BackBack
-11%

Bhuri-Bhuri Khak-Dhool

Rs. 495 Rs. 441

“मुक्तिबोध एक ऐसे कवि हैं जो अपने समय में अपने पूरे दिल और दिमाग़ के साथ, अपनी पूरी मनुष्यता के साथ रहते हैं। वे अपनी एक ऐसी निजी प्रतीक-व्यवस्था विकसित करते हैं कि जिसके माध्यम से सार्वजनिक घटनाओं की दुनिया और कवि की निजी दुनिया एक सार्थक और अटूट संयोग... Read More

BlackBlack
Description

“मुक्तिबोध एक ऐसे कवि हैं जो अपने समय में अपने पूरे दिल और दिमाग़ के साथ, अपनी पूरी मनुष्यता के साथ रहते हैं। वे अपनी एक ऐसी निजी प्रतीक-व्यवस्था विकसित करते हैं कि जिसके माध्यम से सार्वजनिक घटनाओं की दुनिया और कवि की निजी दुनिया एक सार्थक और अटूट संयोग में प्रकट हो सके। एक सच्चे कवि की तरह वे सरलीकरणों से इनकार करते हैं। वे विचार या अनुभव से आतंकित नहीं होते। वे यथार्थ को जैसा पाते हैं वैसा उसे समझने और उसका विश्लेषण करने की कोशिश करते हैं और उनकी कविता का एक बड़ा हिस्सा अनुभव की अनथक व्याख्या और पड़ताल का उत्तेजक साक्ष्य है। मुक्तिबोध मनुष्य के विरुद्ध हो रहे विराट षड्यंत्र के शिकार के रूप में ही नहीं लिखते, बल्कि वे उस षड्यंत्र में अपनी हिस्सेदारी की भी खोज करते और उसे बेझिझक ज़ाहिर करते हैं। इसीलिए उनकी कविता निरा तटस्थ बखान नहीं, बल्कि निजी प्रामाणिकता और ‘इन्वॉल्वमेंट’ की कविता है। उनकी आवाज़ एक दोस्ताना आवाज़ है और उनके शब्द मित्रता में भीगे और करुणा-भरे शब्द हैं। ब्रेख़्त की तरह उन्हें मालूम है कि ‘जो हँसता है, उसे भयानक ख़बर बताई नहीं गई है। वे भयानक ख़बर के कवि हैं—हिन्दी में शायद अकेले। उन्होंने हमारे समय में आदमी की हालत की पूरी परिभाषा अलभ्य साहस और शक्ति से करने की अद्वितीय कोशिश की है।’
‘भूरी-भूरी ख़ाक धूल’ में मुक्तिबोध की कविता की इन सभी ख़ूबियों का एक नया स्तर खुलता है। ‘चाँद का मुँह टेढ़ा है’ के बाद, प्रकाशन-क्रम के लिहाज़ से, यह उनकी कविताओं का दूसरा संग्रह है। इसमें उनकी पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित कविताएँ हैं, साथ ही अधिकांशतः ऐसी कविताएँ भी हैं जो अब तक बिलकुल अप्रकाशित रही हैं। इन कविताओं में आज के उत्पीड़न-भरे समाज को बदलने का आकुल आग्रह तथा ‘जनसंघर्षों की निर्णायक स्थिति’ में अमानवीय व्यवस्था के ‘कालान्त द्वार’ तोड़ डालने का दृढ़ संकल्प विस्मयकारी शक्ति के साथ अभिव्यक्त हुआ है। अपनी प्रचंड सर्जनात्मक ऊर्जा के कारण ये कविताएँ मन को झकझोरती भी हैं और समृद्ध भी करती हैं। यह आकस्मिक नहीं है कि मृत्यु के वर्षों बाद आज भी मुक्तिबोध हिन्दी के सर्वाधिक चर्चित कवि हैं। “muktibodh ek aise kavi hain jo apne samay mein apne pure dil aur dimag ke saath, apni puri manushyta ke saath rahte hain. Ve apni ek aisi niji prtik-vyvastha viksit karte hain ki jiske madhyam se sarvajnik ghatnaon ki duniya aur kavi ki niji duniya ek sarthak aur atut sanyog mein prkat ho sake. Ek sachche kavi ki tarah ve sarlikarnon se inkar karte hain. Ve vichar ya anubhav se aatankit nahin hote. Ve yatharth ko jaisa pate hain vaisa use samajhne aur uska vishleshan karne ki koshish karte hain aur unki kavita ka ek bada hissa anubhav ki anthak vyakhya aur padtal ka uttejak sakshya hai. Muktibodh manushya ke viruddh ho rahe virat shadyantr ke shikar ke rup mein hi nahin likhte, balki ve us shadyantr mein apni hissedari ki bhi khoj karte aur use bejhijhak zahir karte hain. Isiliye unki kavita nira tatasth bakhan nahin, balki niji pramanikta aur ‘invaulvment’ ki kavita hai. Unki aavaz ek dostana aavaz hai aur unke shabd mitrta mein bhige aur karuna-bhare shabd hain. Brekht ki tarah unhen malum hai ki ‘jo hansata hai, use bhayanak khabar batai nahin gai hai. Ve bhayanak khabar ke kavi hain—hindi mein shayad akele. Unhonne hamare samay mein aadmi ki halat ki puri paribhasha alabhya sahas aur shakti se karne ki advitiy koshish ki hai. ’‘bhuri-bhuri khak dhul’ mein muktibodh ki kavita ki in sabhi khubiyon ka ek naya star khulta hai. ‘chand ka munh tedha hai’ ke baad, prkashan-kram ke lihaz se, ye unki kavitaon ka dusra sangrah hai. Ismen unki patr-patrikaon mein prkashit kavitayen hain, saath hi adhikanshatः aisi kavitayen bhi hain jo ab tak bilkul aprkashit rahi hain. In kavitaon mein aaj ke utpidan-bhare samaj ko badalne ka aakul aagrah tatha ‘jansangharshon ki nirnayak sthiti’ mein amanviy vyvastha ke ‘kalant dvar’ tod dalne ka dridh sankalp vismaykari shakti ke saath abhivyakt hua hai. Apni prchand sarjnatmak uurja ke karan ye kavitayen man ko jhakjhorti bhi hain aur samriddh bhi karti hain. Ye aakasmik nahin hai ki mrityu ke varshon baad aaj bhi muktibodh hindi ke sarvadhik charchit kavi hain.