BackBack

Bhishm Pitamah

Rs. 95

भारतीय पौराणिक इतिहास में भीष्म पितामह-जैसा चरित्र दूसरा नहीं। महान वीर, संकल्पशील और धर्मपरायण होते हुए भी उन्होंने जो जीवन जिया, एक गहरे अवसाद की छाया उस पर सदैव पड़ती रही। कुरुवंशी राजकुमारों के पारस्परिक कलह ने उन्हें आजीवन उद्विग्न रखा, लेकिन कोई भी दारुण स्थिति उन्हें कर्तव्य-पथ से कभी... Read More

Description

भारतीय पौराणिक इतिहास में भीष्म पितामह-जैसा चरित्र दूसरा नहीं। महान वीर, संकल्पशील और धर्मपरायण होते हुए भी उन्होंने जो जीवन जिया, एक गहरे अवसाद की छाया उस पर सदैव पड़ती रही। कुरुवंशी राजकुमारों के पारस्परिक कलह ने उन्हें आजीवन उद्विग्न रखा, लेकिन कोई भी दारुण स्थिति उन्हें कर्तव्य-पथ से कभी विचलित नहीं कर पाई। अपने विलक्षण जीवन के अनेक मोड़ों पर वे हमें आदर्शों के चरम शिखर पर दिखाई देते हैं।
महाकवि निराला ने भीष्म पितामह के इसी महान चरित्र को इस पुस्तक में शब्दबद्ध किया है। उन्हीं के शब्दों में, “महावीर भीष्म के चरित्र से सब शिक्षाएँ एक साथ मिल जाती हैं। पिता के प्रति पुत्र की कैसी भक्ति होनी चाहिए, माता और विमाता के प्रति उसके क्या कर्तव्य हैं, मनुष्यता का आदर्श क्या हो, शास्त्र-अध्ययन, ब्रह्मचर्य और सरल भाव से जीवन के निर्वाह का फल क्या है, समर-क्षेत्र में क्षत्रिय का आदर्श क्या है, यथार्थ वीरता किसे कहते हैं—इस तरह से मनुष्य के मस्तिष्क में मनुष्यता से सम्बन्ध रखनेवाले जितने प्रश्न आ सकते हैं, उन सबका उत्तर भीष्म के जीवन से मिल जाता है।’’
निश्चय ही यह एक ऐसी पुस्तक है, जो किशोर एवं प्रौढ़—दोनों ही तरह के पाठकों को पसन्द आएगी। Bhartiy pauranik itihas mein bhishm pitamah-jaisa charitr dusra nahin. Mahan vir, sankalpshil aur dharmaprayan hote hue bhi unhonne jo jivan jiya, ek gahre avsad ki chhaya us par sadaiv padti rahi. Kuruvanshi rajakumaron ke parasprik kalah ne unhen aajivan udvign rakha, lekin koi bhi darun sthiti unhen kartavya-path se kabhi vichlit nahin kar pai. Apne vilakshan jivan ke anek modon par ve hamein aadarshon ke charam shikhar par dikhai dete hain. Mahakavi nirala ne bhishm pitamah ke isi mahan charitr ko is pustak mein shabdbaddh kiya hai. Unhin ke shabdon mein, “mahavir bhishm ke charitr se sab shikshayen ek saath mil jati hain. Pita ke prati putr ki kaisi bhakti honi chahiye, mata aur vimata ke prati uske kya kartavya hain, manushyta ka aadarsh kya ho, shastr-adhyyan, brahmcharya aur saral bhav se jivan ke nirvah ka phal kya hai, samar-kshetr mein kshatriy ka aadarsh kya hai, yatharth virta kise kahte hain—is tarah se manushya ke mastishk mein manushyta se sambandh rakhnevale jitne prashn aa sakte hain, un sabka uttar bhishm ke jivan se mil jata hai. ’’
Nishchay hi ye ek aisi pustak hai, jo kishor evan praudh—donon hi tarah ke pathkon ko pasand aaegi.