Look Inside
Bhartiya Sahityashatra
Bhartiya Sahityashatra
Bhartiya Sahityashatra
Bhartiya Sahityashatra

Bhartiya Sahityashatra

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bhartiya Sahityashatra

Bhartiya Sahityashatra

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रस्तुत पुस्तक में डॉ. ब्रह्मदत्त शर्मा ने हिन्दी समीक्षा के मूल तक जाने का प्रयत्न किया है और अग्निपुराणकार, भरत, दण्डी, आनन्दवद्र्धन, वामन, कुन्तक एवं क्षेमेन्द्र की मान्यताओं और मतों को बोधगम्य बनाने का प्रयास किया है। भारतीय चित्त एवं मानस में ये मान्यताएँ इतनी रची-बसी हैं कि सामान्य पाठक भी कविता पढ़ते समय स्वभावत: यह प्रश्न करता है कि कविता किस रस की है, इसमें कौन से अलंकार हैं, कोैन-सी वक्रता है तथा उससे क्या व्यंजित हो रहा है। प्रस्तुत पुस्तक में सभी भारतीय सम्प्रदायों की मान्यताओं का विवेचन उपरोक्त प्रश्नों के सन्दर्भ में किया गया है। किस प्रकार का लेखन साहित्य है और उसकी क्या विशेषताएँ हैं? साहित्यकार किस प्रकार चमत्कारपूर्ण भाषा का प्रयोग कर अपनी अनुभूति को सार्वजनीन व सर्वकालिक बनाता है? किस प्रकार वह अपने भावावेगों का सम्प्रेषण कर उनका साधारणीकरण कर देता है? साहित्यकार किस प्रकार अपने विषयों को चुनता है व उनमें अपनी अनुभूति का संचार करता है? साहित्यकार को साहित्य रचना की प्रेरणा कहाँ से मिलती है तथा उसमें उसकी प्रतिभा का क्या योगदान है? काव्य-सृजन किस हेतु एवं किस प्रयोजनार्थ किया जाना अपेक्षित है? इन गम्भीर प्रश्नों का विवेचन भी सभी भारतीय साहित्य सम्प्रदायों के परिप्र्रेक्ष्य में इस पुस्तक में पाठकों को मिलेगा।. Prastut pustak mein dau. Brahmdatt sharma ne hindi samiksha ke mul tak jane ka pryatn kiya hai aur agnipurankar, bharat, dandi, aanandvadrdhan, vaman, kuntak evan kshemendr ki manytaon aur maton ko bodhgamya banane ka pryas kiya hai. Bhartiy chitt evan manas mein ye manytayen itni rachi-basi hain ki samanya pathak bhi kavita padhte samay svbhavat: ye prashn karta hai ki kavita kis ras ki hai, ismen kaun se alankar hain, koain-si vakrta hai tatha usse kya vyanjit ho raha hai. Prastut pustak mein sabhi bhartiy samprdayon ki manytaon ka vivechan uprokt prashnon ke sandarbh mein kiya gaya hai. Kis prkar ka lekhan sahitya hai aur uski kya visheshtayen hain? sahitykar kis prkar chamatkarpurn bhasha ka pryog kar apni anubhuti ko sarvajnin va sarvkalik banata hai? kis prkar vah apne bhavavegon ka sampreshan kar unka sadharnikran kar deta hai? sahitykar kis prkar apne vishyon ko chunta hai va unmen apni anubhuti ka sanchar karta hai? sahitykar ko sahitya rachna ki prerna kahan se milti hai tatha usmen uski pratibha ka kya yogdan hai? kavya-srijan kis hetu evan kis pryojnarth kiya jana apekshit hai? in gambhir prashnon ka vivechan bhi sabhi bhartiy sahitya samprdayon ke pariprrekshya mein is pustak mein pathkon ko milega. .

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products