Bharat Ke Gaon

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bharat Ke Gaon

Bharat Ke Gaon

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत, ब्रिटेन और अमेरिका के प्रमुख समाजशास्त्रियों द्वारा लिखे गए निबन्धों के इस संग्रह में भारत के चुनिन्दा गाँवों और उनमें हो रहे सामाजिक–सांस्कृतिक परिवर्तनों के विवरण प्रस्तुत हैं। हर निबन्ध एक क्षेत्र के एक ही गाँव या गाँवों के समूह के गहन अध्ययन का परिणाम है। यह निबन्ध एक विस्तृत क्षेत्र का लेखा–जोखा प्रस्तुत करते हैं, उत्तर में हिमाचल प्रदेश से लेकर दक्षिण में तंजौर तक और पश्चिम में राजस्थान से लेकर पूर्व में बंगाल तक।
सर्वेक्षित गाँव सामुदायिक जीवन के विविध प्रारूप प्रस्तुत करते हैं, लेकिन इस विविधता में ही कहीं उस एकता का सूत्र गुँथा है जो भारतीय ग्रामीण दृश्य का लक्षण है। निबन्धों में गहरी धँसी जाति व्यवस्था और गाँव की एकता का प्रश्न हाल के वर्षों में बढ़े औद्योगिकीरण और शहरीकरण के ग्रामीण विकास के लिए सरकारी योजनाओं और शिक्षा के प्रभाव से जुड़े कुछ ऐसे पक्ष हैं जिनकी विद्वत्तापूर्ण पड़ताल हुई है। आज भी, भारत एक कृषि प्रधान देश है जिसकी 80 प्रतिशत जनसंख्या उसके पाँच लाख गाँवों में रहती है, और उन्हें बदल पाने के लिए उनके जीवन की स्थितियों की जानकारी ज़रूरी है। ‘भारत के गाँव’ जिज्ञासु सामान्य जन और ग्रामीण भारत को जाननेवाले विशेषज्ञों के लिए ग्रामीण भारत का परिचय उपलब्ध कराती है। Bharat, briten aur amerika ke prmukh samajshastriyon dvara likhe ge nibandhon ke is sangrah mein bharat ke chuninda ganvon aur unmen ho rahe samajik–sanskritik parivartnon ke vivran prastut hain. Har nibandh ek kshetr ke ek hi ganv ya ganvon ke samuh ke gahan adhyyan ka parinam hai. Ye nibandh ek vistrit kshetr ka lekha–jokha prastut karte hain, uttar mein himachal prdesh se lekar dakshin mein tanjaur tak aur pashchim mein rajasthan se lekar purv mein bangal tak. Sarvekshit ganv samudayik jivan ke vividh prarup prastut karte hain, lekin is vividhta mein hi kahin us ekta ka sutr guntha hai jo bhartiy gramin drishya ka lakshan hai. Nibandhon mein gahri dhansi jati vyvastha aur ganv ki ekta ka prashn haal ke varshon mein badhe audyogikiran aur shahrikran ke gramin vikas ke liye sarkari yojnaon aur shiksha ke prbhav se jude kuchh aise paksh hain jinki vidvattapurn padtal hui hai. Aaj bhi, bharat ek krishi prdhan desh hai jiski 80 pratishat jansankhya uske panch lakh ganvon mein rahti hai, aur unhen badal pane ke liye unke jivan ki sthitiyon ki jankari zaruri hai. ‘bharat ke ganv’ jigyasu samanya jan aur gramin bharat ko jannevale visheshagyon ke liye gramin bharat ka parichay uplabdh karati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products