Look Inside
Boski Ka Kauwanama
Boski Ka Kauwanama
Boski Ka Kauwanama
Boski Ka Kauwanama

Boski Ka Kauwanama

Regular price Rs. 88
Sale price Rs. 88 Regular price Rs. 95
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Boski Ka Kauwanama

Boski Ka Kauwanama

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जापानी कथा-साहित्य की दुनिया में अलौकिक प्रसंगों के आधुनिक प्रवर्तक कोइज़ुमी याकुमो की छह बहु-चर्चित कहानियों को इस संकलन में शामिल किया गया है। इनमें पाठकों को न सिर्फ़ अलौकिक दुनिया में विचरण करने का मौक़ा मिलेगा, बल्कि जापान के ऐतिहासिक, आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक पहलुओं को जानने-समझने का अवसर भी प्राप्त होगा।
1185 में घटित दान-नो-उरा के विध्वंसक युद्ध की पृष्ठभूमि में रचित ‘बिन कान का होइची’ युद्ध के विनाशकारी प्रभावों को बख़ूबी उभारती है। ‘बच्चों की रज़ाई’ दो अनाथ बच्चों की मार्मिक दास्तान है, जिन्हें ठिठुरती रात में मकान-मालिक बेघर कर उनकी रज़ाई छीन लेता है। बच्चे ठंड से दम तोड़ देते हैं लेकिन उनकी आत्मा रज़ाई में समा जाती है। हर रात रज़ाई से निकलती आवाज जैसे समाज से उसकी निष्ठुरता का हिसाब माँगती है। ‘बर्फ़ सुन्दरी’ और ‘सोएमोन भूला नहीं’ नैतिक मूल्यों के प्रति सजग कराती रोचक कहानियाँ हैं। ‘कुनीज़ाका की ढलान’ एक इच्छाधारी रकून कुत्ते की कहानी है जो यात्रियों को डराया करता है। इस कहानी के द्वारा रचनाकार का सन्देश है कि भय मनुष्य की आन्तरिक कमज़ोरी है जिससे भागना कायरता है। ‘आँसू बने मोती’ कहानी लीक से हटकर है, जो मनुष्य और प्रकृति के पारस्परिक घनिष्ठ सम्बन्ध को रोचक ढंग से प्रस्तुत करती है।
रेखाचित्रों तथा टिप्पणियों से भरपूर कोइज़ुमी याकुमो की मूल जापानी कहानियों का यह हिन्दी अनुवाद बाल-पाठकों का मनोरंजन करने के साथ उन्हें नैतिक तथा चारित्रिक मूल्यों के प्रति सजग कराएगा। Japani katha-sahitya ki duniya mein alaukik prsangon ke aadhunik prvartak koizumi yakumo ki chhah bahu-charchit kahaniyon ko is sanklan mein shamil kiya gaya hai. Inmen pathkon ko na sirf alaukik duniya mein vichran karne ka mauqa milega, balki japan ke aitihasik, aadhyatmik, sanskritik aur samajik pahaluon ko janne-samajhne ka avsar bhi prapt hoga. 1185 mein ghatit dan-no-ura ke vidhvansak yuddh ki prishthbhumi mein rachit ‘bin kaan ka hoichi’ yuddh ke vinashkari prbhavon ko bakhubi ubharti hai. ‘bachchon ki razai’ do anath bachchon ki marmik dastan hai, jinhen thithurti raat mein makan-malik beghar kar unki razai chhin leta hai. Bachche thand se dam tod dete hain lekin unki aatma razai mein sama jati hai. Har raat razai se nikalti aavaj jaise samaj se uski nishthurta ka hisab mangati hai. ‘barf sundri’ aur ‘soemon bhula nahin’ naitik mulyon ke prati sajag karati rochak kahaniyan hain. ‘kunizaka ki dhalan’ ek ichchhadhari rakun kutte ki kahani hai jo yatriyon ko daraya karta hai. Is kahani ke dvara rachnakar ka sandesh hai ki bhay manushya ki aantrik kamzori hai jisse bhagna kayarta hai. ‘ansu bane moti’ kahani lik se hatkar hai, jo manushya aur prkriti ke parasprik ghanishth sambandh ko rochak dhang se prastut karti hai.
Rekhachitron tatha tippaniyon se bharpur koizumi yakumo ki mul japani kahaniyon ka ye hindi anuvad bal-pathkon ka manoranjan karne ke saath unhen naitik tatha charitrik mulyon ke prati sajag karayega.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products