Look Inside
Bharat Mein Bandhua Mazdoor
Bharat Mein Bandhua Mazdoor
Bharat Mein Bandhua Mazdoor
Bharat Mein Bandhua Mazdoor

Bharat Mein Bandhua Mazdoor

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bharat Mein Bandhua Mazdoor

Bharat Mein Bandhua Mazdoor

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

देश की जिन गम्भीर समस्याओं पर मुख्यधारा का मीडिया ख़ामोश रहता है और सरकार उदासीन, उनमें बँधुआ मज़दूरों की समस्या भी एक है। सरकारी घोषणाओं में यह समस्या ख़त्म हो चुकी है और मीडिया के लिए इसमें सनसनी नहीं रही। लेकिन समस्या अभी जहाँ की तहाँ है। 1975 में राष्ट्रपति के एक अध्यादेश के ज़रिए औपचारिक तौर पर बँधुआ मज़दूरी पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था, लेकिन देश के लगभग सभी राज्यों में आज भी यह प्रथा बिना किसी रोक-टोक के जारी है। बीच-बीच में सरकारें बँधुआ तौर पर काम कर रहे मज़दूरों की मुक्ति और पुनर्वास का स्वाँग भी रचती हैं, लेकिन मुक्त कराए गए मज़दूरों को पुन: एक नई तरह की बँधुआ मज़दूरी का शिकार होना पड़ा है। न तो उनकी जीविका के लिए पर्याप्त साधन मुहैया कराए गए और न ही शक्तिशाली भूमिपतियों से उनकी हिफ़ाज़त का कोई विश्वसनीय इन्तज़ाम हो पाया।
‘भारत में बँधुआ मज़दूर’ इस समस्या का सर्वांग अध्ययन प्रस्तुत करती है। प्रख्यात बांग्‍ला लेखिका महाश्वेता देवी यहाँ पूर्णतया एक शोधकर्मी के तौर पर प्रकट हुई हैं, ज़ाहिर है, उत्पीड़ितों-उपेक्षितों के लिए अपनी सर्वज्ञात संवेदना के साथ। शोधकर्म की निर्मम असंलग्नता से बचते हुए, विषय के साथ नितान्त मानवीय लगाव के साथ यह शोध किया गया है। Desh ki jin gambhir samasyaon par mukhydhara ka midiya khamosh rahta hai aur sarkar udasin, unmen bandhua mazduron ki samasya bhi ek hai. Sarkari ghoshnaon mein ye samasya khatm ho chuki hai aur midiya ke liye ismen sanasni nahin rahi. Lekin samasya abhi jahan ki tahan hai. 1975 mein rashtrapati ke ek adhyadesh ke zariye aupcharik taur par bandhua mazduri par pratibandh laga diya gaya tha, lekin desh ke lagbhag sabhi rajyon mein aaj bhi ye prtha bina kisi rok-tok ke jari hai. Bich-bich mein sarkaren bandhua taur par kaam kar rahe mazduron ki mukti aur punarvas ka svang bhi rachti hain, lekin mukt karaye ge mazduron ko pun: ek nai tarah ki bandhua mazduri ka shikar hona pada hai. Na to unki jivika ke liye paryapt sadhan muhaiya karaye ge aur na hi shaktishali bhumipatiyon se unki hifazat ka koi vishvasniy intzam ho paya. ‘bharat mein bandhua mazdur’ is samasya ka sarvang adhyyan prastut karti hai. Prakhyat bang‍la lekhika mahashveta devi yahan purnatya ek shodhkarmi ke taur par prkat hui hain, zahir hai, utpiditon-upekshiton ke liye apni sarvagyat sanvedna ke saath. Shodhkarm ki nirmam asanlagnta se bachte hue, vishay ke saath nitant manviy lagav ke saath ye shodh kiya gaya hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products