BackBack
-11%

Borunda Diary

Rs. 150 Rs. 134

ऐसे लेखक बिरले होते हैं जो अपनी आधुनिकता/प्रगतिशीलता को सही विकल्प मानने के बावजूद उस अहंकार को जीत पाते हैं जो आधुनिकता और प्रगतिशीलता में कहीं बद्धमूल है। बिज्जी ऐसे बिरले आधुनिक लेखक थे। वे पूर्व-आधुनिक से उसकी वाणी नहीं छीनते, उसका ‘प्रतिनिधि’ बनने की, उसे अपने अधीन लाने की... Read More

BlackBlack
Description

ऐसे लेखक बिरले होते हैं जो अपनी आधुनिकता/प्रगतिशीलता को सही विकल्प मानने के बावजूद उस अहंकार को जीत पाते हैं जो आधुनिकता और प्रगतिशीलता में कहीं बद्धमूल है। बिज्जी ऐसे बिरले आधुनिक लेखक थे। वे पूर्व-आधुनिक से उसकी वाणी नहीं छीनते, उसका ‘प्रतिनिधि’ बनने की, उसे अपने अधीन लाने की और इस तरह अपने को श्रेष्ठतर जताने की औपनिवेशिक कोशिश नहीं करते। जैसे ‘व्हाइट मेन’स बर्डन’ होता है वैसे ही एक ‘मॉडर्न मेनֹ’स बर्डन’ भी होता है। बिज्जी के कथा-लोक में उनकी ‘बातां री फुलवाड़ी’ में, जो उनके लेखन का सबसे सटीक रूपक भी है और उनका मैग्नम ओपस भी, पूर्व-आधुनिक भी फूल हैं, ‘पिछड़े’, ‘गँवार’ नहीं।
बिज्जी ताउम्र बोरूंदा में रहे, वहीं एक प्रेस स्थापित किया, प्रणपूर्वक राजस्थानी में लिखा और अपने गाँव में अपने प्रगतिशील, आधुनिक विचारों और नास्तिकता के बावजूद विरोधी भले माने गए हों, ‘बाहरी’ कभी नहीं माने गए।
चौदह खंडों में ‘बातां री फुलवाड़ी’ रचकर उन्होंने भारतीय और विश्वसाहित्य के इतिहास में जिस युगान्तकारी परिवर्तन का सूत्रपात किया था, वह अब भी हिन्दी पाठकों को अपनी समग्रता में उपलब्ध नहीं था। बिज्जी के स्नेहाधिकारी और द्विभाषी लेखक मालचन्द तिवाड़ी उसके बड़े हिस्से का अनुवाद करने के लिए एक साल तक बिज्जी के साथ बोरूंदा में रहे, वही एक साल जो बिज्जी के जीवन का अन्तिम एक साल सिद्ध हुआ। इस डायरी में बिज्जी का वह पूरा साल है जब वे शारीरिक रूप से परवश होकर अपनी स्वभावगत सक्रियता का अनन्त भार अपने मन पर सँभाले रोग-शय्या पर थे।
यह भी एक अर्थ-बहुल विडम्बना है कि बिज्जी के शाहकार का अनुवाद एक ऐसे लेखकीय आत्म के हाथों सम्पन्न हुआ जो इस डायरी-वृत्तान्त में एक आस्तिक ही नहीं, एक पूर्व-आधुनिक की तरह प्रस्तुत है। इस डायरी-वृत्तान्त को पढ़ना, डायरीकार को पढ़ना दरअसल बिज्जी के अपने रचे समाज को, उनके कथा-संसार को पढ़ना है जिसके साथ बिज्जी के द्वन्द्वात्मक लेकिन करुणामय सम्बन्ध का एक उदाहरण इस डायरीकार के साथ बिज्जी का—और बिज्जी के साथ डायरीकार का—अपना निजी, जटिल और रागात्मक सम्बन्ध है। Aise lekhak birle hote hain jo apni aadhunikta/pragatishilta ko sahi vikalp manne ke bavjud us ahankar ko jit pate hain jo aadhunikta aur pragatishilta mein kahin baddhmul hai. Bijji aise birle aadhunik lekhak the. Ve purv-adhunik se uski vani nahin chhinte, uska ‘pratinidhi’ banne ki, use apne adhin lane ki aur is tarah apne ko shreshthtar jatane ki aupaniveshik koshish nahin karte. Jaise ‘vhait men’sa bardan’ hota hai vaise hi ek ‘maudarn menֹ’sa bardan’ bhi hota hai. Bijji ke katha-lok mein unki ‘batan ri phulvadi’ mein, jo unke lekhan ka sabse satik rupak bhi hai aur unka maignam opas bhi, purv-adhunik bhi phul hain, ‘pichhde’, ‘ganvar’ nahin. Bijji taumr borunda mein rahe, vahin ek pres sthapit kiya, pranpurvak rajasthani mein likha aur apne ganv mein apne pragatishil, aadhunik vicharon aur nastikta ke bavjud virodhi bhale mane ge hon, ‘bahri’ kabhi nahin mane ge.
Chaudah khandon mein ‘batan ri phulvadi’ rachkar unhonne bhartiy aur vishvsahitya ke itihas mein jis yugantkari parivartan ka sutrpat kiya tha, vah ab bhi hindi pathkon ko apni samagrta mein uplabdh nahin tha. Bijji ke snehadhikari aur dvibhashi lekhak malchand tivadi uske bade hisse ka anuvad karne ke liye ek saal tak bijji ke saath borunda mein rahe, vahi ek saal jo bijji ke jivan ka antim ek saal siddh hua. Is dayri mein bijji ka vah pura saal hai jab ve sharirik rup se parvash hokar apni svbhavgat sakriyta ka anant bhar apne man par sanbhale rog-shayya par the.
Ye bhi ek arth-bahul vidambna hai ki bijji ke shahkar ka anuvad ek aise lekhkiy aatm ke hathon sampann hua jo is dayri-vrittant mein ek aastik hi nahin, ek purv-adhunik ki tarah prastut hai. Is dayri-vrittant ko padhna, dayrikar ko padhna darasal bijji ke apne rache samaj ko, unke katha-sansar ko padhna hai jiske saath bijji ke dvandvatmak lekin karunamay sambandh ka ek udahran is dayrikar ke saath bijji ka—aur bijji ke saath dayrikar ka—apna niji, jatil aur ragatmak sambandh hai.