BackBack

Bhoo-Devta

Rs. 99

तेलगू साहित्य में एक वाद के रूप में दलितवाद के स्थापित होने से पहले से ही केशव रेड्डी की कथा-रचनाओं में दलितों की समस्याओं का मार्मिक चित्रण अभिव्यक्त है। प्रस्तुत उपन्यास ‘भू-देवता’ एक किसान की मृत्यु और उसके पुनरुत्थान की गाथा है। उस किसान के प्रयत्न से लेकर उसकी विफलता... Read More

Description

तेलगू साहित्य में एक वाद के रूप में दलितवाद के स्थापित होने से पहले से ही केशव रेड्डी की कथा-रचनाओं में दलितों की समस्याओं का मार्मिक चित्रण अभिव्यक्त है। प्रस्तुत उपन्यास ‘भू-देवता’ एक किसान की मृत्यु और उसके पुनरुत्थान की गाथा है। उस किसान के प्रयत्न से लेकर उसकी विफलता तक की, असुरक्षा से उन्माद तक की और उन्माद से मृत्यु तक की यात्रा का यहाँ अंकन है। ‘भू-देवता’ का कथाकाल 1950 है। स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद जिस समय भारत नए सिरे से अपना स्वरूप गढ़ रहा था, उस समय की ये घटनाएँ हैं। लगभग 70 वर्ष पहले जिस प्रान्त में रोज़ ही अकाल तांडव करता रहता था, उस प्रान्त की दु:स्थिति का चित्रण केशव रेड्डी ने यहाँ बक्कि रेड्डी के माध्यम से किया है। ज़मीन और किसान का सम्बन्ध वही होता है जो मनुष्य और उसके प्राण का होता है। यह कहने में कोई अतिशयोक्ति नहीं है कि भूमिरहित किसान का जीवन कटी पतंग के समान होता है। भूमि को किसान से अलग करने पर हानि केवल किसान की ही नहीं होती, कृषि पर निर्भर बढ़ई, लोहार, राज-मज़दूर जैसे अनेक पेशों के लोगों की भी हानि होती है। यह समस्या भी केशव रेड्डी के इस उपन्यास में उभरकर आती है। राज्य खो गया, इस व्यथा से कोलंद रेड्डी और भूमि हाथ से छूट गई, इस व्यथा से बक्कि रेड्डी दोनों ही अन्तत: अपने प्राणत्याग करते हैं। निस्सन्देह किसानी जीवन की एक मार्मिक दास्तान है यह उपन्यास ‘भू-देवता’। Telgu sahitya mein ek vaad ke rup mein dalitvad ke sthapit hone se pahle se hi keshav reddi ki katha-rachnaon mein daliton ki samasyaon ka marmik chitran abhivyakt hai. Prastut upanyas ‘bhu-devta’ ek kisan ki mrityu aur uske punrutthan ki gatha hai. Us kisan ke pryatn se lekar uski viphalta tak ki, asuraksha se unmad tak ki aur unmad se mrityu tak ki yatra ka yahan ankan hai. ‘bhu-devta’ ka kathakal 1950 hai. Svtantrta prapt karne ke baad jis samay bharat ne sire se apna svrup gadh raha tha, us samay ki ye ghatnayen hain. Lagbhag 70 varsh pahle jis prant mein roz hi akal tandav karta rahta tha, us prant ki du:sthiti ka chitran keshav reddi ne yahan bakki reddi ke madhyam se kiya hai. Zamin aur kisan ka sambandh vahi hota hai jo manushya aur uske pran ka hota hai. Ye kahne mein koi atishyokti nahin hai ki bhumirhit kisan ka jivan kati patang ke saman hota hai. Bhumi ko kisan se alag karne par hani keval kisan ki hi nahin hoti, krishi par nirbhar badhii, lohar, raj-mazdur jaise anek peshon ke logon ki bhi hani hoti hai. Ye samasya bhi keshav reddi ke is upanyas mein ubharkar aati hai. Rajya kho gaya, is vytha se koland reddi aur bhumi hath se chhut gai, is vytha se bakki reddi donon hi antat: apne pranatyag karte hain. Nissandeh kisani jivan ki ek marmik dastan hai ye upanyas ‘bhu-devta’.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year