BackBack
-11%

Bhartiya Aryabhasha Aur Hindi

Sunitikumar Chaturjya

Rs. 795 Rs. 708

Rajkamal Prakashan

‘भारतीय आर्यभाषा और हिन्दी’ में प्रख्यात भाषाविद् डॉ. सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या के वे अत्यन्त महत्त्वपूर्ण भाषण संकलित हैं, जो उन्होंने 1940 ई. में ‘गुजरात वर्नाक्यूलर सोसाइटी’ के आमंत्रण पर दिए थे। इन भाषणों के विषय थे : (1) ‘भारतवर्ष में आर्यभाषा का विकास’ और (2) ‘नूतन आर्य अन्त:प्रादेशिक भाषा हिन्दी का... Read More

Description

‘भारतीय आर्यभाषा और हिन्दी’ में प्रख्यात भाषाविद् डॉ. सुनीतिकुमार चाटुर्ज्या के वे अत्यन्त महत्त्वपूर्ण भाषण संकलित हैं, जो उन्होंने 1940 ई. में ‘गुजरात वर्नाक्यूलर सोसाइटी’ के आमंत्रण पर दिए थे। इन भाषणों के विषय थे : (1) ‘भारतवर्ष में आर्यभाषा का विकास’ और (2) ‘नूतन आर्य अन्त:प्रादेशिक भाषा हिन्दी का विकास’ अर्थात् राष्ट्रभाषा के रूप में हिन्दी का विकास। जनवरी 1942 में सुनीति बाबू ने इन भाषणों को संशोधित और परिवर्धित करके पुस्तक रूप में प्रकाशित कराया था। 1960 में दूसरे संस्करण के लिए उन्होंने फिर इसे पूरी तरह संशोधित किया। इसमें कुछ अंश नए जोड़े और कुछ बातों पर पहले के दृष्टिकोण में संपरिवर्तन किया। इस प्रकार पुस्तक ने जो रूप लिया, वह आज पाठकों के सामने है, और भारत में ही नहीं विदेश में भी यह अपने विषय की एक अत्यन्त प्रामाणिक पुस्तक मानी जाती है।
भारत सरकार द्वारा यह पुस्तक पुरस्कृत हो चुकी है। ‘bhartiy aarybhasha aur hindi’ mein prakhyat bhashavid dau. Sunitikumar chaturjya ke ve atyant mahattvpurn bhashan sanklit hain, jo unhonne 1940 ii. Mein ‘gujrat varnakyular sosaiti’ ke aamantran par diye the. In bhashnon ke vishay the : (1) ‘bharatvarsh mein aarybhasha ka vikas’ aur (2) ‘nutan aarya ant:pradeshik bhasha hindi ka vikas’ arthat rashtrbhasha ke rup mein hindi ka vikas. Janavri 1942 mein suniti babu ne in bhashnon ko sanshodhit aur parivardhit karke pustak rup mein prkashit karaya tha. 1960 mein dusre sanskran ke liye unhonne phir ise puri tarah sanshodhit kiya. Ismen kuchh ansh ne jode aur kuchh baton par pahle ke drishtikon mein samparivartan kiya. Is prkar pustak ne jo rup liya, vah aaj pathkon ke samne hai, aur bharat mein hi nahin videsh mein bhi ye apne vishay ki ek atyant pramanik pustak mani jati hai. Bharat sarkar dvara ye pustak puraskrit ho chuki hai.