BackBack
-11%

Bhukamp

Rs. 250 Rs. 223

भूकम्प है क्या? यह किन परिस्थितियों में विध्वंसक हो जाता है? क्या इससे बचने का कोई उपाय है? इन और ऐसे ही अनेक प्रश्नों के माध्यम से इस पुस्तक में भूकम्प जैसे भौगोलिक और वैज्ञानिक विषय की शोध–खोज की गई है—यानी पृथ्वी के भीतरी, सर्वाधिक भयावह और रोमांचक घटना–क्षणों की... Read More

BlackBlack
Description

भूकम्प है क्या? यह किन परिस्थितियों में विध्वंसक हो जाता है? क्या इससे बचने का कोई उपाय है? इन और ऐसे ही अनेक प्रश्नों के माध्यम से इस पुस्तक में भूकम्प जैसे भौगोलिक और वैज्ञानिक विषय की शोध–खोज की गई है—यानी पृथ्वी के भीतरी, सर्वाधिक भयावह और रोमांचक घटना–क्षणों की विस्तृत और रोचक छानबीन।
भूकम्पों के कारण, उनके पूर्वानुमान, भूकम्प–विज्ञान के विभिन्न उपयोगों—जैसे भूकम्प इंजीनियरिंग, नाभिकीय विस्फोटों का पता एवं चन्द्र–कम्पों आदि के बारे में आधुनिक अनुसन्धानों की विस्तृत चर्चा इस पुस्तक में की गई है। यद्यपि यह विषय भौतिकी और गणित के मूल सिद्धान्तों पर आधारित है, पर अपनी सहज भाषा–शैली और सार्थक प्रस्तुति के कारण दुरूह बिलकुल नहीं रह गया है।
भूगोल के विद्यार्थियों, प्रोफ़ेसरों, भूगर्भशास्त्रियों, इंजीनियरों और धरती के गर्भ में पलते–पनपते, उमड़ते–घुमड़ते रहस्यों को जानने की इच्छा रखनेवाले सामान्य पाठकों के लिए भी यह सचित्र प्रकाशन समान रूप से उपयोगी और अनूठा है। Bhukamp hai kya? ye kin paristhitiyon mein vidhvansak ho jata hai? kya isse bachne ka koi upay hai? in aur aise hi anek prashnon ke madhyam se is pustak mein bhukamp jaise bhaugolik aur vaigyanik vishay ki shodh–khoj ki gai hai—yani prithvi ke bhitri, sarvadhik bhayavah aur romanchak ghatna–kshnon ki vistrit aur rochak chhanbin. Bhukampon ke karan, unke purvanuman, bhukamp–vigyan ke vibhinn upyogon—jaise bhukamp injiniyring, nabhikiy visphoton ka pata evan chandr–kampon aadi ke bare mein aadhunik anusandhanon ki vistrit charcha is pustak mein ki gai hai. Yadyapi ye vishay bhautiki aur ganit ke mul siddhanton par aadharit hai, par apni sahaj bhasha–shaili aur sarthak prastuti ke karan duruh bilkul nahin rah gaya hai.
Bhugol ke vidyarthiyon, profesron, bhugarbhshastriyon, injiniyron aur dharti ke garbh mein palte–panapte, umadte–ghumadte rahasyon ko janne ki ichchha rakhnevale samanya pathkon ke liye bhi ye sachitr prkashan saman rup se upyogi aur anutha hai.