कैंसर के इलाज के दावे आम हैं, प्रचार-प्रसार कर रोगियों को भ्रम में रखा जाता है। चिकित्सा के व्यवसायीकरण से बेबस रोगियों का हर स्तर पर शोषण होता है। आम भाषा में कैंसर के बारे में विश्वसनीय जानकारी की रोचक शैली में प्रस्तुति से, आशा है, इस रोग से भय, भ्रम और शोषण से मुक्ति में सहायता मिलेगी। अगर ऐसा होता है तो मेरा परिश्रम सफल होगा।
— प्राक्कथन से Charak ke sanhita kaal mein kainsar ki granthi aur arbud rup mein lakshnon ke aadhar par avdharna, pahchan aur upchar aur sushrut ki shalya chikitsa mein aaj aayurved mein bhi kafi parivartan aaya hai, vikas hua hai. Aadhunik chikitsa mein kainsar ke nidan aur upchar ke sadhnon ka vyapak vistar hua hai. Desh mein kainsar janleva rogon mein prmukh hai, phir bhi iski vyapakta ke vishvast aankade uplabdh nahin hain. Kainsar rajistri (panjiyan) aadharit aanshik aankade uplabdh hain. Inke abhav mein kainsar ke nidan, upchar aur nivaran ki nitiyan aur vyvastha aparyapt aur aprbhavi hain. Kainsar par dau. Siddharth mukharji ki ek pustak aai hai ‘da emprar auf aul mailedij : e bayografi auf kainsar’. Ye ek aitihasik kitab hai.
Isi se prerit hokar mainne bhartiy sandarbh mein ‘kainsar ki vytha-katha : aag ka dariya tairkar jana’ likhi hai, kyonki mera manna hai hindi mein iski nitant aavashyakta hai.
Kainsar ke bare mein, padhe-likhe aur anpadh, sabhi mein jankari kam aur bhay va bhram adhik hai. Aaj bhi kainsar ko ek rog mana jata hai. Ek hi dava se har prkar ke kainsar ke ilaj ke dave aam hain, prchar-prsar kar rogiyon ko bhram mein rakha jata hai. Chikitsa ke vyavsayikran se bebas rogiyon ka har star par shoshan hota hai. Aam bhasha mein kainsar ke bare mein vishvasniy jankari ki rochak shaili mein prastuti se, aasha hai, is rog se bhay, bhram aur shoshan se mukti mein sahayta milegi. Agar aisa hota hai to mera parishram saphal hoga.
— prakkthan se

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products