Look Inside
Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu
Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu
Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu
Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu

Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu

Regular price Rs. 465
Sale price Rs. 465 Regular price Rs. 500
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu

Bharat Ka Rashtriya Pashu Aur Rajyon Ke Rajya Pashu

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘भारत का राष्ट्रीय पशु और राज्यों के राज्य पशु’ एक उपयोगी पुस्तक है। इसका उद्देश्य है पाठकों को अपने पर्यावरण के प्रति सचेत व सहृदय बनाना।
किसी पशु को राष्ट्रीय पशु या राज्य पशु घोषित करने से भले ही वन्यजीवों पर कोई प्रत्यक्ष प्रभाव पड़े न पड़े लेकिन देश के नागरिकों में प्रकृति, पर्यावरण तथा जीव-जन्तुओं के प्रति सजगता और संवेदनशीलता का विस्तार तो होता ही है। हमारे देश की विडम्बना यह है कि इन पशुओं के बारे में मुकम्मिल जानकारी भी व्यापक स्तर पर उपलब्ध नहीं है।
बाघ हमारा राष्ट्रीय पशु है। इस पर अनेक आलेख और पुस्तकें प्रकाशित हैं। इस तथ्य से लोग अवगत भी हैं, पर कितनों को पता है कि 9 जुलाई, 1969 के पहले तक हमारा राष्ट्रीय पशु सिंह था? इसी तरह दिल्ली को छोड़कर सभी राज्यों ने किसी न किसी वन्यजीव को अपना राज्य-पशु घोषित कर रखा है, इसकी जानकारी भी बहुत कम लोगों को है।
राष्ट्रीय पशु सहित राज्य पशुओं की कुल संख्या 21 है। सामान्यतया एक वन्यजीव को एक राज्य ने अपना राज्य पशु घोषित किया है, किन्तु कुछ वन्यजीव ऐसे भी हैं, जिन्हें दो-दो राज्यों ने अपना राज्य पशु घोषित कर रखा है। गौर, मिथुन, बारहसिंगा और कस्तूरी मृग ऐसे ही वन्यजीव हैं। हाथी एक ऐसा वन्यजीव है जिसे चार राज्यों ने अपना राज्य पशु घोषित कर रखा है।
समाजशास्त्री और पर्यावरणविद् डॉ. परशुराम शुक्ल ने इस पुस्तक में इन पशुओं के बारे में विस्तार से जानकारियाँ दी हैं जो रोचक और ज्ञानवर्द्धक हैं। हिन्दी में अपने विषय पर यह अकेली पुस्तक है। ‘bharat ka rashtriy pashu aur rajyon ke rajya pashu’ ek upyogi pustak hai. Iska uddeshya hai pathkon ko apne paryavran ke prati sachet va sahriday banana. Kisi pashu ko rashtriy pashu ya rajya pashu ghoshit karne se bhale hi vanyjivon par koi pratyaksh prbhav pade na pade lekin desh ke nagarikon mein prkriti, paryavran tatha jiv-jantuon ke prati sajagta aur sanvedanshilta ka vistar to hota hi hai. Hamare desh ki vidambna ye hai ki in pashuon ke bare mein mukammil jankari bhi vyapak star par uplabdh nahin hai.
Bagh hamara rashtriy pashu hai. Is par anek aalekh aur pustken prkashit hain. Is tathya se log avgat bhi hain, par kitnon ko pata hai ki 9 julai, 1969 ke pahle tak hamara rashtriy pashu sinh tha? isi tarah dilli ko chhodkar sabhi rajyon ne kisi na kisi vanyjiv ko apna rajya-pashu ghoshit kar rakha hai, iski jankari bhi bahut kam logon ko hai.
Rashtriy pashu sahit rajya pashuon ki kul sankhya 21 hai. Samanyatya ek vanyjiv ko ek rajya ne apna rajya pashu ghoshit kiya hai, kintu kuchh vanyjiv aise bhi hain, jinhen do-do rajyon ne apna rajya pashu ghoshit kar rakha hai. Gaur, mithun, barahsinga aur kasturi mrig aise hi vanyjiv hain. Hathi ek aisa vanyjiv hai jise char rajyon ne apna rajya pashu ghoshit kar rakha hai.
Samajshastri aur paryavaranvid dau. Parashuram shukl ne is pustak mein in pashuon ke bare mein vistar se jankariyan di hain jo rochak aur gyanvarddhak hain. Hindi mein apne vishay par ye akeli pustak hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products