BackBack
-10%

Bhartiya Bhashaon Mein Ramkatha : Asamiya Bhasha - 1

Chief Editor Dr. Yogendra Pratap Singh, Edited by Dr. Anushabd, Co-Editor Dr. Charu Goel

Rs. 495 Rs. 446

Vani Prakashan

यदि हम आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं में रचित रामकथाओं पर ग़ौर करें तो इस क्रम में हम देखते हैं कि सबसे पहले जिस आधुनिक भारतीय आर्यभाषा में रामकथा मिलती है वह है असमिया भाषा में 14वीं सदी में ‘अप्रमादी कवि’ माधव कन्दलि द्वारा रचित ‘सप्तकाण्ड रामायण’। ध्यातव्य है कि यह रामकथा... Read More

Description

यदि हम आधुनिक भारतीय आर्यभाषाओं में रचित रामकथाओं पर ग़ौर करें तो इस क्रम में हम देखते हैं कि सबसे पहले जिस आधुनिक भारतीय आर्यभाषा में रामकथा मिलती है वह है असमिया भाषा में 14वीं सदी में ‘अप्रमादी कवि’ माधव कन्दलि द्वारा रचित ‘सप्तकाण्ड रामायण’। ध्यातव्य है कि यह रामकथा तुलसी के ‘रामचरितमानस’ से लगभग डेढ़ सौ वर्ष पूर्व लिखी गयी। आश्चर्य की बात यह भी है कि यह रामकथा सबसे पहले उस प्रदेश में लिखी गयी जो मूलतः कृष्ण-भक्ति प्रधान क्षेत्र है। इससे भी ज़्यादा चकित करने वाली बात यह है कि असम के महान कृष्ण भक्त कवि महापुरुष श्रीमन्त शंकरदेव ने अपना पहला बरगीत ‘मन मेरी राम चरणहि लागू...’ और अन्तिम नाटक ‘रामविजय’ राम को केन्द्र में रखकर लिखा है। यह महज़ इत्तेफ़ाक़ तो नहीं हो सकता। यह रामकथा की चतुर्दिक व्याप्ति तथा उसकी गरिमा-महिमा नहीं है तो और क्या है? ख़ैर, श्रीमन्त शंकरदेव विरचित ‘उत्तरकाण्ड’ और कवि प्रवर माधवदेव कृत ‘आदिकाण्ड’ असमिया रामकथा शृंखला की महत्त्वपूर्ण कड़ियाँ हैं। इसी क्रम में अनन्त कन्दलि के ‘पाताखण्ड रामायण’ एवं ‘जीवस्तुति रामायण’, हरिहर विप्र के ‘लवकुशर युद्ध’, दुर्गावर कायस्थ के ‘गीतिरामायण’, अनन्त ठाकुर अता के ‘श्रीराम कीर्तन’, रघुनाथ महन्त के ‘अद्भुत रामायण’ एवं ‘कथा रामायण’, श्रीराम अता के ‘अध्यात्म रामायण’ आदि का भी नाम लिया जा सकता है। इन रामकथाओं में आमतौर पर वाल्मीकि रामायण के सारानुवाद को ही लोकभाषा में कुछ नवीन उद्भावनाओं के साथ प्रस्तुत किया गया है। असमिया लोक जीवन एवं लोक संस्कृति के फशेक एलिमेंट्स जैसे - असम के विशिष्ट खेलों, वाद्ययन्त्रों, मछली के प्रकार, सिल्क, ताम्बूल, असमिया जाति, पेशा, व्यवसाय आदि का निवेश इन रामकथाओं को स्वाभाविक एवं मौलिक बनाता है। ये तो हुई असमिया रामकथा के लिखित रूप की बात। वाचिक रूप में भी असमिया रामकथा की एक सुदीर्घ एवं समृद्ध परम्परा असम के लोकगीतों, संस्कार गीतों एवं श्रम गीतों में मौजूद रही है। ‘निसुकनि गीतों’, ‘हुसरी गीतों’, ‘बारामाही गीतों’, ‘नावखेलोवा गीतों’, ‘बियानाम’, ‘मन्त्र साहित्य’ तथा ‘जतुवा ठाँस (लोकोक्ति)’ आदि में रामकथा स्थानीय वैशिष्ट्य के साथ उपस्थित है। असम के जनजातीय बहुल समाज में भी अलग-अलग रामकथाएँ अपने लोकल फ़्लेवर के साथ भिन्न-भिन्न रूपों में तथा प्रभूत मात्रा में उपलब्ध हैं। इस दृष्टि से कार्बी जनजाति के ‘साबिन आलुन’, टाईफाँके जनजाति के ‘टाई रामायण’ तथा न्यीशी, मिजो, डिमासा, खामती, तिवा, बोडो आदि जनजातियों के लोक साहित्य में रामकथा पूरी विविधता के साथ मौजूद है। लिखित और वाचिक साहित्य के अलावा देश-विदेश की साहित्येतर कलाओं मसलनµचित्राकला, मूर्तिकला, स्थापत्य कला, मुखौटा कला आदि में भी रामकथा के दृष्टान्त मिलते हैं। श्रीलंका, जावा, सुमात्रा, कम्बोडिया, थाईलैंड, इंडोनेशिया आदि देशों की विभिन्न कलाओं में भी रामकथा की स्पष्ट छाप मिलती है। असम में स्थित दुनिया के सबसे बड़े नदी द्वीप ‘माजुली’ की मुखौटा कला विश्व प्रसिद्ध है। माजुली की इस अद्भुत कला में भी रामकथा सदियों से जीवन्त है और उसकी अपनी एक विशिष्ट पहचान भी है। असमिया लोक, शास्त्र और कला में व्याप्त रामकथा के इन्हीं वैविध्यपूर्ण एवं बहुपक्षीय रूपों को उद्घाटित करना ही इस पुस्तक का लक्ष्य है। yadi hum adhunik bhartiy arybhashaon mein rachit ramakthaon par ghaur karen to is kram mein hum dekhte hain ki sabse pahle jis adhunik bhartiy arybhasha mein ramaktha milti hai vah hai asamiya bhasha mein 14veen sadi mein ‘aprmadi kavi’ madhav kandali dvara rachit ‘saptkanD ramayan’. dhyatavya hai ki ye ramaktha tulsi ke ‘ramacharitmanas’ se lagbhag DeDh sau varsh poorv likhi gayi. ashcharya ki baat ye bhi hai ki ye ramaktha sabse pahle us prdesh mein likhi gayi jo mulatः krishn bhakti prdhaan kshetr hai. isse bhi zyada chakit karne vali baat ye hai ki asam ke mahan krishn bhakt kavi mahapurush shrimant shankardev ne apna pahla bargit ‘man meri raam charanahi lagu. . . ’ aur antim natak ‘ramavijay’ raam ko kendr mein rakhkar likha hai. ye mahaz ittefaq to nahin ho sakta. ye ramaktha ki chaturdik vyapti tatha uski garima mahima nahin hai to aur kya hai? khair, shrimant shankardev virchit ‘uttarkanD’ aur kavi prvar madhavdev krit ‘adikanD’ asamiya ramaktha shrinkhla ki mahattvpurn kaDiyan hain. isi kram mein anant kandali ke ‘patakhanD ramayan’ evan ‘jivastuti ramayan’, harihar vipr ke ‘lavakushar yuddh’, durgavar kayasth ke ‘gitiramayan’, anant thakur ata ke ‘shriram kirtan’, raghunath mahant ke ‘adbhut ramayan’ evan ‘katha ramayan’, shriram ata ke ‘adhyatm ramayan’ aadi ka bhi naam liya ja sakta hai. in ramakthaon mein amtaur par valmiki ramayan ke saranuvad ko hi lokbhasha mein kuchh navin udbhavnaon ke saath prastut kiya gaya hai. asamiya lok jivan evan lok sanskriti ke phashek eliments jaise asam ke vishisht khelon, vadyyantron, machhli ke prkaar, silk, tambul, asamiya jati, pesha, vyavsay aadi ka nivesh in ramakthaon ko svabhavik evan maulik banata hai. ye to hui asamiya ramaktha ke likhit roop ki baat. vachik roop mein bhi asamiya ramaktha ki ek sudirgh evan samriddh parampra asam ke lokgiton, sanskar giton evan shram giton mein maujud rahi hai. ‘nisukani giton’, ‘husri giton’, ‘baramahi giton’, ‘navkhelova giton’, ‘biyanam’, ‘mantr sahitya’ tatha ‘jatuva thaans (lokokti)’ aadi mein ramaktha sthaniy vaishishtya ke saath upasthit hai. asam ke janjatiy bahul samaj mein bhi alag alag ramakthayen apne lokal flevar ke saath bhinn bhinn rupon mein tatha prbhoot matra mein uplabdh hain. is drishti se karbi janjati ke ‘sabin alun’, taiphanke janjati ke ‘tai ramayan’ tatha nyishi, mijo, Dimasa, khamti, tiva, boDo aadi janjatiyon ke lok sahitya mein ramaktha puri vividhta ke saath maujud hai. likhit aur vachik sahitya ke alava desh videsh ki sahityetar kalaon maslanµchitrakla, murtikla, sthapatya kala, mukhauta kala aadi mein bhi ramaktha ke drishtant milte hain. shrilanka, java, sumatra, kamboDiya, thailainD, inDoneshiya aadi deshon ki vibhinn kalaon mein bhi ramaktha ki spasht chhaap milti hai. asam mein sthit duniya ke sabse baDe nadi dveep ‘majuli’ ki mukhauta kala vishv prsiddh hai. majuli ki is adbhut kala mein bhi ramaktha sadiyon se jivant hai aur uski apni ek vishisht pahchan bhi hai. asamiya lok, shaastr aur kala mein vyaapt ramaktha ke inhin vaividhypurn evan bahupakshiy rupon ko udghatit karna hi is pustak ka lakshya hai.