BackBack
-11%

Bisaat : Teen Bahanen Teen Aakhyan

Rs. 195 Rs. 174

‘बिसात : तीन बहनें तीन आख्यान’ एक अनूठी कथा-कृति है। कथा-साहित्य में विख्यात मंजुल भगत, मृदुला गर्ग और अचला बंसल तीनों सगी बहनें हैं। मंजुल भगत अब हमारे बीच नहीं हैं। मृदुला गर्ग व अचला बंसल निरन्तर सक्रिय हैं। तीनों के लेखन की पृथक् पहचान होने के बावजूद कुछ सूत्र... Read More

Description

‘बिसात : तीन बहनें तीन आख्यान’ एक अनूठी कथा-कृति है। कथा-साहित्य में विख्यात मंजुल भगत, मृदुला गर्ग और अचला बंसल तीनों सगी बहनें हैं। मंजुल भगत अब हमारे बीच नहीं हैं। मृदुला गर्ग व अचला बंसल निरन्तर सक्रिय हैं। तीनों के लेखन की पृथक् पहचान होने के बावजूद कुछ सूत्र ऐसे हैं जिन पर साझा अनुभवों के विविध रंग दिख जाते हैं। मृदुला गर्ग के शब्दों में, ‘तीनों के काफ़ी अनुभव साझा रहे। ज़िन्दगी में कितने ऐसे किरदार थे, जिनसे तीनों का साबका पड़ा। कितने ऐसे हालात थे, जिनका तीनों ने नज़ारा किया! साझा अनुभवों, किरदारों और अहसास ने हमारे भावबोध को गढ़ा और अन्य अनुभवों की तरह, वे भी कभी-न-कभी, किसी-न-किसी रूप में हमारी रचना के आधार बने। रचना जब-जब हुई, निजी अहसास से गढ़ी, मौलिक थी। हर लेखक का नज़रिया अपना अलग था। फिर भी साझा अहसास और अनुभव की गूँज, उसमें साफ़ ध्वनित होती थी। कह सकते हैं, हमने एक ही विषय पर आधारित रचना की पर रचना के दौरान, रचनात्मकता के दबाव में, रचना ने अपना विषय, कुछ हद तक बदल लिया।’ इन तीनों बहनों के बीच नाना की उपस्थिति एक ऐसा ही बहुअर्थपूर्ण अनुभव था। इस अनुभव से तीन रचनाओं ने आकार लिया। मृदुला गर्ग ने ‘वंशज’ उपन्यास रचा। मंजुल भगत ने ‘बेगाने घर में’ और अचला बंसल ने ‘कैरम की गोटियाँ’ कहानियाँ लिखीं। तीनों रचनाओं में अलग-अलग तरह से महसूस किया गया यथार्थ रचनाकारों की निजता के साथ व्यक्त हुआ। ‘बिसात : तीन बहनें तीन आख्यान’
में वंशज, ‘बेगाने घर में’ और ‘कैरम की गोटियाँ’ एक साथ उपस्थित हैं। तीनों को एक साथ पढ़ना वस्तुतः प्रीतिकर और विचारोत्तेजक हैं। जैसे एक ही जीवन-सत्य के तीन आयाम। ‘bisat : tin bahnen tin aakhyan’ ek anuthi katha-kriti hai. Katha-sahitya mein vikhyat manjul bhagat, mridula garg aur achla bansal tinon sagi bahnen hain. Manjul bhagat ab hamare bich nahin hain. Mridula garg va achla bansal nirantar sakriy hain. Tinon ke lekhan ki prithak pahchan hone ke bavjud kuchh sutr aise hain jin par sajha anubhvon ke vividh rang dikh jate hain. Mridula garg ke shabdon mein, ‘tinon ke kafi anubhav sajha rahe. Zindagi mein kitne aise kirdar the, jinse tinon ka sabka pada. Kitne aise halat the, jinka tinon ne nazara kiya! sajha anubhvon, kirdaron aur ahsas ne hamare bhavbodh ko gadha aur anya anubhvon ki tarah, ve bhi kabhi-na-kabhi, kisi-na-kisi rup mein hamari rachna ke aadhar bane. Rachna jab-jab hui, niji ahsas se gadhi, maulik thi. Har lekhak ka nazariya apna alag tha. Phir bhi sajha ahsas aur anubhav ki gunj, usmen saaf dhvnit hoti thi. Kah sakte hain, hamne ek hi vishay par aadharit rachna ki par rachna ke dauran, rachnatmakta ke dabav mein, rachna ne apna vishay, kuchh had tak badal liya. ’ in tinon bahnon ke bich nana ki upasthiti ek aisa hi bahuarthpurn anubhav tha. Is anubhav se tin rachnaon ne aakar liya. Mridula garg ne ‘vanshaj’ upanyas racha. Manjul bhagat ne ‘begane ghar men’ aur achla bansal ne ‘kairam ki gotiyan’ kahaniyan likhin. Tinon rachnaon mein alag-alag tarah se mahsus kiya gaya yatharth rachnakaron ki nijta ke saath vyakt hua. ‘bisat : tin bahnen tin aakhyan’Mein vanshaj, ‘begane ghar men’ aur ‘kairam ki gotiyan’ ek saath upasthit hain. Tinon ko ek saath padhna vastutः pritikar aur vicharottejak hain. Jaise ek hi jivan-satya ke tin aayam.