Look Inside
Bharat Mein Manavaadhikar
Bharat Mein Manavaadhikar
Bharat Mein Manavaadhikar
Bharat Mein Manavaadhikar

Bharat Mein Manavaadhikar

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bharat Mein Manavaadhikar

Bharat Mein Manavaadhikar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मानवाधिकारों की अवधारणा वर्तमान सामाजिक विमर्शों में एक महत्त्वपूर्ण तथा सार्वदेशिक मूल्य का स्थान रखती है। 1215 ई. में पारित मैग्नाकार्टा के आरम्भिक स्वरूप से चलकर आज यह अवधारणा मौजूदा विश्व–सभ्यता का ठोस घटक बन चुकी है। इस पुस्तक का उद्देश्य भारतीय संस्कृति में इस घटक की पहचान करना और यह देखना है कि हमारे इतिहास के विभिन्न चरणों में मानवाधिकारों की स्थिति क्या थी।
मूलत: अध्यात्म प्रमुख भारतीय संस्कृति के अनुसार मनुष्य प्रकृति का ही एक अंग है, जिसके साहचर्य में ही वह अपने अधिकारों तथा कर्तव्यों का निर्वहन करता है। ऋग्वेद में भी यह वर्णन आया है कि हम अपना सम्पूर्ण विकास सबके कल्याण को ध्यान में रखते हुए ही कर सकते हैं, और यही मानवाधिकार की अवधारणा की केन्द्रीय निष्ठा है। प्राचीन समाज में हालाँकि मानव–अधिकारों की स्थिति इतनी स्पष्टता के साथ परिभाषित नहीं है, लेकिन यह सर्वमान्य है कि भारतीय समाज–व्यवस्था ने अपने समाज में व्यक्ति तथा समष्टि के परस्पर सन्तुलन के लिए कुछ नियमों या सिद्धान्तों का निर्धारण अवश्य किया था।
‘भारत में मानवाधिकार’ पुस्तक में प्राचीन हिन्दू धर्म–दर्शन में मानवाधिकारों की अभिकल्पना, जैन तथा बौद्धधर्म व कौटिल्य के समय में मानवाधिकारों की अवस्थिति, मध्यकालीन युग और पुनर्जागरण के दौरान और उसके बाद के समय में मानवाधिकारों की दशा–दिशा का आकलन किया गया है। इसके साथ ही स्वतंत्रता आन्दोलन के दौरान और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद मानवाधिकारों को लेकर हमारी चेतना तथा उनके संरक्षण के लिए किए गए प्रयासों की तथ्यपरक जानकारी भी दी गई है। परिशिष्ट खंड में मानव अधिकार अधिनियम 1993, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (प्रक्रिया) विनियम–1994 तथा सूचना के अधिकार पर भी सामग्री दी गई है जो इस पुस्तक को और मूल्यवान बनाती है। Manvadhikaron ki avdharna vartman samajik vimarshon mein ek mahattvpurn tatha sarvdeshik mulya ka sthan rakhti hai. 1215 ii. Mein parit maignakarta ke aarambhik svrup se chalkar aaj ye avdharna maujuda vishv–sabhyta ka thos ghatak ban chuki hai. Is pustak ka uddeshya bhartiy sanskriti mein is ghatak ki pahchan karna aur ye dekhna hai ki hamare itihas ke vibhinn charnon mein manvadhikaron ki sthiti kya thi. Mulat: adhyatm prmukh bhartiy sanskriti ke anusar manushya prkriti ka hi ek ang hai, jiske sahcharya mein hi vah apne adhikaron tatha kartavyon ka nirvhan karta hai. Rigved mein bhi ye varnan aaya hai ki hum apna sampurn vikas sabke kalyan ko dhyan mein rakhte hue hi kar sakte hain, aur yahi manvadhikar ki avdharna ki kendriy nishtha hai. Prachin samaj mein halanki manav–adhikaron ki sthiti itni spashtta ke saath paribhashit nahin hai, lekin ye sarvmanya hai ki bhartiy samaj–vyvastha ne apne samaj mein vyakti tatha samashti ke paraspar santulan ke liye kuchh niymon ya siddhanton ka nirdharan avashya kiya tha.
‘bharat mein manvadhikar’ pustak mein prachin hindu dharm–darshan mein manvadhikaron ki abhikalpna, jain tatha bauddhdharm va kautilya ke samay mein manvadhikaron ki avasthiti, madhykalin yug aur punarjagran ke dauran aur uske baad ke samay mein manvadhikaron ki dasha–disha ka aaklan kiya gaya hai. Iske saath hi svtantrta aandolan ke dauran aur svtantrta prapti ke baad manvadhikaron ko lekar hamari chetna tatha unke sanrakshan ke liye kiye ge pryason ki tathyaprak jankari bhi di gai hai. Parishisht khand mein manav adhikar adhiniyam 1993, rashtriy manvadhikar aayog (prakriya) viniyam–1994 tatha suchna ke adhikar par bhi samagri di gai hai jo is pustak ko aur mulyvan banati hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products