BackBack
-11%

Bhartiya Rangkosh : Vol. 2

Rs. 400 Rs. 356

नाटक और रंगकर्म की सन्दर्भ सामग्री के रूप में यह रंगकोश एक नई पहल है। इसके पहले खंड में हिन्दी में मंचित नाटकों का इतिहास संकलित है। कब किसने किस नाटक को निर्देशित किया, नाटक किसका लिखा हुआ है, और उसे किस दल ने मंच पर उतारा आदि-आदि ब्यौरों से... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Cyclopedia
Description

नाटक और रंगकर्म की सन्दर्भ सामग्री के रूप में यह रंगकोश एक नई पहल है। इसके पहले खंड में हिन्दी में मंचित नाटकों का इतिहास संकलित है। कब किसने किस नाटक को निर्देशित किया, नाटक किसका लिखा हुआ है, और उसे किस दल ने मंच पर उतारा आदि-आदि ब्यौरों से सम्बन्धित यह कोश सहज ही हमें नाट्य-लेखन और रंगकर्म के इतिहास में भी ले जाता है, और यह भी बताता है कि हिन्दी में लिखित और मंचित नाटकों की वास्तव में एक बड़ी दुनिया रही है।
इस दूसरे खंड में उन रंग-व्यक्तित्वों के बारे में जानकारियाँ दी गई हैं जिनका गहरा रिश्ता हिन्दी रंगमंच से रहा है। इनमें नाटककला, निर्देशक, अभिनेता, संगीत-सर्जक, मंच-प्रकाश-परिधान परिकल्पक आदि के साथ-साथ प्रेरक व्यक्तित्वों का परिचय भी अकारादिक्रम से दिया गया है। उन दूसरी भाषाओं के नाटककारों को भी इसमें शामिल किया गया है, जिनके अनूदित नाटक हिन्दी में लोकप्रिय रहे हैं। इस प्रकार कुल लगभग चार सौ रंग-व्यक्तित्वों की प्रविष्टियाँ इस कोश में शामिल हैं।
हिन्दी के रंगमंच से जुड़ी शख़्सियतों को सूचीबद्ध करना, उनमें से इन महत्त्वपूर्ण लोगों का चयन करना और फिर जम्मू से कोलकाता तक के व्यापक क्षेत्र में, विभिन्न नगरों में सक्रिय रंगकर्मियों के बारे में सूचनाएँ एकत्र करना बहुत ही कठिन कार्य था।
सम्पादक के सराहनीय परिश्रम और मेधा को इस पुस्तक से गुज़रते हुए सहज ही लक्षित किया जा सकता है। निश्चित रूप से यह रंगकोश हिन्दी रंगकर्म की दुनिया में एक मील का पत्थर है। Natak aur rangkarm ki sandarbh samagri ke rup mein ye rangkosh ek nai pahal hai. Iske pahle khand mein hindi mein manchit natkon ka itihas sanklit hai. Kab kisne kis natak ko nirdeshit kiya, natak kiska likha hua hai, aur use kis dal ne manch par utara aadi-adi byauron se sambandhit ye kosh sahaj hi hamein natya-lekhan aur rangkarm ke itihas mein bhi le jata hai, aur ye bhi batata hai ki hindi mein likhit aur manchit natkon ki vastav mein ek badi duniya rahi hai. Is dusre khand mein un rang-vyaktitvon ke bare mein jankariyan di gai hain jinka gahra rishta hindi rangmanch se raha hai. Inmen natakakla, nirdeshak, abhineta, sangit-sarjak, manch-prkash-paridhan parikalpak aadi ke sath-sath prerak vyaktitvon ka parichay bhi akaradikram se diya gaya hai. Un dusri bhashaon ke natakkaron ko bhi ismen shamil kiya gaya hai, jinke anudit natak hindi mein lokapriy rahe hain. Is prkar kul lagbhag char sau rang-vyaktitvon ki prvishtiyan is kosh mein shamil hain.
Hindi ke rangmanch se judi shakhsiyton ko suchibaddh karna, unmen se in mahattvpurn logon ka chayan karna aur phir jammu se kolkata tak ke vyapak kshetr mein, vibhinn nagron mein sakriy rangkarmiyon ke bare mein suchnayen ekatr karna bahut hi kathin karya tha.
Sampadak ke sarahniy parishram aur medha ko is pustak se guzarte hue sahaj hi lakshit kiya ja sakta hai. Nishchit rup se ye rangkosh hindi rangkarm ki duniya mein ek mil ka patthar hai.