Look Inside
Bhartiya Cine Siddhant
Bhartiya Cine Siddhant
Bhartiya Cine Siddhant
Bhartiya Cine Siddhant

Bhartiya Cine Siddhant

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bhartiya Cine Siddhant

Bhartiya Cine Siddhant

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

“मैं अक्सर महसूस करता हूँ कि हमारी जनता एक तरफ़ व्यावसायिक विकृतियों का शिकार है तो दूसरी तरफ़ उन विशिष्टतावादी फ़िल्मकारों का जिनके शब्दों का उस पर कोई असर नहीं होता और जो उसे और उलझा देते हैं। मैं सोचता था कि हमारे भी गम्भीर फ़िल्मकार इस देश के मिथकों और लोक-परम्परा को उसी तरह आत्मसात् कर सकेंगे, जैसे अकीरा कुरोसावा ने जापान के क्लासिकी परम्परा को किया है और फिर एक नया लोकप्रिय फ़ॉर्म विकसित हो सकेगा। उलटे हम पाते हैं कि पश्चिम के विख्यात फ़िल्मकारों में ही उलझे हैं हमारे लोग और कभी-कभी उनकी नाजायज नक़ल भी करते हैं। हमें पहले ही नहीं मान लेना चाहिए कि जनता प्रयोग और नवीकरण के मामले में तटस्थ है।”
—उत्पल दत्त
हिन्दी सिनेमा एक साथ ढेर सारे मिले-जुले प्रभावों से परिचालित है। एक तरफ़ हॉलीवुड सिनेमा, लोकनाट्य रूपों तथा पारसी थियेटर की खिचड़ी, दूसरी तरफ़ पौराणिक मिथकों का लोक-लुभावन स्वरूप, तीसरी तरफ़ इटैलियन नवयथार्थवादी सिनेमा का प्रभाव। इन सबके बीच भारतीय सिनेमा के अपने मूल गुणों को पहचानने-परखने की कोशिश ही इस पुस्तक का ध्येय है। दादा साहब फाल्के ने भारतीय सिनेमा को व्याकरण के साँचे में कसने के लिए एक भारतीय सिने-सिद्धान्त की आवश्यकता महसूस की थी लेकिन वे स्वयं ऐसा कर नहीं पाए और आगे भी नहीं किया जा सका।
भारतीय सिने-सिद्धान्त और सिने-कला, इतिहास, पटकथा की संरचना आदि पर छिटपुट टिप्पणियों, लेखों, विचारों को एकत्रित कर सिने-सिद्धान्त का अवलोकन इस पुस्तक के मुद्दों में केन्द्रीय है। सिनेमा की कला-भाषा का ठीक से शिक्षण नहीं होने के चलते एक दृष्टिहीन सिनेमा का व्यावसायिक लुभावना सम्मोहन समाज पर हावी है। यह पुस्तक भारतीय सिने-सिद्धान्त को लेकर किंचित् भी चिन्तित व्यक्तियों को गम्भीरता से सोचने के लिए तथ्य उपलब्ध कराएगी, साथ ही एक सामूहिक प्रयास के लिए प्रेरित करेगी। “main aksar mahsus karta hun ki hamari janta ek taraf vyavsayik vikritiyon ka shikar hai to dusri taraf un vishishttavadi filmkaron ka jinke shabdon ka us par koi asar nahin hota aur jo use aur uljha dete hain. Main sochta tha ki hamare bhi gambhir filmkar is desh ke mithkon aur lok-parampra ko usi tarah aatmsat kar sakenge, jaise akira kurosava ne japan ke klasiki parampra ko kiya hai aur phir ek naya lokapriy faurm viksit ho sakega. Ulte hum pate hain ki pashchim ke vikhyat filmkaron mein hi uljhe hain hamare log aur kabhi-kabhi unki najayaj naqal bhi karte hain. Hamein pahle hi nahin maan lena chahiye ki janta pryog aur navikran ke mamle mein tatasth hai. ”—utpal datt
Hindi sinema ek saath dher sare mile-jule prbhavon se parichalit hai. Ek taraf haulivud sinema, loknatya rupon tatha parsi thiyetar ki khichdi, dusri taraf pauranik mithkon ka lok-lubhavan svrup, tisri taraf itailiyan navaytharthvadi sinema ka prbhav. In sabke bich bhartiy sinema ke apne mul gunon ko pahchanne-parakhne ki koshish hi is pustak ka dhyey hai. Dada sahab phalke ne bhartiy sinema ko vyakran ke sanche mein kasne ke liye ek bhartiy sine-siddhant ki aavashyakta mahsus ki thi lekin ve svayan aisa kar nahin paye aur aage bhi nahin kiya ja saka.
Bhartiy sine-siddhant aur sine-kala, itihas, pataktha ki sanrachna aadi par chhitput tippaniyon, lekhon, vicharon ko ekatrit kar sine-siddhant ka avlokan is pustak ke muddon mein kendriy hai. Sinema ki kala-bhasha ka thik se shikshan nahin hone ke chalte ek drishtihin sinema ka vyavsayik lubhavna sammohan samaj par havi hai. Ye pustak bhartiy sine-siddhant ko lekar kinchit bhi chintit vyaktiyon ko gambhirta se sochne ke liye tathya uplabdh karayegi, saath hi ek samuhik pryas ke liye prerit karegi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products