Look Inside
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat
Bina Munder Ki Chaat

Bina Munder Ki Chaat

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bina Munder Ki Chaat

Bina Munder Ki Chaat

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रेम रंजन अनिमेष भारतीय लोक की जड़ों में जीवित जिजीविषा के गायक हैं। उनकी कविताएँ हमारे आसपास फैली उन चीज़ों तक पहुँचती हैं जिन्हें हमने अब लगभग देखना बन्द कर दिया है लेकिन इसके बावजूद वे दुनिया को चलाए रखने में अपनी भूमिका निभा रही हैं। ये कविताएँ न किसी बड़े परिवर्तन का आह्वान करती हैं और न ऊँची हाँक लगाकर हमें कुछ ऐसा करने को कहती हैं जो हमें हमारे अतीत से काटकर किसी नए अनोखे संसार में स्थापित कर दे। भले ही वह कितना भी सुन्दर, कितना भी अद्भुत, कितना भी पूरा क्यों न हो। ये कविताएँ हमें अपने इसी अधूरे संसार में रच-बसकर जीने के सूत्र थमाती हैं। इसके दुखों की सुन्दरता, इसके अभावों का मोहक आकर्षण, इसकी विसंगतियों के भीतर छिपी आन्तरिक लय, और हर हाल में मौजूद उम्मीद, वे चीज़ें हैं जिन पर, लगता है कवि को आज के दावों-वादों की बड़बोली दुनिया में सबसे ज़्यादा यक़ीन है। कहने की आवश्यकता नहीं कि यही यक़ीन इस देश का सबसे बड़ा सम्बल आज भी है जब हर तरफ़ क़िस्म-क़िस्म के उद्धारकर्ता अपने-अपने ढंग से अपना-अपना उद्धार कर रहे हैं। ‘किसी बच्चे के कुछ सवाल लिए चला आया हूँ/एक सहपाठी के इम्तिहान कैसे गए जानना चाहता हूँ.../’ (पहली गली); ‘भरी हुई गाड़ी में/कैसे कहाँ रखूँ/टपटप चूता अपना छाता/जो बचाकर यहाँ तक लाया?’ (मनुष्यता); ‘इस विकसित तंत्र में/है नहीं ऐसा जरिया/जो पहुँचा पाए/रास्ते में पड़े एक पाँव के जूते को/उसके संगी तक...मैं ईश्वर को देखना चाहता हूँ इस नन्ही दुनिया में/अपने बड़े पाँव में एक नन्हा जूता पहने/दूसरे की तलाश में...’ (एक पाँव का जूता)।
धीमी आँच पर सिंकती-सेंकती ऐसी अनेक कविता-पंक्तियाँ, अनेक कविताएँ हैं जिन्हें आप उपलब्धियों की तरह हमेशा साथ रखना चाहेंगे। लोकभाव को बहुत गहरे में जीने और पुनर्रचित करनेवाले प्रेम रंजन अनिमेष इस संग्रह में पुन: साबित करते हैं कि लोक-बिम्ब काव्य-प्रविधि मात्र नहीं हैं, वे वैकल्पिक जीवन-दृष्टि के संवाहक हैं। Prem ranjan animesh bhartiy lok ki jadon mein jivit jijivisha ke gayak hain. Unki kavitayen hamare aaspas phaili un chizon tak pahunchati hain jinhen hamne ab lagbhag dekhna band kar diya hai lekin iske bavjud ve duniya ko chalaye rakhne mein apni bhumika nibha rahi hain. Ye kavitayen na kisi bade parivartan ka aahvan karti hain aur na uunchi hank lagakar hamein kuchh aisa karne ko kahti hain jo hamein hamare atit se katkar kisi ne anokhe sansar mein sthapit kar de. Bhale hi vah kitna bhi sundar, kitna bhi adbhut, kitna bhi pura kyon na ho. Ye kavitayen hamein apne isi adhure sansar mein rach-baskar jine ke sutr thamati hain. Iske dukhon ki sundarta, iske abhavon ka mohak aakarshan, iski visangatiyon ke bhitar chhipi aantrik lay, aur har haal mein maujud ummid, ve chizen hain jin par, lagta hai kavi ko aaj ke davon-vadon ki badboli duniya mein sabse zyada yaqin hai. Kahne ki aavashyakta nahin ki yahi yaqin is desh ka sabse bada sambal aaj bhi hai jab har taraf qism-qism ke uddharkarta apne-apne dhang se apna-apna uddhar kar rahe hain. ‘kisi bachche ke kuchh saval liye chala aaya hun/ek sahpathi ke imtihan kaise ge janna chahta hun. . . /’ (pahli gali); ‘bhari hui gadi men/kaise kahan rakhun/taptap chuta apna chhata/jo bachakar yahan tak laya?’ (manushyta); ‘is viksit tantr men/hai nahin aisa jariya/jo pahuncha paye/raste mein pade ek panv ke jute ko/uske sangi tak. . . Main iishvar ko dekhna chahta hun is nanhi duniya men/apne bade panv mein ek nanha juta pahne/dusre ki talash mein. . . ’ (ek panv ka juta). Dhimi aanch par sinkti-senkti aisi anek kavita-panktiyan, anek kavitayen hain jinhen aap uplabdhiyon ki tarah hamesha saath rakhna chahenge. Lokbhav ko bahut gahre mein jine aur punarrchit karnevale prem ranjan animesh is sangrah mein pun: sabit karte hain ki lok-bimb kavya-prvidhi matr nahin hain, ve vaikalpik jivan-drishti ke sanvahak hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products