Look Inside
Bombay Bar
Bombay Bar
Bombay Bar
Bombay Bar

Bombay Bar

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bombay Bar

Bombay Bar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुपरिचित पत्रकार विवेक अग्रवाल की यह किताब मुम्बई की बारबालाओं की ज़‍िन्दगी की अब तक अनकही दास्तान को तफ़सील से बयान करती है। यह किताब बारबालाओं की ज़‍िन्दगी की उन सच्चाइयों से परिचित कराती है जो निहायत तकलीफ़देह हैं। बारबालाएँ अपने हुस्न और हुनर से दूसरों का मनोरंजन करती हैं। यह उनकी ज़ाहिर दुनिया है। लेकिन शायद ही कोई जानता होगा कि दूर किसी शहर में मौजूद अपने परिवार से अपनी सच्चाई को लगातर छुपाती हुई वे उसकी हर ज़ि‍म्मेदारी उठाती हैं। वे अपने परिचितों की मददगार बनती हैं। लेकिन अपनी हसरतों को वे अक्सर मरता हुआ देखने को विवश होती हैं। कुछ बारबालाएँ अकूत दौलत और शोहरत हासिल करने में कामयाब हो जाती हैं, पर इसके बावजूद जो उन्हें हासिल नहीं हो पाता, वह है सामाजिक प्रतिष्ठा और सुकून-भरी सामान्य पारिवारिक ज़‍िन्दगी। विवेक बतलाते हैं कि बारबालाओं की ज़‍िन्दगी के तमाम कोने अँधियारों से इस क़दर भरे हैं कि उनमें रोशनी की एक अदद लकीर की गुंजाइश भी नज़र नहीं आती। इससे निकलने की जद्दोजहद बारबालाओं को कई बार अपराध और थाना-पुलिस के ऐसे चक्कर में डाल देती है, जो एक और दोज़ख़ है। लेकिन नाउम्मीदी-भरी इस दुनिया में विवेक हमें शर्वरी सोनावणे जैसी लड़की से भी मिलवाते हैं जो बारबालाओं को जिस्मफ़रोशी के धन्धे में धकेलनेवालों के ख़‍िलाफ़ क़ानूनी जंग छेड़े हुए है। किन्नर भी इस दास्तान के एक अहम किरदार हैं, जो डांसबारों में नाचते हैं। अपनी ख़ूबसूरती की बदौलत इस पेशे में जगह मिलने से वे सम्मानित महसूस करते हैं। हालाँकि उनकी ज़ि‍न्दगी भी किसी अन्य बारबाला की तरह तमाम झमेलों में उलझी हुई है। एक नई बहस प्रस्‍तावित करती किताब। Suparichit patrkar vivek agrval ki ye kitab mumbii ki barbalaon ki za‍indagi ki ab tak anakhi dastan ko tafsil se bayan karti hai. Ye kitab barbalaon ki za‍indagi ki un sachchaiyon se parichit karati hai jo nihayat taklifdeh hain. Barbalayen apne husn aur hunar se dusron ka manoranjan karti hain. Ye unki zahir duniya hai. Lekin shayad hi koi janta hoga ki dur kisi shahar mein maujud apne parivar se apni sachchai ko lagatar chhupati hui ve uski har zi‍mmedari uthati hain. Ve apne parichiton ki madadgar banti hain. Lekin apni hasarton ko ve aksar marta hua dekhne ko vivash hoti hain. Kuchh barbalayen akut daulat aur shohrat hasil karne mein kamyab ho jati hain, par iske bavjud jo unhen hasil nahin ho pata, vah hai samajik pratishta aur sukun-bhari samanya parivarik za‍indagi. Vivek batlate hain ki barbalaon ki za‍indagi ke tamam kone andhiyaron se is qadar bhare hain ki unmen roshni ki ek adad lakir ki gunjaish bhi nazar nahin aati. Isse nikalne ki jaddojhad barbalaon ko kai baar apradh aur thana-pulis ke aise chakkar mein daal deti hai, jo ek aur dozakh hai. Lekin naummidi-bhari is duniya mein vivek hamein sharvri sonavne jaisi ladki se bhi milvate hain jo barbalaon ko jismafroshi ke dhandhe mein dhakelnevalon ke kha‍ilaf qanuni jang chhede hue hai. Kinnar bhi is dastan ke ek aham kirdar hain, jo dansbaron mein nachte hain. Apni khubsurti ki badaulat is peshe mein jagah milne se ve sammanit mahsus karte hain. Halanki unki zi‍ndgi bhi kisi anya barbala ki tarah tamam jhamelon mein uljhi hui hai. Ek nai bahas pras‍tavit karti kitab.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products