BackBack
-11%

Bhimrao Ambedkar : Ek Jeevani

Christophe Jaffrelot, Tr. Yogender Dutt

Rs. 299 Rs. 266

भीमराव आंबेडकर हिन्दुओं में पहले दलित या निम्न जाति नेता थे जिन्होंने पश्चिम जाकर पीएच-डी. जैसे सर्वोच्च स्तर तक की औपचारिक शिक्षा हासिल की थी। अपनी इस अभूतपूर्व उपलब्धि के बावजूद वह अपनी जड़ों से जुड़े रहे और तमाम उम्र दलित अधिकारों के लिए लड़ते रहे। भारत के सबसे प्रखर... Read More

Description

भीमराव आंबेडकर हिन्दुओं में पहले दलित या निम्न जाति नेता थे जिन्होंने पश्चिम जाकर पीएच-डी. जैसे सर्वोच्च स्तर तक की औपचारिक शिक्षा हासिल की थी। अपनी इस अभूतपूर्व उपलब्धि के बावजूद वह अपनी जड़ों से जुड़े रहे और तमाम उम्र दलित अधिकारों के लिए लड़ते रहे। भारत के सबसे प्रखर और अग्रणी दलित नेता के रूप में आंबेडकर का स्थान निर्विवाद है।
निम्न जातियों को एक अलग औपचारिक और क़ानूनी पहचान दिलाने के लिए आंबेडकर सालों तक भारत के सवर्ण हिन्दू वर्चस्व वाले समूचे राजनीतिक प्रतिष्ठान से अकेले लोहा लेते रहे।
स्वतंत्र भारत की पहली केन्द्र सरकार में आंबेडकर को क़ानून मंत्री और संविधान का प्रारूप तैयार करनेवाली समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया। इन पदों पर रहते हुए उन्हें भारतीय राजनय पर गांधीवादी प्रभावों पर अंकुश लगाने में उल्लेखनीय सफलता मिली।
क्रिस्तोफ़ जाफ़्रलो ने उनके जीवन को समझने के लिए तीन सबसे महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर प्रकाश डाला है : एक समाज वैज्ञानिक के रूप में आंबेडकर; एक राजनेता और राजनीतिज्ञ के रूप में आंबेडकर; तथा सवर्ण हिन्दुत्व के विरोधी एवं बौद्धधर्म के एक अनुयायी व प्रचारक के रूप मे आंबेडकर। Bhimrav aambedkar hinduon mein pahle dalit ya nimn jati neta the jinhonne pashchim jakar piyech-di. Jaise sarvochch star tak ki aupcharik shiksha hasil ki thi. Apni is abhutpurv uplabdhi ke bavjud vah apni jadon se jude rahe aur tamam umr dalit adhikaron ke liye ladte rahe. Bharat ke sabse prkhar aur agrni dalit neta ke rup mein aambedkar ka sthan nirvivad hai. Nimn jatiyon ko ek alag aupcharik aur qanuni pahchan dilane ke liye aambedkar salon tak bharat ke savarn hindu varchasv vale samuche rajnitik prtishthan se akele loha lete rahe.
Svtantr bharat ki pahli kendr sarkar mein aambedkar ko qanun mantri aur sanvidhan ka prarup taiyar karnevali samiti ka adhyaksh niyukt kiya gaya. In padon par rahte hue unhen bhartiy rajnay par gandhivadi prbhavon par ankush lagane mein ullekhniy saphalta mili.
Kristof jafrlo ne unke jivan ko samajhne ke liye tin sabse mahattvpurn pahaluon par prkash dala hai : ek samaj vaigyanik ke rup mein aambedkar; ek rajneta aur rajnitigya ke rup mein aambedkar; tatha savarn hindutv ke virodhi evan bauddhdharm ke ek anuyayi va prcharak ke rup me aambedkar.

Additional Information
Color

Black

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 9789388753913
Pages
Publishing Year