Look Inside
Bhartiya Sahitya
Bhartiya Sahitya
Bhartiya Sahitya
Bhartiya Sahitya

Bhartiya Sahitya

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bhartiya Sahitya

Bhartiya Sahitya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

तमाम भारतीय भाषाओं में रचित साहित्य ही सच्चा भारतीय साहित्य है। सभी समान अधिकार के पात्र हैं। यह बात अलग है कि हिन्दी का क्षेत्र और पहुँच अन्यों से अधिक है। साथ ही यह भी सच है कि प्रान्तीय भाषाओं का लेखन हिन्दी में अनूदित होकर व्यापक आधार प्राप्त करता है।
भारतीय भाषाओं और साहित्य का यह पारस्परिक आदान-प्रदान और योगदान संगठित, योजनाबद्ध तरीक़े से बढ़ाया जाना चाहिए। तभी हिन्दी के प्रति अन्य भाषा-भाषियों का भय और आशंकाएँ दूर होंगी। तभी बंकिम और रवीन्द्रनाथ की स्वदेश शक्ति को व्यावहारिक उदात्तता तक लाया जा सकता है। प्राचीन काल में तीर्थयात्राओं ने धर्म के माध्यम से देश को जिस तरह जोड़ा था, वैसा फिर होना चाहिए भाषा और साहित्यिक माध्यमों से, ताकि देशवासियों के बीच अपरिचय कम हो। अतः बिना किसी दुर्भाव के अब व्यापक दृष्टिकोण से सभी भारतीय भाषाओं, अंग्रेज़ी साहित्य में रचित साहित्य के अध्ययन को राष्ट्रीय एवं प्रान्तीय स्तरों पर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।
‘भारतीय साहित्य’ पुस्तक इसी दिशा की ओर बढ़ाए गए क़दमों की एक कड़ी है। इसमें जातीयता के निर्माण के कारकों, घटकों एवं उपकरणों एवं भारतीय साहित्य के इतिहास की समस्याओं के साथ उसकी तलाश में किए गए प्रयासों का संकेत है। Tamam bhartiy bhashaon mein rachit sahitya hi sachcha bhartiy sahitya hai. Sabhi saman adhikar ke patr hain. Ye baat alag hai ki hindi ka kshetr aur pahunch anyon se adhik hai. Saath hi ye bhi sach hai ki prantiy bhashaon ka lekhan hindi mein anudit hokar vyapak aadhar prapt karta hai. Bhartiy bhashaon aur sahitya ka ye parasprik aadan-prdan aur yogdan sangthit, yojnabaddh tariqe se badhaya jana chahiye. Tabhi hindi ke prati anya bhasha-bhashiyon ka bhay aur aashankaen dur hongi. Tabhi bankim aur ravindrnath ki svdesh shakti ko vyavharik udattta tak laya ja sakta hai. Prachin kaal mein tirthyatraon ne dharm ke madhyam se desh ko jis tarah joda tha, vaisa phir hona chahiye bhasha aur sahityik madhymon se, taki deshvasiyon ke bich aparichay kam ho. Atः bina kisi durbhav ke ab vyapak drishtikon se sabhi bhartiy bhashaon, angrezi sahitya mein rachit sahitya ke adhyyan ko rashtriy evan prantiy stron par protsahit kiya jana chahiye.
‘bhartiy sahitya’ pustak isi disha ki or badhaye ge qadmon ki ek kadi hai. Ismen jatiyta ke nirman ke karkon, ghatkon evan upakarnon evan bhartiy sahitya ke itihas ki samasyaon ke saath uski talash mein kiye ge pryason ka sanket hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products