BackBack
-11%

Bhartiya Sanskriti Aur Hindutva

Rs. 150 Rs. 134

गीतेश शर्मा जिन्हें हम उनकी अत्यन्त लोकप्रिय पुस्तक ‘धर्म के नाम पर’ के लिए जानते हैं, देश के उन कुछेक चिन्तकों में थे जिन्हें धर्म और ईश्वर की समाज तथा मनुष्य-विरोधी अवधारणाओं पर ख़ामोश रहना कभी स्वीकार नहीं हुआ। आज जब मुख्यधारा के प्रगतिशील चिन्तन ने सर्वधर्म समभाव के नाम... Read More

Description

गीतेश शर्मा जिन्हें हम उनकी अत्यन्त लोकप्रिय पुस्तक ‘धर्म के नाम पर’ के लिए जानते हैं, देश के उन कुछेक चिन्तकों में थे जिन्हें धर्म और ईश्वर की समाज तथा मनुष्य-विरोधी अवधारणाओं पर ख़ामोश रहना कभी स्वीकार नहीं हुआ। आज जब मुख्यधारा के प्रगतिशील चिन्तन ने सर्वधर्म समभाव के नाम पर हर तरह के धार्मिक अनाचार से आँखें फेर ली हैं, और यही प्रगतिशील का प्रमुख लक्षण हो गया है। गीतेश जी का लेखन हमारे लिए मार्गदर्शन की तरह है।
उन्हें यह देखकर अफ़सोस होता था कि हिन्दू कट्टरपन्थ का खुला विरोध करनेवाले लोग भी इस्लाम तथा अन्य धर्मों की धार्मिक-सामाजिक जड़ता पर एकदम चुप हो जाते हैं, और इस घातक तुष्टीकरण को धर्मनिरपेक्षता कहते हैं; लेकिन वह हिन्दुत्ववादियों के इस प्रचार से भी सहमत नहीं कि भारत के मुसलमानों ने अपने देश और समाज के लिए कुछ नहीं किया, कि वे भारतीयता को स्वीकार नहीं करते। तमाम तरह के सुधारवादी आन्दोलनों से गुज़रते हुए हिन्दू धर्म ने एक उदार स्थिति हासिल की है, यह वे मानते थे; लेकिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे संगठनों के चलते हिन्दू धर्म जिस कट्टरता की ओर बढ़ रहा है, वह ख़तरा भी उनकी निगाह में था। भारतीय संस्कृति की विराट धारा की आन्तरिक जिजीविषा की पहचान उन्हें थी; लेकिन बाज़ार, धर्म, अन्धविश्वास और आर्थिक पिछड़ेपन के घालमेल से बनी गन्दी नाली की मौज़ूदगी भी उन्हें साफ़ दिखाई देती थी।
वे दरअसल तर्क की प्रतिष्ठा चाहते थे, वे चाहते थे कि कोई भी धर्म, कोई भी ईश्वर, कोई भी सम्प्रदाय सवाल करने की उस मूल मानवीय शक्ति ऊपर न हो जिसके बल पर मनुष्य जाति वहाँ पहुँची है जहाँ आज वह है।
इस पुस्तक में उनके समय-समय पर लिखे आलेख संकलित हैं। गीतेश जी बहुत ज़्यादा और लगातार लिखनेवाले लेखकों में नहीं थे। जो भी उन्होंने लिखा वह भीतर के गहरे दबाव पर लिखा। इसलिए भी ये आलेख और ज़्यादा पठनीय हो जाते हैं और इसलिए भी कि इनमें जो चिन्ताएँ ज़ाहिर हुई हैं, वे आज की राजनैतिक-सामाजिक स्थितियों में निर्णायक अहमियत रखती हैं। Gitesh sharma jinhen hum unki atyant lokapriy pustak ‘dharm ke naam par’ ke liye jante hain, desh ke un kuchhek chintkon mein the jinhen dharm aur iishvar ki samaj tatha manushya-virodhi avdharnaon par khamosh rahna kabhi svikar nahin hua. Aaj jab mukhydhara ke pragatishil chintan ne sarvdharm sambhav ke naam par har tarah ke dharmik anachar se aankhen pher li hain, aur yahi pragatishil ka prmukh lakshan ho gaya hai. Gitesh ji ka lekhan hamare liye margdarshan ki tarah hai. Unhen ye dekhkar afsos hota tha ki hindu kattarpanth ka khula virodh karnevale log bhi islam tatha anya dharmon ki dharmik-samajik jadta par ekdam chup ho jate hain, aur is ghatak tushtikran ko dharmanirpekshta kahte hain; lekin vah hindutvvadiyon ke is prchar se bhi sahmat nahin ki bharat ke musalmanon ne apne desh aur samaj ke liye kuchh nahin kiya, ki ve bhartiyta ko svikar nahin karte. Tamam tarah ke sudharvadi aandolnon se guzarte hue hindu dharm ne ek udar sthiti hasil ki hai, ye ve mante the; lekin rashtriy svyansevak sangh jaise sangathnon ke chalte hindu dharm jis kattarta ki or badh raha hai, vah khatra bhi unki nigah mein tha. Bhartiy sanskriti ki virat dhara ki aantrik jijivisha ki pahchan unhen thi; lekin bazar, dharm, andhvishvas aur aarthik pichhdepan ke ghalmel se bani gandi nali ki mauzudgi bhi unhen saaf dikhai deti thi.
Ve darasal tark ki pratishta chahte the, ve chahte the ki koi bhi dharm, koi bhi iishvar, koi bhi samprday saval karne ki us mul manviy shakti uupar na ho jiske bal par manushya jati vahan pahunchi hai jahan aaj vah hai.
Is pustak mein unke samay-samay par likhe aalekh sanklit hain. Gitesh ji bahut zyada aur lagatar likhnevale lekhkon mein nahin the. Jo bhi unhonne likha vah bhitar ke gahre dabav par likha. Isaliye bhi ye aalekh aur zyada pathniy ho jate hain aur isaliye bhi ki inmen jo chintayen zahir hui hain, ve aaj ki rajanaitik-samajik sthitiyon mein nirnayak ahamiyat rakhti hain.