BackBack
-10%

Bharatiya Sahitya aur Aadiwasi-Vimarsh

Dr. Madhav Sontakke, & Dr. Sanjay Rathod

Rs. 695 Rs. 626

Vani Prakashan

आज के दौर में अधिकांश भारतीय भाषाओं में आदिवासी पर लेखन हो रहा है। वर्तमान में आदिवासी साहित्य का दायरा बढ़ने की सम्भावना है। आधुनिक या समकालीन कविता की दृष्टि से आंचलिक भाषाओं में अवश्य कविता के माध्यम से आदिवासी जीवन के विभिन्न पक्षों पर विचार किया गया लेकिन हिन्दी... Read More

Description

आज के दौर में अधिकांश भारतीय भाषाओं में आदिवासी पर लेखन हो रहा है। वर्तमान में आदिवासी साहित्य का दायरा बढ़ने की सम्भावना है। आधुनिक या समकालीन कविता की दृष्टि से आंचलिक भाषाओं में अवश्य कविता के माध्यम से आदिवासी जीवन के विभिन्न पक्षों पर विचार किया गया लेकिन हिन्दी भाषा में आदिवासी कविता अभी शुरुआती दौर में प्रवेश कर रही है। वैसे तो निर्मला पुतुल, रोज़ केरकट, रमणिका गुप्ता जैसों ने आदिवासी साहित्य की ओर आलोचकों का ध्यान आकर्षित किया है। आज आदिवासी एवं गैर-आदिवासी लेखकों के द्वारा साहित्य में आदिवासी जीवन का गहन अनुभव, विषय के अनुरूप भाषा का मुहावरा, प्रकृति का ह्रास, मानवता के दुख-सुख, शोषण, विस्थापन आदि के सन्दर्भ आये हैं। विशेष रूप से आदिवासी अस्मिता के संकट को लेकर सभी साहित्यकार अपनी चिन्ता जाहिर करते हैं। यह सच है कि आदिवासी कविता, उपन्यास, कहानी या अन्य विधाओं में आदिवासी साहित्य अपनी अलग पहचान रखते हुए भी व्यापक लोक के यथार्थ के निकट रहा है। अतः आज आदिवासी लेखन अपने प्रारम्भिक दौर से आगे बढ़ रहा है। वह साहित्य की अन्य विधाओं में भी अपनी उपस्थिति दर्ज़ करा रहा है। प्रस्तुत पुस्तक में आदिवासी-विमर्श से जुड़े कई पहलुओं को स्थान दिया गया है। आशा है कि प्रस्तुत पुस्तक में संकलित सामग्री हिन्दी जगत को पसन्द आयेगी। aaj ke daur mein adhikansh bhartiy bhashaon mein adivasi par lekhan ho raha hai. vartman mein adivasi sahitya ka dayra baDhne ki sambhavna hai. adhunik ya samkalin kavita ki drishti se anchlik bhashaon mein avashya kavita ke madhyam se adivasi jivan ke vibhinn pakshon par vichar kiya gaya lekin hindi bhasha mein adivasi kavita abhi shuruati daur mein prvesh kar rahi hai. vaise to nirmla putul, roz kerkat, ramanika gupta jaison ne adivasi sahitya ki or alochkon ka dhyaan akarshit kiya hai. aaj adivasi evan gair adivasi lekhkon ke dvara sahitya mein adivasi jivan ka gahan anubhav, vishay ke anurup bhasha ka muhavra, prkriti ka hraas, manavta ke dukh sukh, shoshan, visthapan aadi ke sandarbh aaye hain. vishesh roop se adivasi asmita ke sankat ko lekar sabhi sahitykar apni chinta jahir karte hain. ye sach hai ki adivasi kavita, upanyas, kahani ya anya vidhaon mein adivasi sahitya apni alag pahchan rakhte hue bhi vyapak lok ke yatharth ke nikat raha hai. atः aaj adivasi lekhan apne prarambhik daur se aage baDh raha hai. vah sahitya ki anya vidhaon mein bhi apni upasthiti darz kara raha hai. prastut pustak mein adivasi vimarsh se juDe kai pahaluon ko sthaan diya gaya hai. aasha hai ki prastut pustak mein sanklit samagri hindi jagat ko pasand ayegi.