Look Inside
Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh
Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh
Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh
Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh

Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh

Regular price Rs. 651
Sale price Rs. 651 Regular price Rs. 700
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh

Bharat Ka Rashtriya Vriksh Aur Rajyo Ke Rajya Vriksh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘भारत का राष्ट्रीय वृक्ष और राज्यों के राज्य वृक्ष’ एक अनूठी पुस्तक है। इसका उद्देश्य है पाठकों को अपने पर्यावरण के प्रति सचेत व सहृदय बनाना।
इस पुस्तक में भारत के राष्ट्रीय वृक्ष सहित 25 राज्यों और 2 केन्द्रशासित प्रदेशों के राज्य वृक्षों का परिचय दिया गया है। छत्तीसगढ़, दिल्ली, गुजरात और मध्य प्रदेश ऐसे राज्य हैं, जिन्होंने अभी तक अपने राज्य वृक्ष घोषित नहीं किए हैं। इसके साथ ही चंडीगढ़, दादर नगर हवेली, दमन एवं दीव और पांडिचेरी के भी राज्य वृक्ष नहीं हैं। केन्द्रशासित प्रदेशों में केवल लक्षद्वीप और अंडमान-निकोबार ने अपने राज्य वृक्ष घोषित किए हैं।
भारत का राष्ट्रीय वृक्ष बरगद है। यह ओड़िसा का राज्य वृक्ष भी है। लगभग ऐसी ही स्थिति पीपल और हुलुंग की है। पीपल को बिहार और हरियाणा दोनों ने अपना राज्य वृक्ष घोषित किया है। हुलुंग विश्व-भर में होलांग के नाम से प्रसिद्ध है। हुलुंग को अरुणाचल प्रदेश और असम दोनों ने अपना राज्य वृक्ष माना है।
प्रत्येक वृक्ष के परिचय में वृक्ष का हिन्दी नाम, अंग्रेज़ी नाम और वैज्ञानिक नाम दिया गया है।
पुस्तक का उद्देश्य वृक्षों से सम्बन्धित भ्रामक धारणाओं का खंडन करते हुए वैज्ञानिक जानकारियाँ प्रदान करना और इनके महत्त्व एवं उपयोग से परिचित कराना है।
समाजशास्त्री और पर्यावरणविद् डॉ. परशुराम शुक्ल ने उक्त उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए इस पुस्तक में वृक्षों के बारे में विस्तार से जानकारियाँ दी हैं। ये रोचक और ज्ञानवर्द्धक हैं। हिन्दी में अपने विषय पर यह अकेली पुस्तक है। ‘bharat ka rashtriy vriksh aur rajyon ke rajya vriksh’ ek anuthi pustak hai. Iska uddeshya hai pathkon ko apne paryavran ke prati sachet va sahriday banana. Is pustak mein bharat ke rashtriy vriksh sahit 25 rajyon aur 2 kendrshasit prdeshon ke rajya vrikshon ka parichay diya gaya hai. Chhattisgadh, dilli, gujrat aur madhya prdesh aise rajya hain, jinhonne abhi tak apne rajya vriksh ghoshit nahin kiye hain. Iske saath hi chandigadh, dadar nagar haveli, daman evan div aur pandicheri ke bhi rajya vriksh nahin hain. Kendrshasit prdeshon mein keval lakshadvip aur andman-nikobar ne apne rajya vriksh ghoshit kiye hain.
Bharat ka rashtriy vriksh bargad hai. Ye odisa ka rajya vriksh bhi hai. Lagbhag aisi hi sthiti pipal aur hulung ki hai. Pipal ko bihar aur hariyana donon ne apna rajya vriksh ghoshit kiya hai. Hulung vishv-bhar mein holang ke naam se prsiddh hai. Hulung ko arunachal prdesh aur asam donon ne apna rajya vriksh mana hai.
Pratyek vriksh ke parichay mein vriksh ka hindi naam, angrezi naam aur vaigyanik naam diya gaya hai.
Pustak ka uddeshya vrikshon se sambandhit bhramak dharnaon ka khandan karte hue vaigyanik jankariyan prdan karna aur inke mahattv evan upyog se parichit karana hai.
Samajshastri aur paryavaranvid dau. Parashuram shukl ne ukt uddeshya ko dhyan mein rakhte hue is pustak mein vrikshon ke bare mein vistar se jankariyan di hain. Ye rochak aur gyanvarddhak hain. Hindi mein apne vishay par ye akeli pustak hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products