BackBack
-11%

Bharat Ke Madhya Varg Ki Ajeeb Dastan

Rs. 250 Rs. 223

भारत 1991 में जैसे ही आर्थिक सुधारों और भूमंडलीकरण की डगर पर चला, वैसे ही इस देश के मध्यवर्ग को एक नया महत्त्व प्राप्त हो गया। नई अर्थनीति के नियोजकों ने मध्यवर्ग को ‘शहरी भारत’ के रूप में देखा जो उनके लिए विश्व के सबसे बड़े बाज़ारों में से एक... Read More

Description

भारत 1991 में जैसे ही आर्थिक सुधारों और भूमंडलीकरण की डगर पर चला, वैसे ही इस देश के मध्यवर्ग को एक नया महत्त्व प्राप्त हो गया। नई अर्थनीति के नियोजकों ने मध्यवर्ग को ‘शहरी भारत’ के रूप में देखा जो उनके लिए विश्व के सबसे बड़े बाज़ारों में से एक था। एक सर्वेक्षण ने घोषित कर दिया कि यह ‘शहरी भारत अपने आप में दुनिया के तीसरे सबसे बड़े देश के बराबर है।’ लेकिन, भारतीय मध्यवर्ग कोई रातोंरात बन जानेवाली सामाजिक संरचना नहीं थी। उपभोक्तावादी परभक्षी के रूप में इसकी खोज किए जाने से कहीं पहले इस वर्ग का एक अतीत और एक इतिहास भी था। भारत के मध्यवर्ग की अजीब दास्ताँ में पवन कुमार वर्मा ने इसी प्रस्थान बिन्दु से बीसवीं शताब्दी में मध्यवर्ग के उद्भव और विकास की विस्तृत जाँच-पड़ताल की है। उन्होंने आज़ादी के बाद के पचास वर्षों को ख़ास तौर से अपनी विवेचना का केन्द्र बनाया है। वे आर्थिक उदारीकरण से उपजे समृद्धि के आशावाद को इस वर्ग की मानसिकता और प्रवृत्तियों की रोशनी में देखते हैं। उन्होंने रातोंरात अमीर बन जाने की मध्यवर्गीय स्वैर कल्पना को नितान्त ग़रीबी में जीवन-यापन कर रहे असंख्य भारतवासियों के निर्मम यथार्थ की कसौटी पर भी कसा है।
मध्यवर्ग की यह अजीब दास्ताँ आज़ादी के बाद हुए घटनाक्रम का गहराई से जायज़ा लेती है। भारत-चीन युद्ध और नेहरू की मृत्यु से लेकर आपातकाल व मंडल आयोग की सिफ़ारिशों को लागू करने की घोषणा तक इस दास्ताँ में मध्यवर्ग एक ऐसे ख़ुदग़र्ज़ तबक़े के रूप में उभरता है जिसने बार-बार न्यायपूर्ण समाज बनने के अपने ही घोषित लक्ष्यों के साथ ग़द्दारी की है। लोकतंत्र और चुनाव-प्रक्रिया के प्रति मध्यवर्ग की प्रतिबद्धता दिनोंदिन कमज़ोर होती जा रही है। मध्यवर्ग ऐसी किसी गतिविधि या सच्चाई से कोई वास्ता नहीं रखना चाहता जिसका उसकी आर्थिक ख़ुशहाली से सीधा वास्ता न हो। आर्थिक उदारीकरण ने उसके इस रवैये को और भी बढ़ावा दिया है।
पुस्तक के आख़िरी अध्याय में पवन कुमार वर्मा ने बड़ी शिद्दत के साथ दलील दी है कि कामयाब लोगों द्वारा समाज से अपने-आपको काट लेने की यह परियोजना भारत जैसे देश के लिए ख़तरनाक ही नहीं, बल्कि यथार्थ से परे भी है। अगर भारत के मध्यवर्ग ने दरिद्र भारत की ज़रूरतों के प्रति अपनी संवेदनहीनता ज़ारी रखी तो इससे वह भरी राजनीतिक उथल-पुथल की आफ़त को ही आमंत्रित करेगा। किसी भी राजनीतिक अस्थिरता का सीधा नुकसान मध्यवर्ग द्वारा पाली गई समृद्धि की महत्त्वाकांक्षाओं को ही झेलना होगा। Bharat 1991 mein jaise hi aarthik sudharon aur bhumandlikran ki dagar par chala, vaise hi is desh ke madhyvarg ko ek naya mahattv prapt ho gaya. Nai arthniti ke niyojkon ne madhyvarg ko ‘shahri bharat’ ke rup mein dekha jo unke liye vishv ke sabse bade bazaron mein se ek tha. Ek sarvekshan ne ghoshit kar diya ki ye ‘shahri bharat apne aap mein duniya ke tisre sabse bade desh ke barabar hai. ’ lekin, bhartiy madhyvarg koi ratonrat ban janevali samajik sanrachna nahin thi. Upbhoktavadi parbhakshi ke rup mein iski khoj kiye jane se kahin pahle is varg ka ek atit aur ek itihas bhi tha. Bharat ke madhyvarg ki ajib dastan mein pavan kumar varma ne isi prasthan bindu se bisvin shatabdi mein madhyvarg ke udbhav aur vikas ki vistrit janch-padtal ki hai. Unhonne aazadi ke baad ke pachas varshon ko khas taur se apni vivechna ka kendr banaya hai. Ve aarthik udarikran se upje samriddhi ke aashavad ko is varg ki manasikta aur prvrittiyon ki roshni mein dekhte hain. Unhonne ratonrat amir ban jane ki madhyvargiy svair kalpna ko nitant garibi mein jivan-yapan kar rahe asankhya bharatvasiyon ke nirmam yatharth ki kasauti par bhi kasa hai. Madhyvarg ki ye ajib dastan aazadi ke baad hue ghatnakram ka gahrai se jayza leti hai. Bharat-chin yuddh aur nehru ki mrityu se lekar aapatkal va mandal aayog ki sifarishon ko lagu karne ki ghoshna tak is dastan mein madhyvarg ek aise khudgarz tabqe ke rup mein ubharta hai jisne bar-bar nyaypurn samaj banne ke apne hi ghoshit lakshyon ke saath gaddari ki hai. Loktantr aur chunav-prakriya ke prati madhyvarg ki pratibaddhta dinondin kamzor hoti ja rahi hai. Madhyvarg aisi kisi gatividhi ya sachchai se koi vasta nahin rakhna chahta jiska uski aarthik khushhali se sidha vasta na ho. Aarthik udarikran ne uske is ravaiye ko aur bhi badhava diya hai.
Pustak ke aakhiri adhyay mein pavan kumar varma ne badi shiddat ke saath dalil di hai ki kamyab logon dvara samaj se apne-apko kaat lene ki ye pariyojna bharat jaise desh ke liye khatarnak hi nahin, balki yatharth se pare bhi hai. Agar bharat ke madhyvarg ne daridr bharat ki zarurton ke prati apni sanvedanhinta zari rakhi to isse vah bhari rajnitik uthal-puthal ki aafat ko hi aamantrit karega. Kisi bhi rajnitik asthirta ka sidha nuksan madhyvarg dvara pali gai samriddhi ki mahattvakankshaon ko hi jhelna hoga.