Bhaya Kabeer Udas

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bhaya Kabeer Udas

Bhaya Kabeer Udas

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शरीर की पूर्णता-अपूर्णता का प्रश्न किसी-न-किसी स्तर पर मन और जीवन की पूर्णता के प्रश्न से भी जुड़ जाता है। यह उपन्यास शुरू से लेकर आख़िर तक इसी सवाल से जूझता है कि क्या सौन्दर्य के प्रचलित मानदंडों और समाज की रूढ़ दृष्टि के अनुसार एक अधूरे शरीर को उन सब इच्छाओं को पालने का अधिकार है जो स्वस्थ और सम्पूर्ण देहवाले व्यक्तियों के लिए स्वाभाविक होती है। उपन्यास की नायिका विदेशी भूमि पर अपना सहज और अल्पाकांक्षी जीवन जी रही होती है कि अचानक उसे मालूम होता है, उसे स्तन-कैंसर है और यह बीमारी अन्तत: उसके शरीर से उसके सबसे प्रिय अंग को छीन ले जाती है। लेकिन मन! तमाम चोटों के बावजूद मन कब अधूरा होता है, वह फिर-फिर पूरा होकर मनुष्य से, जीवन से अपना हिस्सा माँगता है, अपना सुख।
उषा प्रियम्वदा बारीक और सुथरे मनोभावों की कथाकार रही हैं, उनके पात्र न कभी ऊँचा बोलते हैं, न कभी बहुत शोर मचाते हैं, फिर भी ज़िन्दगी और अनुभूति की उन गलियों को आलोकित कर जाते हैं, जहाँ से गुज़रना हर किसी के लिए उद्घाटनकारी होता है।
यह उपन्यास भी इसी अर्थ में महत्त्वपूर्ण है। इसमें उन्होंने बहुत नई-सी दिखनेवाली कथाभूमि पर, बहुत सहज ढंग से मानव-मन की चिरन्तन लालसाओं, कामनाओं, निराशाओं और उदासियों का अत्यन्त कुशल और समग्र अंकन किया है। Sharir ki purnta-apurnta ka prashn kisi-na-kisi star par man aur jivan ki purnta ke prashn se bhi jud jata hai. Ye upanyas shuru se lekar aakhir tak isi saval se jujhta hai ki kya saundarya ke prachlit mandandon aur samaj ki rudh drishti ke anusar ek adhure sharir ko un sab ichchhaon ko palne ka adhikar hai jo svasth aur sampurn dehvale vyaktiyon ke liye svabhavik hoti hai. Upanyas ki nayika videshi bhumi par apna sahaj aur alpakankshi jivan ji rahi hoti hai ki achanak use malum hota hai, use stan-kainsar hai aur ye bimari antat: uske sharir se uske sabse priy ang ko chhin le jati hai. Lekin man! tamam choton ke bavjud man kab adhura hota hai, vah phir-phir pura hokar manushya se, jivan se apna hissa mangata hai, apna sukh. Usha priyamvda barik aur suthre manobhavon ki kathakar rahi hain, unke patr na kabhi uuncha bolte hain, na kabhi bahut shor machate hain, phir bhi zindagi aur anubhuti ki un galiyon ko aalokit kar jate hain, jahan se guzarna har kisi ke liye udghatankari hota hai.
Ye upanyas bhi isi arth mein mahattvpurn hai. Ismen unhonne bahut nai-si dikhnevali kathabhumi par, bahut sahaj dhang se manav-man ki chirantan lalsaon, kamnaon, nirashaon aur udasiyon ka atyant kushal aur samagr ankan kiya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products