Bolta Lihaph

Regular price Rs. 410
Sale price Rs. 410 Regular price Rs. 441
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bolta Lihaph

Bolta Lihaph

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस संग्रह में हिन्दी के श्रेष्ठ कथाकारों द्वारा लोकप्रिय मासिक 'कादम्बिनी' के ‘कथा-प्रतिमान’ स्तम्भ के लिए चयनित विश्व-साहित्य की श्रेष्ठ कहानियाँ संकलित हैं। चयनकर्ता कथाकारों ने इसमें अपनी पसन्द के कारणों का ज़िक्र करते हुए इन कहानियों की विशिष्टताओं का भी वर्णन किया है, जिससे इस संग्रह की उपयोगिता बढ़ गई है।
विभिन्न कालखंडों में रची गई ये कहानियाँ अपनी रचनात्मक विशिष्टता के लिए चर्चित रही हैं। इस संग्रह में शामिल कथाकारों की कहानी-कला का मर्म मानव-जीवन के मूल्यों को लेकर उनकी सतत दुविधा और विस्मय का भाव है जो हमारे मन में मानव जीवन की असारता या क्षुद्रता के प्रति खीज नहीं उपजाते बल्कि एक गहरी हलचल मचाए रखते हैं। यही कारण है कि ये कहानियाँ आज भी हमें उतनी टटकी और अन्तरंग महसूस होती हैं जितनी अपने समकालीन पाठकों के लिए रही होंगी। विश्व के समर्थ कहानीकारों और उनकी विशिष्ट कथा कृतियों को सुलभ कराने का हमारा यह विनम्र प्रयास निश्चय ही आपको पसन्द आएगा और प्रेरणादायक लगेगा, ऐसा हमारा विश्वास है। Is sangrah mein hindi ke shreshth kathakaron dvara lokapriy masik kadambini ke ‘katha-pratiman’ stambh ke liye chaynit vishv-sahitya ki shreshth kahaniyan sanklit hain. Chayankarta kathakaron ne ismen apni pasand ke karnon ka zikr karte hue in kahaniyon ki vishishttaon ka bhi varnan kiya hai, jisse is sangrah ki upyogita badh gai hai. Vibhinn kalkhandon mein rachi gai ye kahaniyan apni rachnatmak vishishtta ke liye charchit rahi hain. Is sangrah mein shamil kathakaron ki kahani-kala ka marm manav-jivan ke mulyon ko lekar unki satat duvidha aur vismay ka bhav hai jo hamare man mein manav jivan ki asarta ya kshudrta ke prati khij nahin upjate balki ek gahri halchal machaye rakhte hain. Yahi karan hai ki ye kahaniyan aaj bhi hamein utni tatki aur antrang mahsus hoti hain jitni apne samkalin pathkon ke liye rahi hongi. Vishv ke samarth kahanikaron aur unki vishisht katha kritiyon ko sulabh karane ka hamara ye vinamr pryas nishchay hi aapko pasand aaega aur prernadayak lagega, aisa hamara vishvas hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products