BackBack
-11%

Bharatnama

Rs. 550 Rs. 490

आज के भारत की राजनीति का संभवतः सर्वश्रेष्ठ गैरऔपन्यासिक परिचय...-माइकल फुट, इवनिंग स्टैण्डर्ड भारत और उसकी समसामयिक परिस्थितियों पर कोई और किताब ही इससे अधिक गहनता के साथ बेहतर रौशनी डाल सके | - इयान जैक, ऑब्जर्वर इस शानदार किताब का मकसद कोई भविष्यवाणी करने के बजाय यह बताना है... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Discourse
Description

आज के भारत की राजनीति का संभवतः सर्वश्रेष्ठ गैरऔपन्यासिक परिचय...-माइकल फुट, इवनिंग स्टैण्डर्ड भारत और उसकी समसामयिक परिस्थितियों पर कोई और किताब ही इससे अधिक गहनता के साथ बेहतर रौशनी डाल सके | - इयान जैक, ऑब्जर्वर इस शानदार किताब का मकसद कोई भविष्यवाणी करने के बजाय यह बताना है कि भारत अपनी मौजूदा हैसियत तक कैसे पहुँचा और उसका अंतर्निहित विचार कैसे विकसित हुआ | यह किताब आजादी के पचास साल बाद भारत की खूबियों और खामियों की तरफ इशारा करती है...उत्कृष्ट बौद्धिकता से समपन्न यह पुस्तक करीब ढाई सौ पृष्ठों में आधुनिक भारत की कई जटिलताओं की शिनाख्त करते हुए उनके उद्घाटन और व्याख्या में सफल होती है...इसकी जितनी प्रशंसा की जाए वह कम है |-डेविड गिलमूर, इंडिपेंडेंट ऑन सन्डे यह पुस्तक भारतीय राष्ट्र की परिभाषाओं को उजागर करती है...सभी तरह के रोमानी संस्कृतिवादियों और धार्मिक कट्टरपंथियों की दलीलों को कुशलता से परास्त कर देती है |- इयान वरुपा, न्यूयार्क रिव्यु ऑव बुक्स Aaj ke bharat ki rajniti ka sambhvatः sarvashreshth gairaupanyasik parichay. . . -maikal phut, ivning staindard bharat aur uski samsamyik paristhitiyon par koi aur kitab hi isse adhik gahanta ke saath behtar raushni daal sake. - iyan jaik, aubjarvar is shandar kitab ka maksad koi bhavishyvani karne ke bajay ye batana hai ki bharat apni maujuda haisiyat tak kaise pahuncha aur uska antarnihit vichar kaise viksit hua. Ye kitab aajadi ke pachas saal baad bharat ki khubiyon aur khamiyon ki taraph ishara karti hai. . . Utkrisht bauddhikta se sampann ye pustak karib dhai sau prishthon mein aadhunik bharat ki kai jatiltaon ki shinakht karte hue unke udghatan aur vyakhya mein saphal hoti hai. . . Iski jitni prshansa ki jaye vah kam hai. -devid gilmur, indipendent aun sande ye pustak bhartiy rashtr ki paribhashaon ko ujagar karti hai. . . Sabhi tarah ke romani sanskritivadiyon aur dharmik kattarpanthiyon ki dalilon ko kushalta se parast kar deti hai. - iyan varupa, nyuyark rivyu auv buks