BackBack
-11%

Bindu Sindhu Ki Oor

Rs. 250 Rs. 223

भारतीय साहित्य के वर्तमान युग के शलाका-पुरुष कमलेश्वर जी के शब्दों में—‘समकालीन कविता परिदृश्य पर तमिल कवि वैरमुत्तु ने जिस तरह अपने अनुवाद के साथ हिन्दी में उपस्थिति दर्ज की है, उससे साबित होता है कि कविता भाषाओं की सीमा में बँधी नहीं रह सकती। इन कविताओं में वैरमुत्तु अपनी... Read More

BlackBlack
Description

भारतीय साहित्य के वर्तमान युग के शलाका-पुरुष कमलेश्वर जी के शब्दों में—‘समकालीन कविता परिदृश्य पर तमिल कवि वैरमुत्तु ने जिस तरह अपने अनुवाद के साथ हिन्दी में उपस्थिति दर्ज की है, उससे साबित होता है कि कविता भाषाओं की सीमा में बँधी नहीं रह सकती। इन कविताओं में वैरमुत्तु अपनी सम्पूर्ण प्रतिभा और कलात्मक प्रखरता के साथ मौजूद हैं। वह शब्दों को ध्वजा की तरह फहराकर कविता नहीं बुनते, वरन् समय को पकड़कर कविता में ही भविष्य का सपना गूँथ देते हैं। वे जीवन में शेष हो चली आस्थाओं की पुनर्रचना करते हैं। उनके शब्दों में संवेदना की छायाएँ झाँकती हैं।...कवि के रचना-संसार में वह सब कुछ है जिसके माध्यम से वह आत्मा की क्षत-विक्षत स्मृतियों में जाकर समय की संवेदना और खुद की सृजनशीलता के मानवीय स्रोतों को खोजता है, तब ही कविता क्लासिकी रंगत के साथ पाठकों को झकझोरने लगती है।’
हिन्दी में विचार-कविताओं के प्रवर्तक तथा स्वप्नदर्शी चिन्तक डॉ. बलदेव वंशी का निरीक्षण है—‘कविताओं में सर्वाधिक मुखर स्वर प्रकृतिपरक कविताओं, प्रकृति-तत्त्वों, प्रकृति-सत्यों, लयों-रंगतों-गतियों एवं विभिन्न बिम्ब-प्रतीकों आदि का है। इसी से कवि की समृद्ध अनुभूतिशीलता, संवेदना, दृष्टिबोध की व्यापकता का परिचय मिलता है और इसी के आधार पर उसके स्वर की प्रामाणिकता भी सिद्ध होती है; क्योंकि प्रकृति अपने आप में एक सत्य है।...निसर्ग (प्रकृति) के साथ ऐसा एकात्म भाव वैरमुत्तु के कवि की ऐसी विरल विशेषता है, जो उन्हें भिन्न एवं महत्त्वपूर्ण बनाती है। युग की बाज़ारवादी, आर्थिक भूमंडलीकरण की अमानवीयता एवं संवेदना-विहीनता के विपरीत वे आत्मिक एवं संवेदनात्मक आग्रहों को लेकर अपनी और भारतीय विश्वदृष्टि की विधेयता सिद्ध कर रहे हैं...‘माटी की गंध’ से भरपूर मस्ती और संघर्ष की साहसिक उत्फुल्लता तथा मज़दूर-ग़रीब-शोषित के प्रति अक्षय आत्मीयता उन्हें बृहत्तर आयामों से जोड़ती है।’ Bhartiy sahitya ke vartman yug ke shalaka-purush kamleshvar ji ke shabdon men—‘samkalin kavita paridrishya par tamil kavi vairmuttu ne jis tarah apne anuvad ke saath hindi mein upasthiti darj ki hai, usse sabit hota hai ki kavita bhashaon ki sima mein bandhi nahin rah sakti. In kavitaon mein vairmuttu apni sampurn pratibha aur kalatmak prakharta ke saath maujud hain. Vah shabdon ko dhvja ki tarah phahrakar kavita nahin bunte, varan samay ko pakadkar kavita mein hi bhavishya ka sapna gunth dete hain. Ve jivan mein shesh ho chali aasthaon ki punarrachna karte hain. Unke shabdon mein sanvedna ki chhayayen jhankati hain. . . . Kavi ke rachna-sansar mein vah sab kuchh hai jiske madhyam se vah aatma ki kshat-vikshat smritiyon mein jakar samay ki sanvedna aur khud ki srijanshilta ke manviy sroton ko khojta hai, tab hi kavita klasiki rangat ke saath pathkon ko jhakjhorne lagti hai. ’Hindi mein vichar-kavitaon ke prvartak tatha svapndarshi chintak dau. Baldev vanshi ka nirikshan hai—‘kavitaon mein sarvadhik mukhar svar prakritiprak kavitaon, prkriti-tattvon, prkriti-satyon, layon-rangton-gatiyon evan vibhinn bimb-prtikon aadi ka hai. Isi se kavi ki samriddh anubhutishilta, sanvedna, drishtibodh ki vyapakta ka parichay milta hai aur isi ke aadhar par uske svar ki pramanikta bhi siddh hoti hai; kyonki prkriti apne aap mein ek satya hai. . . . Nisarg (prkriti) ke saath aisa ekatm bhav vairmuttu ke kavi ki aisi viral visheshta hai, jo unhen bhinn evan mahattvpurn banati hai. Yug ki bazarvadi, aarthik bhumandlikran ki amanviyta evan sanvedna-vihinta ke viprit ve aatmik evan sanvednatmak aagrhon ko lekar apni aur bhartiy vishvdrishti ki vidheyta siddh kar rahe hain. . . ‘mati ki gandh’ se bharpur masti aur sangharsh ki sahsik utphullta tatha mazdur-garib-shoshit ke prati akshay aatmiyta unhen brihattar aayamon se jodti hai. ’