BackBack
-11%

Bhartiya Vigyan Ki Kahani

Rs. 200 Rs. 178

मध्ययुग तक भारतीय विज्ञान किसी भी अन्य देश के विज्ञान से पीछे नहीं था। हमारे देश में चरक, सुश्रुत, आर्यभट, वराहमिहिर, नागार्जुन तथा भास्कराचार्य (1150 ई.) जैसे महान वैज्ञानिक हुए। आरम्भ में अरबों ने भारतीय विज्ञान से लाभ उठाया और फिर यूरोप में इसका प्रचार-प्रसार किया। आज सारे संसार में... Read More

BlackBlack
Description

मध्ययुग तक भारतीय विज्ञान किसी भी अन्य देश के विज्ञान से पीछे नहीं था। हमारे देश में चरक, सुश्रुत, आर्यभट, वराहमिहिर, नागार्जुन तथा भास्कराचार्य (1150 ई.) जैसे महान वैज्ञानिक हुए। आरम्भ में अरबों ने भारतीय विज्ञान से लाभ उठाया और फिर यूरोप में इसका प्रचार-प्रसार किया। आज सारे संसार में प्रयुक्त होने वाली शून्य पर आधारित स्थानमान अंक-पद्धति मूलतः भारत का आविष्कार है। विज्ञान के क्षेत्र में भारत ने संसार को बहुत कुछ दिया है, और अन्य देशों से बहुत कुछ लिया भी है। भारतीय विज्ञान की कहानी ज्ञान-विज्ञान के इसी आदान-प्रदान की चर्चा से शुरू होती है। आगे पाषाणयुग, ताम्रयुग की सिन्धु सभ्यता तथा वैदिक काल की वैज्ञानिक उपलब्धियों की जानकारी दी गई है। तदनन्तर विषयानुसार भारतीय विज्ञान के विकास की रूपरेखा प्रस्तुत की गई है।
लेखक स्वयं विज्ञान के अध्येता थे, इसलिए भारतीय विज्ञान के इस विवेचन को उन्होंने वैज्ञानिक दृष्टिकोण से ही प्रस्तुत किया। संसार के सभी विकसित देशों के स्कूल-कॉलेजों में ‘विज्ञान का इतिहास’ पढ़ाया जाता है। हमारे देश के विज्ञान के विद्यार्थियों को भी प्राचीन भारत के विज्ञान की थोड़ी-बहुत जानकारी अवश्य होनी चाहिए। इतिहास के विद्यार्थियों को तो भारतीय विज्ञान की उपलब्धियों की जानकारी अवश्य ही होनी चाहिए। इसी आवश्यकता को ध्यान में रखकर यह पुस्तक लिखी गई है और यह हिन्दी में एक बड़े अभाव की पूर्ति करती है। अध्यापक तथा सामान्य पाठक भी इस पुस्तक को उपयोगी पाएँगे। Madhyyug tak bhartiy vigyan kisi bhi anya desh ke vigyan se pichhe nahin tha. Hamare desh mein charak, sushrut, aarybhat, varahamihir, nagarjun tatha bhaskracharya (1150 ii. ) jaise mahan vaigyanik hue. Aarambh mein arbon ne bhartiy vigyan se labh uthaya aur phir yurop mein iska prchar-prsar kiya. Aaj sare sansar mein pryukt hone vali shunya par aadharit sthanman ank-paddhati mulatः bharat ka aavishkar hai. Vigyan ke kshetr mein bharat ne sansar ko bahut kuchh diya hai, aur anya deshon se bahut kuchh liya bhi hai. Bhartiy vigyan ki kahani gyan-vigyan ke isi aadan-prdan ki charcha se shuru hoti hai. Aage pashanyug, tamryug ki sindhu sabhyta tatha vaidik kaal ki vaigyanik uplabdhiyon ki jankari di gai hai. Tadnantar vishyanusar bhartiy vigyan ke vikas ki ruprekha prastut ki gai hai. Lekhak svayan vigyan ke adhyeta the, isaliye bhartiy vigyan ke is vivechan ko unhonne vaigyanik drishtikon se hi prastut kiya. Sansar ke sabhi viksit deshon ke skul-kaulejon mein ‘vigyan ka itihas’ padhaya jata hai. Hamare desh ke vigyan ke vidyarthiyon ko bhi prachin bharat ke vigyan ki thodi-bahut jankari avashya honi chahiye. Itihas ke vidyarthiyon ko to bhartiy vigyan ki uplabdhiyon ki jankari avashya hi honi chahiye. Isi aavashyakta ko dhyan mein rakhkar ye pustak likhi gai hai aur ye hindi mein ek bade abhav ki purti karti hai. Adhyapak tatha samanya pathak bhi is pustak ko upyogi payenge.