BackBack

Bhramargeet Saar

Rs. 120

सूर के कृष्ण-प्रेम तथा भक्ति के सागर ‘सूरसागर’ का सबसे मूल्यवान मोती है ‘भ्रमरगीत’ जिसमें सूरदास के हृदय से निकली अपूर्व रसधारा बही है। ‘भ्रमरगीत सार’ के संकलन-सम्पादन का कार्य आचार्य शुक्ल ने 1920 में शुरू किया था, लेकिन ठीक से पूरा होने में इसे कुछ समय लगा। लगभग चार... Read More

PaperbackPaperback
readsample_tab

सूर के कृष्ण-प्रेम तथा भक्ति के सागर ‘सूरसागर’ का सबसे मूल्यवान मोती है ‘भ्रमरगीत’ जिसमें सूरदास के हृदय से निकली अपूर्व रसधारा बही है। ‘भ्रमरगीत सार’ के संकलन-सम्पादन का कार्य आचार्य शुक्ल ने 1920 में शुरू किया था, लेकिन ठीक से पूरा होने में इसे कुछ समय लगा। लगभग चार सौ पदों के इस संचयन में उस समय कुछ पुनरुक्ति दोष भी रह गया था जिसे पुस्तक की लोकप्रियता और लगातार बढ़ती माँग के चलते, ठीक करने का समय आचार्य नहीं जुटा पाए थे।
प्रस्तुत संस्करण वरिष्ठ आलोचक और आचार्य शुक्ल के समीप रहे विश्वनाथ प्रसाद मिश्र द्वारा सम्पादित है। सो इसमें नए पाठकों की सुविधा के लिए कुछ और टिप्पणियाँ भी जोड़ दी गई हैं, जिन्हें हम ‘चूर्णिका’ शीर्षक से पुस्तक के अन्त में पाएँगे।
आचार्य शुक्ल के शब्दों में सूरदास का प्रेम-पथ ‘लोक से न्यारा’ है। गोपियों के प्रेम-भाव की गम्भीरता उद्धव के ज्ञान-गर्व को मिटाती हुई दिखाई पड़ती है। वह भक्ति की एकान्‍त साधना का आदर्श प्रतिष्ठित करती जान पड़ती है, लोकधर्म के किसी अंग का नहीं। सूरदास सच्चे प्रेम-मार्ग के त्याग और पवित्रता को ज्ञान-मार्ग के त्याग और पवित्रता के समकक्ष खड़ा करने में सफल रहे हैं। साथ ही, उन्होंने उस त्याग को रागात्मिका वृत्ति द्वारा प्रेरित दिखाकर भक्ति या प्रेम-मार्ग की सुगमता भी प्रतिपादित की है।
पदों के प्रामाणिक पाठ के साथ आचार्य शुक्ल की सुदीर्घ व्याख्या इस पुस्तक को सूर के प्रेम-पक्ष की मूल्यवान विवेचना का रूप देती है, जो मध्यकालीन काव्य, विशेषकर भक्तिधारा के अध्येताओं के साथ ही भाव-प्रेमी पाठकों के लिए भी आनन्द का स्रोत सिद्ध होती है। Sur ke krishn-prem tatha bhakti ke sagar ‘sursagar’ ka sabse mulyvan moti hai ‘bhramargit’ jismen surdas ke hriday se nikli apurv rasdhara bahi hai. ‘bhramargit sar’ ke sanklan-sampadan ka karya aacharya shukl ne 1920 mein shuru kiya tha, lekin thik se pura hone mein ise kuchh samay laga. Lagbhag char sau padon ke is sanchyan mein us samay kuchh punrukti dosh bhi rah gaya tha jise pustak ki lokapriyta aur lagatar badhti mang ke chalte, thik karne ka samay aacharya nahin juta paye the. Prastut sanskran varishth aalochak aur aacharya shukl ke samip rahe vishvnath prsad mishr dvara sampadit hai. So ismen ne pathkon ki suvidha ke liye kuchh aur tippaniyan bhi jod di gai hain, jinhen hum ‘churnika’ shirshak se pustak ke ant mein payenge.
Aacharya shukl ke shabdon mein surdas ka prem-path ‘lok se nyara’ hai. Gopiyon ke prem-bhav ki gambhirta uddhav ke gyan-garv ko mitati hui dikhai padti hai. Vah bhakti ki ekan‍ta sadhna ka aadarsh prtishthit karti jaan padti hai, lokdharm ke kisi ang ka nahin. Surdas sachche prem-marg ke tyag aur pavitrta ko gyan-marg ke tyag aur pavitrta ke samkaksh khada karne mein saphal rahe hain. Saath hi, unhonne us tyag ko ragatmika vritti dvara prerit dikhakar bhakti ya prem-marg ki sugamta bhi pratipadit ki hai.
Padon ke pramanik path ke saath aacharya shukl ki sudirgh vyakhya is pustak ko sur ke prem-paksh ki mulyvan vivechna ka rup deti hai, jo madhykalin kavya, visheshkar bhaktidhara ke adhyetaon ke saath hi bhav-premi pathkon ke liye bhi aanand ka srot siddh hoti hai.

Description

सूर के कृष्ण-प्रेम तथा भक्ति के सागर ‘सूरसागर’ का सबसे मूल्यवान मोती है ‘भ्रमरगीत’ जिसमें सूरदास के हृदय से निकली अपूर्व रसधारा बही है। ‘भ्रमरगीत सार’ के संकलन-सम्पादन का कार्य आचार्य शुक्ल ने 1920 में शुरू किया था, लेकिन ठीक से पूरा होने में इसे कुछ समय लगा। लगभग चार सौ पदों के इस संचयन में उस समय कुछ पुनरुक्ति दोष भी रह गया था जिसे पुस्तक की लोकप्रियता और लगातार बढ़ती माँग के चलते, ठीक करने का समय आचार्य नहीं जुटा पाए थे।
प्रस्तुत संस्करण वरिष्ठ आलोचक और आचार्य शुक्ल के समीप रहे विश्वनाथ प्रसाद मिश्र द्वारा सम्पादित है। सो इसमें नए पाठकों की सुविधा के लिए कुछ और टिप्पणियाँ भी जोड़ दी गई हैं, जिन्हें हम ‘चूर्णिका’ शीर्षक से पुस्तक के अन्त में पाएँगे।
आचार्य शुक्ल के शब्दों में सूरदास का प्रेम-पथ ‘लोक से न्यारा’ है। गोपियों के प्रेम-भाव की गम्भीरता उद्धव के ज्ञान-गर्व को मिटाती हुई दिखाई पड़ती है। वह भक्ति की एकान्‍त साधना का आदर्श प्रतिष्ठित करती जान पड़ती है, लोकधर्म के किसी अंग का नहीं। सूरदास सच्चे प्रेम-मार्ग के त्याग और पवित्रता को ज्ञान-मार्ग के त्याग और पवित्रता के समकक्ष खड़ा करने में सफल रहे हैं। साथ ही, उन्होंने उस त्याग को रागात्मिका वृत्ति द्वारा प्रेरित दिखाकर भक्ति या प्रेम-मार्ग की सुगमता भी प्रतिपादित की है।
पदों के प्रामाणिक पाठ के साथ आचार्य शुक्ल की सुदीर्घ व्याख्या इस पुस्तक को सूर के प्रेम-पक्ष की मूल्यवान विवेचना का रूप देती है, जो मध्यकालीन काव्य, विशेषकर भक्तिधारा के अध्येताओं के साथ ही भाव-प्रेमी पाठकों के लिए भी आनन्द का स्रोत सिद्ध होती है। Sur ke krishn-prem tatha bhakti ke sagar ‘sursagar’ ka sabse mulyvan moti hai ‘bhramargit’ jismen surdas ke hriday se nikli apurv rasdhara bahi hai. ‘bhramargit sar’ ke sanklan-sampadan ka karya aacharya shukl ne 1920 mein shuru kiya tha, lekin thik se pura hone mein ise kuchh samay laga. Lagbhag char sau padon ke is sanchyan mein us samay kuchh punrukti dosh bhi rah gaya tha jise pustak ki lokapriyta aur lagatar badhti mang ke chalte, thik karne ka samay aacharya nahin juta paye the. Prastut sanskran varishth aalochak aur aacharya shukl ke samip rahe vishvnath prsad mishr dvara sampadit hai. So ismen ne pathkon ki suvidha ke liye kuchh aur tippaniyan bhi jod di gai hain, jinhen hum ‘churnika’ shirshak se pustak ke ant mein payenge.
Aacharya shukl ke shabdon mein surdas ka prem-path ‘lok se nyara’ hai. Gopiyon ke prem-bhav ki gambhirta uddhav ke gyan-garv ko mitati hui dikhai padti hai. Vah bhakti ki ekan‍ta sadhna ka aadarsh prtishthit karti jaan padti hai, lokdharm ke kisi ang ka nahin. Surdas sachche prem-marg ke tyag aur pavitrta ko gyan-marg ke tyag aur pavitrta ke samkaksh khada karne mein saphal rahe hain. Saath hi, unhonne us tyag ko ragatmika vritti dvara prerit dikhakar bhakti ya prem-marg ki sugamta bhi pratipadit ki hai.
Padon ke pramanik path ke saath aacharya shukl ki sudirgh vyakhya is pustak ko sur ke prem-paksh ki mulyvan vivechna ka rup deti hai, jo madhykalin kavya, visheshkar bhaktidhara ke adhyetaon ke saath hi bhav-premi pathkon ke liye bhi aanand ka srot siddh hoti hai.

Additional Information
Book Type

Paperback

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Bhramargeet Saar

सूर के कृष्ण-प्रेम तथा भक्ति के सागर ‘सूरसागर’ का सबसे मूल्यवान मोती है ‘भ्रमरगीत’ जिसमें सूरदास के हृदय से निकली अपूर्व रसधारा बही है। ‘भ्रमरगीत सार’ के संकलन-सम्पादन का कार्य आचार्य शुक्ल ने 1920 में शुरू किया था, लेकिन ठीक से पूरा होने में इसे कुछ समय लगा। लगभग चार सौ पदों के इस संचयन में उस समय कुछ पुनरुक्ति दोष भी रह गया था जिसे पुस्तक की लोकप्रियता और लगातार बढ़ती माँग के चलते, ठीक करने का समय आचार्य नहीं जुटा पाए थे।
प्रस्तुत संस्करण वरिष्ठ आलोचक और आचार्य शुक्ल के समीप रहे विश्वनाथ प्रसाद मिश्र द्वारा सम्पादित है। सो इसमें नए पाठकों की सुविधा के लिए कुछ और टिप्पणियाँ भी जोड़ दी गई हैं, जिन्हें हम ‘चूर्णिका’ शीर्षक से पुस्तक के अन्त में पाएँगे।
आचार्य शुक्ल के शब्दों में सूरदास का प्रेम-पथ ‘लोक से न्यारा’ है। गोपियों के प्रेम-भाव की गम्भीरता उद्धव के ज्ञान-गर्व को मिटाती हुई दिखाई पड़ती है। वह भक्ति की एकान्‍त साधना का आदर्श प्रतिष्ठित करती जान पड़ती है, लोकधर्म के किसी अंग का नहीं। सूरदास सच्चे प्रेम-मार्ग के त्याग और पवित्रता को ज्ञान-मार्ग के त्याग और पवित्रता के समकक्ष खड़ा करने में सफल रहे हैं। साथ ही, उन्होंने उस त्याग को रागात्मिका वृत्ति द्वारा प्रेरित दिखाकर भक्ति या प्रेम-मार्ग की सुगमता भी प्रतिपादित की है।
पदों के प्रामाणिक पाठ के साथ आचार्य शुक्ल की सुदीर्घ व्याख्या इस पुस्तक को सूर के प्रेम-पक्ष की मूल्यवान विवेचना का रूप देती है, जो मध्यकालीन काव्य, विशेषकर भक्तिधारा के अध्येताओं के साथ ही भाव-प्रेमी पाठकों के लिए भी आनन्द का स्रोत सिद्ध होती है। Sur ke krishn-prem tatha bhakti ke sagar ‘sursagar’ ka sabse mulyvan moti hai ‘bhramargit’ jismen surdas ke hriday se nikli apurv rasdhara bahi hai. ‘bhramargit sar’ ke sanklan-sampadan ka karya aacharya shukl ne 1920 mein shuru kiya tha, lekin thik se pura hone mein ise kuchh samay laga. Lagbhag char sau padon ke is sanchyan mein us samay kuchh punrukti dosh bhi rah gaya tha jise pustak ki lokapriyta aur lagatar badhti mang ke chalte, thik karne ka samay aacharya nahin juta paye the. Prastut sanskran varishth aalochak aur aacharya shukl ke samip rahe vishvnath prsad mishr dvara sampadit hai. So ismen ne pathkon ki suvidha ke liye kuchh aur tippaniyan bhi jod di gai hain, jinhen hum ‘churnika’ shirshak se pustak ke ant mein payenge.
Aacharya shukl ke shabdon mein surdas ka prem-path ‘lok se nyara’ hai. Gopiyon ke prem-bhav ki gambhirta uddhav ke gyan-garv ko mitati hui dikhai padti hai. Vah bhakti ki ekan‍ta sadhna ka aadarsh prtishthit karti jaan padti hai, lokdharm ke kisi ang ka nahin. Surdas sachche prem-marg ke tyag aur pavitrta ko gyan-marg ke tyag aur pavitrta ke samkaksh khada karne mein saphal rahe hain. Saath hi, unhonne us tyag ko ragatmika vritti dvara prerit dikhakar bhakti ya prem-marg ki sugamta bhi pratipadit ki hai.
Padon ke pramanik path ke saath aacharya shukl ki sudirgh vyakhya is pustak ko sur ke prem-paksh ki mulyvan vivechna ka rup deti hai, jo madhykalin kavya, visheshkar bhaktidhara ke adhyetaon ke saath hi bhav-premi pathkon ke liye bhi aanand ka srot siddh hoti hai.