Bhartiya Sikkon Ka Itihas

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bhartiya Sikkon Ka Itihas

Bhartiya Sikkon Ka Itihas

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विश्व संस्कृति को भारत की एक महानतम देन है–दस अंक-संकेतों पर आधारित स्थानमान अंक-पद्धति। आज सारे सभ्य संसार में इसी दशमिक स्थानमान अंक-पद्धति का इस्तेमाल होता है। न केवल यह अंक-पद्धति बल्कि इसके साथ संसार के अनेक देशों में प्रयुक्त होने वाले 1, 2, 3, 9...और शून्य संकेत भी, जिन्हें आज हम ‘भारतीय अन्तरराष्ट्रीय अंक’ कहते हैं, भारतीय उत्पत्ति के हैं। देवनागरी अंकों की तरह इनकी व्युत्पत्ति भी पुराने ब्राह्मी अंकों से हुई है। भारतीय अंक-पद्धति की कहानी में भारतीय प्रतिभा की इस महान उपलब्धि के उद्गम और देश-विदेश में इसके प्रचार-प्रसार का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया गया है। साथ ही, अपने तथा दूसरे देशों में प्रचलित पुरानी अंक-पद्धतियों का भी संक्षिप्त परिचय दिया गया है। अन्‍त में, आजकल के इलेक्ट्रॉनिक गणक-यंत्रों में प्रयुक्त होनेवाली द्वि-आधारी अंक-पद्धति को भी समझाया गया है। इस प्रकार, इस पुस्तक में आदिम समाज से लेकर आधुनिक काल तक की सभी प्रमुख गणना-पद्धतियों की जानकारी मिल जाती है। विभिन्न अंक-पद्धतियों के स्वरूप को भली-भाँति समझने के लिए पुस्तक में लगभग चालीस चित्र हैं। न केवल विज्ञान के, विशेषतः गणित के विद्यार्थी, बल्कि भारतीय संस्कृति के अध्येता भी इस पुस्तक को उपयोगी पाएँगे। हमारे शासन ने ‘भारतीय अन्तरराष्ट्रीय अंकों’ को ‘राष्ट्रीय अंकों’ के रूप में स्वीकार किया है। फिर भी, कइयों के दिमाग़ में इन ‘अन्तरराष्ट्रीय अंकों’ के बारे में आज भी काफ़ी भ्रम है–विशेषतः हिन्दी-जगत में। इस भ्रम को सही ढंग से दूर करने के लिए हमारे शासन की ओर से अभी तक कोई पुस्तक प्रकाशित नहीं हुई है। ‘भारतीय अन्तरराष्ट्रीय अंकों’ की उत्पत्ति एवं विकास को वैज्ञानिक ढंग से प्रस्तुत करनेवाली यह हिन्दी में, सम्भवतः भारतीय भाषाओं में, पहली पुस्तक है। भारतीय अंक-पद्धति की कहानी एक प्रकार से लेखक की इस माला में प्रकाशित भारतीय लिपियों की कहानी की परिपूरक कृति है। अतः इसे भारतीय इतिहास और पुरालिपि-शास्त्र के पाठक भी उपयोगी पाएँगे। Vishv sanskriti ko bharat ki ek mahantam den hai–das ank-sanketon par aadharit sthanman ank-paddhati. Aaj sare sabhya sansar mein isi dashmik sthanman ank-paddhati ka istemal hota hai. Na keval ye ank-paddhati balki iske saath sansar ke anek deshon mein pryukt hone vale 1, 2, 3, 9. . . Aur shunya sanket bhi, jinhen aaj hum ‘bhartiy antarrashtriy ank’ kahte hain, bhartiy utpatti ke hain. Devnagri ankon ki tarah inki vyutpatti bhi purane brahmi ankon se hui hai. Bhartiy ank-paddhati ki kahani mein bhartiy pratibha ki is mahan uplabdhi ke udgam aur desh-videsh mein iske prchar-prsar ka lekha-jokha prastut kiya gaya hai. Saath hi, apne tatha dusre deshon mein prachlit purani ank-paddhatiyon ka bhi sankshipt parichay diya gaya hai. An‍ta mein, aajkal ke ilektraunik ganak-yantron mein pryukt honevali dvi-adhari ank-paddhati ko bhi samjhaya gaya hai. Is prkar, is pustak mein aadim samaj se lekar aadhunik kaal tak ki sabhi prmukh ganna-paddhatiyon ki jankari mil jati hai. Vibhinn ank-paddhatiyon ke svrup ko bhali-bhanti samajhne ke liye pustak mein lagbhag chalis chitr hain. Na keval vigyan ke, visheshatः ganit ke vidyarthi, balki bhartiy sanskriti ke adhyeta bhi is pustak ko upyogi payenge. Hamare shasan ne ‘bhartiy antarrashtriy ankon’ ko ‘rashtriy ankon’ ke rup mein svikar kiya hai. Phir bhi, kaiyon ke dimag mein in ‘antarrashtriy ankon’ ke bare mein aaj bhi kafi bhram hai–visheshatः hindi-jagat mein. Is bhram ko sahi dhang se dur karne ke liye hamare shasan ki or se abhi tak koi pustak prkashit nahin hui hai. ‘bhartiy antarrashtriy ankon’ ki utpatti evan vikas ko vaigyanik dhang se prastut karnevali ye hindi mein, sambhvatः bhartiy bhashaon mein, pahli pustak hai. Bhartiy ank-paddhati ki kahani ek prkar se lekhak ki is mala mein prkashit bhartiy lipiyon ki kahani ki paripurak kriti hai. Atः ise bhartiy itihas aur puralipi-shastr ke pathak bhi upyogi payenge.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products