BackBack
-11%

Bisvin Shatabdi Ka Hindi Sahitya

Rs. 695 Rs. 619

‘बीसवीं शताब्दी का हिन्दी साहित्य’ विजयमोहन सिंह की नवीनतम समीक्षा-कृति है। लगभग ढाई सौ पृष्ठों के अपने सीमित आकार में, एक पूरी सदी के साहित्य की पड़ताल करने वाली यह एक ऐसी किताब है, जिसे एक सर्जक-आलोचक के सुदीर्घ अध्ययन तथा मनन का परिपाक कहा जा सकता है। पिछले कुछ... Read More

Description

‘बीसवीं शताब्दी का हिन्दी साहित्य’ विजयमोहन सिंह की नवीनतम समीक्षा-कृति है। लगभग ढाई सौ पृष्ठों के अपने सीमित आकार में, एक पूरी सदी के साहित्य की पड़ताल करने वाली यह एक ऐसी किताब है, जिसे एक सर्जक-आलोचक के सुदीर्घ अध्ययन तथा मनन का परिपाक कहा जा सकता है। पिछले कुछ समय से पश्चिम में और अपने यहाँ भी, साहित्येतिहास के लेखन की परम्परा कुछ ठहर-सी गई है—बल्कि कुछ हलकों में तो ऐसे लेखन की क्रमबद्ध पद्धति को सन्देह की दृष्टि से भी देखा गया है। ऐसी स्थिति में इस प्रश्न का उठना स्वाभाविक है कि इक्कीसवीं सदी के जिस बिन्दु पर हम खड़े हैं वहाँ साहित्य के विकास की प्रक्रिया को किस तरह देखा-परखा जाए या फिर उसकी पद्धति क्या हो? इस पुस्तक को पढ़ते हुए मेरे मन पर पहला प्रभाव यही पड़ा कि यह उसी प्रश्न के उत्तर की दिशा में की गई एक कोशिश है—शायद पहली मगर गम्भीर कोशिश।
अपनी भूमिका में लेखक ने ज़ोर देकर कहा है कि ‘इस पुस्तक को किसी भी अर्थ में इतिहास न माना जाए’— क्योंकि न तो यहाँ तिथियों का अंकगणित मिलेगा, न किसी तरह के फुटनोट, न ही पूर्वापर सम्बन्धों की क्रमिकता। यदि मिलेगी तो कुछ अलक्षित अन्तःसूत्रों की निशानदेही और कई बार कुछ स्थापित मान्यताओं के बरक्स कोई सर्वथा नया विचार और हाँ, वह नैतिक साहस भी जो किसी नए विचार की प्रस्तावना के लिए ज़रूरी होता है।
अनुभव पकी दृष्टि, गहरी सूझ-बूझ और विश्लेषणपरक पद्धति के साथ किया गया, पिछली सदी के साहित्य का यह पुनरवलोकन, साहित्य के अध्येताओं का ध्यान तो आकृष्ट करेगा ही—शायद कुछ प्रश्नों पर नए सिरे से सोचने के लिए उत्प्रेरित भी करे।
—केदारनाथ सिंह ‘bisvin shatabdi ka hindi sahitya’ vijaymohan sinh ki navintam samiksha-kriti hai. Lagbhag dhai sau prishthon ke apne simit aakar mein, ek puri sadi ke sahitya ki padtal karne vali ye ek aisi kitab hai, jise ek sarjak-alochak ke sudirgh adhyyan tatha manan ka paripak kaha ja sakta hai. Pichhle kuchh samay se pashchim mein aur apne yahan bhi, sahityetihas ke lekhan ki parampra kuchh thahar-si gai hai—balki kuchh halkon mein to aise lekhan ki krambaddh paddhati ko sandeh ki drishti se bhi dekha gaya hai. Aisi sthiti mein is prashn ka uthna svabhavik hai ki ikkisvin sadi ke jis bindu par hum khade hain vahan sahitya ke vikas ki prakriya ko kis tarah dekha-parkha jaye ya phir uski paddhati kya ho? is pustak ko padhte hue mere man par pahla prbhav yahi pada ki ye usi prashn ke uttar ki disha mein ki gai ek koshish hai—shayad pahli magar gambhir koshish. Apni bhumika mein lekhak ne zor dekar kaha hai ki ‘is pustak ko kisi bhi arth mein itihas na mana jaye’— kyonki na to yahan tithiyon ka ankagnit milega, na kisi tarah ke phutnot, na hi purvapar sambandhon ki kramikta. Yadi milegi to kuchh alakshit antःsutron ki nishandehi aur kai baar kuchh sthapit manytaon ke baraks koi sarvtha naya vichar aur han, vah naitik sahas bhi jo kisi ne vichar ki prastavna ke liye zaruri hota hai.
Anubhav paki drishti, gahri sujh-bujh aur vishleshanaprak paddhati ke saath kiya gaya, pichhli sadi ke sahitya ka ye punaravlokan, sahitya ke adhyetaon ka dhyan to aakrisht karega hi—shayad kuchh prashnon par ne sire se sochne ke liye utprerit bhi kare.
—kedarnath sinh