Look Inside
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya
Brahmanda Parichaya

Brahmanda Parichaya

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Brahmanda Parichaya

Brahmanda Parichaya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अपने अस्तित्व के उषःकाल से ही मानव सोचता आया है—आकाश के ये टिमटिमाते दीप क्या हैं? क्यों चमकते हैं ये? हमसे कितनी दूर हैं ये? सूरज इतना तेज़ क्यों चमकता है? कौन-सा ईंधन जलता है उसमें? आकाश का विस्तार कहाँ तक है? कितना बड़ा है ब्रह्मांड? कैसे हुई ब्रह्मांड की उत्पत्ति और कैसे होगा इसका अन्त? क्या ब्रह्मांड के अन्य पिंडों पर भी धरती जैसे जीव-जगत् का अस्तित्व है? इस विशाल विश्व में क्या हमारे कोई हमजोली भी हैं, या कि सिर्फ़ हम ही हम हैं?
इन सवालों के उत्तर प्राप्त करने के लिए सहस्राब्दियों तक आकाश के ग्रह-नक्षत्रों की गति-स्थिति का अध्ययन किया जाता रहा। विश्व के नए-नए मॉडल प्रस्तुत किए गए। परन्तु विश्व की संरचना और इसके विविध पिंडों के भौतिक गुणधर्मों के बारे में कुछ सही जानकारी हमें पिछले क़रीब दो सौ वर्षों से मिलने लगी है। इसमें भी सबसे ज़्यादा जानकारी पिछली सदी के आरम्भ से और फिर अन्तरिक्ष-यात्रा का युग शुरू होने के बाद से मिलने लगी है। खगोल-विज्ञान हालाँकि सबसे पुराना विज्ञान है, परन्तु ब्रह्मांड की संरचना और इसके विस्तार के बारे में सही सूचनाएँ पिछले क़रीब सौ वर्षों में ही प्राप्त हुई हैं। इस समूची जानकारी का ग्रन्थ में समावेश है।
अगस्त 2006 में अन्तरराष्ट्रीय खगोल-विज्ञान संघ ने ‘ग्रह’ की एक नई परिभाषा प्रस्तुत की। इसके तहत सौरमंडल के ‘प्रधान ग्रहों’ की संख्या 8 में सीमित हो गई और प्लूटो, एरीस तथा क्षुद्रग्रह सीरेस अब ‘बौने ग्रह’ बन गए हैं। इस नई व्यवस्था का ग्रन्थ में समावेश है, विवेचन है।
यह ‘ब्रह्मांड-परिचय’ ग्रन्थ सम्पूर्ण ज्ञेय ब्रह्मांड का वैज्ञानिक परिचय प्रस्तुत करता है—भरपूर चित्रों, आरेखों व नक़्शे सहित। ग्रन्थ के 12 परिशिष्टों की प्रचुर सन्दर्भ सामग्री इसे खगोल-विज्ञान का एक उपयोगी ‘हैंडबुक’ बना देती है। हिन्दी माध्यम से ब्रह्मांड के बारे में अद्यतन, प्रामाणिक जानकारी चाहने वाले पाठकों के लिए एक अनमोल ग्रन्थ। Apne astitv ke ushःkal se hi manav sochta aaya hai—akash ke ye timatimate dip kya hain? kyon chamakte hain ye? hamse kitni dur hain ye? suraj itna tez kyon chamakta hai? kaun-sa iindhan jalta hai usmen? aakash ka vistar kahan tak hai? kitna bada hai brahmand? kaise hui brahmand ki utpatti aur kaise hoga iska ant? kya brahmand ke anya pindon par bhi dharti jaise jiv-jagat ka astitv hai? is vishal vishv mein kya hamare koi hamjoli bhi hain, ya ki sirf hum hi hum hain?In savalon ke uttar prapt karne ke liye sahasrabdiyon tak aakash ke grah-nakshatron ki gati-sthiti ka adhyyan kiya jata raha. Vishv ke ne-ne maudal prastut kiye ge. Parantu vishv ki sanrachna aur iske vividh pindon ke bhautik gundharmon ke bare mein kuchh sahi jankari hamein pichhle qarib do sau varshon se milne lagi hai. Ismen bhi sabse zyada jankari pichhli sadi ke aarambh se aur phir antriksh-yatra ka yug shuru hone ke baad se milne lagi hai. Khagol-vigyan halanki sabse purana vigyan hai, parantu brahmand ki sanrachna aur iske vistar ke bare mein sahi suchnayen pichhle qarib sau varshon mein hi prapt hui hain. Is samuchi jankari ka granth mein samavesh hai.
Agast 2006 mein antarrashtriy khagol-vigyan sangh ne ‘grah’ ki ek nai paribhasha prastut ki. Iske tahat saurmandal ke ‘prdhan grhon’ ki sankhya 8 mein simit ho gai aur pluto, eris tatha kshudragrah sires ab ‘baune grah’ ban ge hain. Is nai vyvastha ka granth mein samavesh hai, vivechan hai.
Ye ‘brahmand-parichay’ granth sampurn gyey brahmand ka vaigyanik parichay prastut karta hai—bharpur chitron, aarekhon va naqshe sahit. Granth ke 12 parishishton ki prchur sandarbh samagri ise khagol-vigyan ka ek upyogi ‘haindbuk’ bana deti hai. Hindi madhyam se brahmand ke bare mein adytan, pramanik jankari chahne vale pathkon ke liye ek anmol granth.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products