Look Inside
Bihari Mazdooron Ki Peeda
Bihari Mazdooron Ki Peeda

Bihari Mazdooron Ki Peeda

Regular price Rs. 181
Sale price Rs. 181 Regular price Rs. 195
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bihari Mazdooron Ki Peeda

Bihari Mazdooron Ki Peeda

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मज़दूरों का विस्थापन न तो अकेले भारत में हो रहा है, न आज पहली बार। सभ्यता के प्रारम्भ से ही कामगारों-व्यापारियों का आवागमन चलता रहा है, लेकिन आज भूमंडलीकरण के दौर में भारत में मज़दूरों को प्रवासी बनानेवाली स्थितियाँ और वजहें बिलकुल अलग क़‍िस्म की हैं। उनका स्वरूप इस क़दर अलग है कि उनसे एक नए घटनाक्रम का आभास होता है। ज्ञात इतिहास में शायद ही कभी, लाखों नहीं, करोड़ों की संख्या में मज़दूर अपना घर-बार छोड़कर कमाने, पेट पालने और अपने आश्रितों के भरण-पोषण के लिए बाहर निकल पड़े हों।
देश के सबसे पिछड़े राज्य बिहार और सबसे विकसित राज्य पंजाब के बीच मज़दूरों की आवाजाही आज सबसे अधिक ध्यान खींच रही है। यह संख्या लाखों में है। पंजाब की अर्थव्यवस्था, वहाँ के शहरी-ग्रामीण जीवन में बिहार के 'भैया' मज़दूर अनिवार्य अंग बन गए हैं और बिहार के सबसे पिछड़े इलाक़ों के जीवन और नए विकास की सुगबुगाहट में पंजाब की कमाई एक आधार बनती जा रही है। यह पुस्तक इसी प्रवृत्ति, इसी बदलाव, इसी प्रभाव के अध्ययन की एक कोशिश है। इस कोशिश में लेखक के साल-भर गहन अध्ययन, लम्बी यात्राओं और मज़दूरों के साथ बिताए समय से पुस्तक आधिकारिक दस्तावेज़ और किसी रोचक कथा जैसी बन पड़ी है।
पंजाब और बिहार के बीच शटल की तरह डोलते मज़दूरों की जीवन-शैली की टोह लेती यह कथा कभी पंजाब का नज़ारा पेश करती है तो कभी बिहार के धुर पिछड़े गाँवों का। शैली इतनी रोचक और मार्मिक है कि लाखों प्रवासी मज़दूरों और पंजाब पर उनके असर के तमाम विवरणों का बखान करती यह पुस्तक कब ख़त्म हो जाती है, पता ही नहीं चलता। Mazduron ka visthapan na to akele bharat mein ho raha hai, na aaj pahli baar. Sabhyta ke prarambh se hi kamgaron-vyapariyon ka aavagman chalta raha hai, lekin aaj bhumandlikran ke daur mein bharat mein mazduron ko prvasi bananevali sthitiyan aur vajhen bilkul alag qa‍ism ki hain. Unka svrup is qadar alag hai ki unse ek ne ghatnakram ka aabhas hota hai. Gyat itihas mein shayad hi kabhi, lakhon nahin, karodon ki sankhya mein mazdur apna ghar-bar chhodkar kamane, pet palne aur apne aashriton ke bharan-poshan ke liye bahar nikal pade hon. Desh ke sabse pichhde rajya bihar aur sabse viksit rajya panjab ke bich mazduron ki aavajahi aaj sabse adhik dhyan khinch rahi hai. Ye sankhya lakhon mein hai. Panjab ki arthavyvastha, vahan ke shahri-gramin jivan mein bihar ke bhaiya mazdur anivarya ang ban ge hain aur bihar ke sabse pichhde ilaqon ke jivan aur ne vikas ki sugabugahat mein panjab ki kamai ek aadhar banti ja rahi hai. Ye pustak isi prvritti, isi badlav, isi prbhav ke adhyyan ki ek koshish hai. Is koshish mein lekhak ke sal-bhar gahan adhyyan, lambi yatraon aur mazduron ke saath bitaye samay se pustak aadhikarik dastavez aur kisi rochak katha jaisi ban padi hai.
Panjab aur bihar ke bich shatal ki tarah dolte mazduron ki jivan-shaili ki toh leti ye katha kabhi panjab ka nazara pesh karti hai to kabhi bihar ke dhur pichhde ganvon ka. Shaili itni rochak aur marmik hai ki lakhon prvasi mazduron aur panjab par unke asar ke tamam vivarnon ka bakhan karti ye pustak kab khatm ho jati hai, pata hi nahin chalta.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products