BackBack
-11%

Buniyadi Taleem

Rs. 595 Rs. 530

जब हम गांधी जी द्वारा परिकल्पित तथा कार्यान्वित बुनियादी शिक्षा की बात करते हैं तो अजीब-सा अनुभव महसूस हो सकता है, क्योंकि गांधी जी की बुनियादी शिक्षा-परिकल्पना के साथ आज के शिक्षा-जगत् का कोई सम्बन्ध नहीं है। प्रस्तुत पुस्तक का विचारणीय विषय यही है कि गांधी जी द्वारा परिकल्पित बुनियादी... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Education
Description

जब हम गांधी जी द्वारा परिकल्पित तथा कार्यान्वित बुनियादी शिक्षा की बात करते हैं तो अजीब-सा अनुभव महसूस हो सकता है, क्योंकि गांधी जी की बुनियादी शिक्षा-परिकल्पना के साथ आज के शिक्षा-जगत् का कोई सम्बन्ध नहीं है।
प्रस्तुत पुस्तक का विचारणीय विषय यही है कि गांधी जी द्वारा परिकल्पित बुनियादी शिक्षा की मूल्यदृष्टि क्या है और आज उसे किस तरह से देखा-परखा जाना चाहिए तथा आज की नूतन शिक्षा-पद्धति के साथ इसको कैसे मिलाया जाना चाहिए।
गांधी जी सचमुच एक आत्मसजग पीढ़ी भारत के लिए तैयार करना चाहते थे। इसलिए प्राथमिक शिक्षा में मातृभाषा को केन्द्र में रखा।
ऐसे में हमें यह सोचना चाहिए कि मातृभाषा के माध्यम से शिक्षा, सभी तबकों के विद्यार्थियों को समान सुविधाओं वाली पाठशालाओं की परिकल्पना और उन्हें सुविधाएँ उपलब्ध कराना, शिक्षा-पद्धतियों को समान बनाना, अध्यापक-प्रशिक्षण को वैज्ञानिक बनाना, सुविधाओं से वंचित सामाजिक तबके के विद्यार्थियों को समकक्ष तक ले आने योग्य पद्धतियों व योजनाओं का अखिल भारतीय स्तर पर आविष्कार करना आदि समान दृष्टि से जब तक कार्यान्वित नहीं होगा, तब तक बुनियादी शिक्षा का यह मातृभाषा में शिक्षण का सपना अतीत का अवैज्ञानिक सपना ही सिद्ध हो सकता है।
पुस्तक में बुनियादी तालीम के विभिन्न पक्षों पर सारगर्भित लेख प्रस्तुत करने का प्रयास है। इस विषय पर गम्भीर चिन्तन के लिए यह एक प्रवेशिका का कार्य करेगी, इसी आशा के साथ इसे पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया जा रहा है। Jab hum gandhi ji dvara parikalpit tatha karyanvit buniyadi shiksha ki baat karte hain to ajib-sa anubhav mahsus ho sakta hai, kyonki gandhi ji ki buniyadi shiksha-parikalpna ke saath aaj ke shiksha-jagat ka koi sambandh nahin hai. Prastut pustak ka vicharniy vishay yahi hai ki gandhi ji dvara parikalpit buniyadi shiksha ki mulydrishti kya hai aur aaj use kis tarah se dekha-parkha jana chahiye tatha aaj ki nutan shiksha-paddhati ke saath isko kaise milaya jana chahiye.
Gandhi ji sachmuch ek aatmasjag pidhi bharat ke liye taiyar karna chahte the. Isaliye prathmik shiksha mein matribhasha ko kendr mein rakha.
Aise mein hamein ye sochna chahiye ki matribhasha ke madhyam se shiksha, sabhi tabkon ke vidyarthiyon ko saman suvidhaon vali pathshalaon ki parikalpna aur unhen suvidhayen uplabdh karana, shiksha-paddhatiyon ko saman banana, adhyapak-prshikshan ko vaigyanik banana, suvidhaon se vanchit samajik tabke ke vidyarthiyon ko samkaksh tak le aane yogya paddhatiyon va yojnaon ka akhil bhartiy star par aavishkar karna aadi saman drishti se jab tak karyanvit nahin hoga, tab tak buniyadi shiksha ka ye matribhasha mein shikshan ka sapna atit ka avaigyanik sapna hi siddh ho sakta hai.
Pustak mein buniyadi talim ke vibhinn pakshon par sargarbhit lekh prastut karne ka pryas hai. Is vishay par gambhir chintan ke liye ye ek prveshika ka karya karegi, isi aasha ke saath ise pathkon ke samaksh prastut kiya ja raha hai.