BackBack
-11%

Bura Waqt Achchhe log

Rs. 399 Rs. 355

सुधीर चन्द्र यूँ तो इतिहासकार हैं लेकिन उनकी चिन्ताओं और दिलचस्पियों का फलक इस अकादमिक श्रेणी से कहीं ज़्यादा बड़ा है। गांधी पर जो काम वे करते रहे हैं, वह सिर्फ़ इतिहासकार का काम नहीं है। गांधी के साथ उन्होंने एक नितान्त निजी और दुर्लभ रिश्ता बनाया है, और उस... Read More

BlackBlack
Description

सुधीर चन्द्र यूँ तो इतिहासकार हैं लेकिन उनकी चिन्ताओं और दिलचस्पियों का फलक इस अकादमिक श्रेणी से कहीं ज़्यादा बड़ा है। गांधी पर जो काम वे करते रहे हैं, वह सिर्फ़ इतिहासकार का काम नहीं है। गांधी के साथ उन्होंने एक नितान्त निजी और दुर्लभ रिश्ता बनाया है, और उस 'असम्भव' व्यक्तित्व को समझते-जानते हुए देखने का एक अपना ढंग पाया है। हो सकता है कि यह ढंग उनका स्वभाव ही हो जिसे गांधी के स्पर्श ने और पुख़्ता, और टिकाऊ बना दिया।
इस किताब में शामिल गांधी-विषयक लेखों को अलग करके यदि हम समसामयिक सवालों और मुद्दों पर उनकी टिप्पणियों को भी ग़ौर से पढ़ें तो उस दृष्टि की मौजूदगी साफ़ दिखाई देगी जो जीवन को भी, और जीवन में होनेवाले परिवर्तन को भी एक गहरी नैतिक कार्रवाई के रूप में देखना चाहती है। 16 दिसम्बर—निर्भया कांड पर उनकी व्यथित प्रतिक्रियाएँ हों या दिल्ली में आम आदमी पार्टी के उदय पर उनकी टिप्पणियाँ हों, उनकी कसौटी कहीं अस्पष्ट नहीं है। अन्ना के अनशन को लेकर जब लगभग सबने अपने आपको एक हताशाजनित आशावाद के सुपुर्द कर दिया था, सुधीर जी बहुत साफ़ ढंग से उसकी नैतिक और व्यावहारिक विसंगतियों को देख और अभिव्यक्त कर पा रहे थे। इसी तरह पहले मुख्यमंत्रित्व काल में अरविन्द केजरीवाल के जिस धरने पर उनके समर्थक तक डिफ़ेंसिव हो रहे थे, सुधीर जी केजरीवाल के उस फ़ैसले की ऐतिहासिक और सैद्धान्तिक अहमियत को समझ पा रहे थे।
देश में बढ़ती असहिष्णुता, कठिन और संवेदना-च्युत होता सामाजिक जीवन और राजनैतिक हताशा उनके चिन्तन के मुख्य बिन्दु हैं जिन पर वे इतिहास की गहरी समझ और आन्तरिक नैतिकता के स्पष्ट तर्क के साथ बार-बार विचार करते हैं।
किताब में कुछ संस्मरण भी हैं जिनमें भीमसेन जोशी और भूपेन खख्खर पर केन्द्रित कतिपय लम्बे आलेख सम्बन्धित व्यक्तित्वों के अलावा भारतीय कला के इन दो पक्षों, संगीत और चित्रकला पर महत्त्वपूर्ण रोशनी डालते हैं। संगीत पर उन्होंने एकाधिक जगह और बहुत लगाव के साथ लिखा है। समाज, संस्कृति और सामाजिक इतिहास को समेटते इन निबन्धों को अच्छे और समर्थ गद्य के रूप में भी पढ़ा जाना ज़रूरी है। Sudhir chandr yun to itihaskar hain lekin unki chintaon aur dilchaspiyon ka phalak is akadmik shreni se kahin zyada bada hai. Gandhi par jo kaam ve karte rahe hain, vah sirf itihaskar ka kaam nahin hai. Gandhi ke saath unhonne ek nitant niji aur durlabh rishta banaya hai, aur us asambhav vyaktitv ko samajhte-jante hue dekhne ka ek apna dhang paya hai. Ho sakta hai ki ye dhang unka svbhav hi ho jise gandhi ke sparsh ne aur pukhta, aur tikau bana diya. Is kitab mein shamil gandhi-vishyak lekhon ko alag karke yadi hum samsamyik savalon aur muddon par unki tippaniyon ko bhi gaur se padhen to us drishti ki maujudgi saaf dikhai degi jo jivan ko bhi, aur jivan mein honevale parivartan ko bhi ek gahri naitik karrvai ke rup mein dekhna chahti hai. 16 disambar—nirbhya kand par unki vythit prtikriyayen hon ya dilli mein aam aadmi parti ke uday par unki tippaniyan hon, unki kasauti kahin aspasht nahin hai. Anna ke anshan ko lekar jab lagbhag sabne apne aapko ek hatashajnit aashavad ke supurd kar diya tha, sudhir ji bahut saaf dhang se uski naitik aur vyavharik visangatiyon ko dekh aur abhivyakt kar pa rahe the. Isi tarah pahle mukhymantritv kaal mein arvind kejrival ke jis dharne par unke samarthak tak difensiv ho rahe the, sudhir ji kejrival ke us faisle ki aitihasik aur saiddhantik ahamiyat ko samajh pa rahe the.
Desh mein badhti ashishnuta, kathin aur sanvedna-chyut hota samajik jivan aur rajanaitik hatasha unke chintan ke mukhya bindu hain jin par ve itihas ki gahri samajh aur aantrik naitikta ke spasht tark ke saath bar-bar vichar karte hain.
Kitab mein kuchh sansmran bhi hain jinmen bhimsen joshi aur bhupen khakhkhar par kendrit katipay lambe aalekh sambandhit vyaktitvon ke alava bhartiy kala ke in do pakshon, sangit aur chitrakla par mahattvpurn roshni dalte hain. Sangit par unhonne ekadhik jagah aur bahut lagav ke saath likha hai. Samaj, sanskriti aur samajik itihas ko samette in nibandhon ko achchhe aur samarth gadya ke rup mein bhi padha jana zaruri hai.