BackBack
-11%

Bhram Aur Nirsan

Rs. 150 Rs. 134

नरेंद्र दाभोलकर का ज़‍िन्दगी के सारे चिन्तन और सामाजिक सुधारों में यही प्रयास था कि इंसान विवेकवादी बने। उनका किसी जाति-धर्म-वर्ण के प्रति विद्रोह नहीं था। लेकिन षड्यंत्रकारी राजनीति के चलते अपनी सत्ता की कुर्सियों, धर्माडम्बरी गढ़ों को बनाए रखने के लिए उन्हें हिन्दू विरोधी करार देने की कोशिश की... Read More

BlackBlack
Description

नरेंद्र दाभोलकर का ज़‍िन्दगी के सारे चिन्तन और सामाजिक सुधारों में यही प्रयास था कि इंसान विवेकवादी बने। उनका किसी जाति-धर्म-वर्ण के प्रति विद्रोह नहीं था। लेकिन षड्यंत्रकारी राजनीति के चलते अपनी सत्ता की कुर्सियों, धर्माडम्बरी गढ़ों को बनाए रखने के लिए उन्हें हिन्दू विरोधी करार देने की कोशिश की गई और कट्टर हिन्दुओं के धार्मिक अन्धविश्वासों के चलते एक सुधारक का ख़ून किया गया।
एक सामान्य बात बहुत अहम है, वह यह कि विवेकवादी बनने से हमारा लाभ होता है या हानि इसे सोचें। अगर हमें यह लगे कि हमारा लाभ होता है तो उस रास्ते पर चलें। दूसरी बात यह भी याद रखें कि धर्माडम्बरी, पाखंडी बाबा तथा झूठ का सहारा लेनेवाले व्यक्ति का अविवेक उसे स्वार्थी बनाकर निजी लाभ का मार्ग बता देता है, अर्थात् उसमें उसका लाभ होता है और उसकी नज़र से उस लाभ को पाना सही भी लगता है; लेकिन उसके पाखंड, झूठ के झाँसे से हमें हमारा विवेक बचा सकता है।
‘भ्रम और निरसन’ किताब इसी विवेकवाद को पुख्ता करती है। हमारी आँखों को खोल देती है और हमें लगने लगता है कि भाई आज तक हमने कितनी ग़लत धारणाओं के साथ ज़‍िन्दगी जी है। मन में पैदा होनेवाला यह अपराधबोध ही विवेकवादी रास्तों पर जाने की प्राथमिक पहल है।
सोलह से पच्चीस की अवस्था में मनुष्य का मन एक तो श्रद्धाशील बन जाता है या बुद्धिवादी बन जाता है। बहुत सारे लोग समझौतावादी बन जाते हैं। इसीलिए अन्धविश्वास का त्याग करने के ज़रूरी प्रयास कॉलेजों के युवक-युवतियों में ही होने चाहिए। क्षण-प्रतिक्षण तांत्रिक, गुरु अथवा ईश्वर के पास जाने की आदत बन गई कि पुरुषार्थ ख़त्म हो जाता, यह उन्हें समझना चाहिए या समझाना पड़़ेगा। भारतीय जनमानस और देश को लग चुका अन्धविश्वास का यह खग्रास ग्रहण श्री नरेंद्र दाभोलकर जी के प्रयासों से थोड़ा-बहुत भी कम हो गया तो भी लाभप्रद हो सकता है। वैज्ञानिक खोजबीन अपनी चरमसीमा को छू रही है। ऐसे दौर में अन्धविश्वासों का चश्मा आँखों पर लगाकर लडख़ड़ाते क़दम उठाने में कौन सी अक्लमन्दी है? —नारायण गणेश गोरे Narendr dabholkar ka za‍indagi ke sare chintan aur samajik sudharon mein yahi pryas tha ki insan vivekvadi bane. Unka kisi jati-dharm-varn ke prati vidroh nahin tha. Lekin shadyantrkari rajniti ke chalte apni satta ki kursiyon, dharmadambri gadhon ko banaye rakhne ke liye unhen hindu virodhi karar dene ki koshish ki gai aur kattar hinduon ke dharmik andhvishvason ke chalte ek sudharak ka khun kiya gaya. Ek samanya baat bahut aham hai, vah ye ki vivekvadi banne se hamara labh hota hai ya hani ise sochen. Agar hamein ye lage ki hamara labh hota hai to us raste par chalen. Dusri baat ye bhi yaad rakhen ki dharmadambri, pakhandi baba tatha jhuth ka sahara lenevale vyakti ka avivek use svarthi banakar niji labh ka marg bata deta hai, arthat usmen uska labh hota hai aur uski nazar se us labh ko pana sahi bhi lagta hai; lekin uske pakhand, jhuth ke jhanse se hamein hamara vivek bacha sakta hai.
‘bhram aur nirsan’ kitab isi vivekvad ko pukhta karti hai. Hamari aankhon ko khol deti hai aur hamein lagne lagta hai ki bhai aaj tak hamne kitni galat dharnaon ke saath za‍indagi ji hai. Man mein paida honevala ye apradhbodh hi vivekvadi raston par jane ki prathmik pahal hai.
Solah se pachchis ki avastha mein manushya ka man ek to shraddhashil ban jata hai ya buddhivadi ban jata hai. Bahut sare log samjhautavadi ban jate hain. Isiliye andhvishvas ka tyag karne ke zaruri pryas kaulejon ke yuvak-yuvatiyon mein hi hone chahiye. Kshan-prtikshan tantrik, guru athva iishvar ke paas jane ki aadat ban gai ki purusharth khatm ho jata, ye unhen samajhna chahiye ya samjhana padega. Bhartiy janmanas aur desh ko lag chuka andhvishvas ka ye khagras grhan shri narendr dabholkar ji ke pryason se thoda-bahut bhi kam ho gaya to bhi labhaprad ho sakta hai. Vaigyanik khojbin apni charamsima ko chhu rahi hai. Aise daur mein andhvishvason ka chashma aankhon par lagakar ladakhdate qadam uthane mein kaun si aklmandi hai? —narayan ganesh gore