BackBack
-11%

Bharat Ka Itihas (1000 E.P.-1526 E.)

Rs. 795 Rs. 708

प्रस्तुत पुस्तक में लगभग 1000 ई.पू. में आर्य संस्कृति की स्थापना से लेकर 1526 ई. में मुग़लों के आगमन और यूरोप की व्यापारिक कम्पनियों के प्रथम साक्षात्कार तक प्रायः 2500 वर्षों के दौरान भारत के आर्थिक तथा सामाजिक ढाँचे का विकास प्रमुख राजनीतिक एवं राजवंशीय घटनाओं के प्रकाश में दर्शाया... Read More

Description

प्रस्तुत पुस्तक में लगभग 1000 ई.पू. में आर्य संस्कृति की स्थापना से लेकर 1526 ई. में मुग़लों के आगमन और यूरोप की व्यापारिक कम्पनियों के प्रथम साक्षात्कार तक प्रायः 2500 वर्षों के दौरान भारत के आर्थिक तथा सामाजिक ढाँचे का विकास प्रमुख राजनीतिक एवं राजवंशीय घटनाओं के प्रकाश में दर्शाया गया है। मुख्य रूप से
डॉ. थापर ने धर्म, कला और साहित्य में, विचारधाराओं और संस्थाओं में व्यक्त होनेवाले भारतीय संस्कृति के विविध रूपों का रोचक वर्णन किया है।
यह इतिहास वैदिक संस्कृति के साथ प्रारम्भ होता है, इसलिए नहीं कि यह भारतीय संस्कृति का प्रारम्भ-बिन्दु है, वरन् इसलिए कि भारतीय संस्कृति के प्रारम्भिक चरणों पर, जो आदिम-ऐतिहासिक और हड़प्पा काल में दृष्टिगोचर होने लगे थे, सामान्य पाठकों को उपलब्ध अनेक पुस्तकों में पहले ही काफ़ी कुछ लिखा जा चुका है। इस प्रारम्भिक चरण का उल्लेख ‘पूर्वपीठिका’ वाले अध्याय में है। यूरोपवासियों के आगमन से भारत के इतिहास में एक नवीन युग का सूत्रपात होता है। समाप्ति के रूप में 1526 ई. इसीलिए रखी गई है।
लेखिका ने पहले अध्याय में अतीत के विषय में लिखनेवाले इतिहासकारों पर प्रमुख बौद्धिक प्रभावों को स्पष्ट करने की चेष्टा की है। इससे अनिवार्यता नवीन पद्धतियों एवं रीतियों का परिचय मिल जाता है जिन्हें इतिहास के अध्ययन में प्रयुक्त किया जा रहा है और जो इस पुस्तक में भी परिलक्षित हैं। Prastut pustak mein lagbhag 1000 ii. Pu. Mein aarya sanskriti ki sthapna se lekar 1526 ii. Mein muglon ke aagman aur yurop ki vyaparik kampaniyon ke prtham sakshatkar tak prayः 2500 varshon ke dauran bharat ke aarthik tatha samajik dhanche ka vikas prmukh rajnitik evan rajvanshiy ghatnaon ke prkash mein darshaya gaya hai. Mukhya rup seDau. Thapar ne dharm, kala aur sahitya mein, vichardharaon aur sansthaon mein vyakt honevale bhartiy sanskriti ke vividh rupon ka rochak varnan kiya hai.
Ye itihas vaidik sanskriti ke saath prarambh hota hai, isaliye nahin ki ye bhartiy sanskriti ka prarambh-bindu hai, varan isaliye ki bhartiy sanskriti ke prarambhik charnon par, jo aadim-aitihasik aur hadappa kaal mein drishtigochar hone lage the, samanya pathkon ko uplabdh anek pustkon mein pahle hi kafi kuchh likha ja chuka hai. Is prarambhik charan ka ullekh ‘purvpithika’ vale adhyay mein hai. Yuropvasiyon ke aagman se bharat ke itihas mein ek navin yug ka sutrpat hota hai. Samapti ke rup mein 1526 ii. Isiliye rakhi gai hai.
Lekhika ne pahle adhyay mein atit ke vishay mein likhnevale itihaskaron par prmukh bauddhik prbhavon ko spasht karne ki cheshta ki hai. Isse anivaryta navin paddhatiyon evan ritiyon ka parichay mil jata hai jinhen itihas ke adhyyan mein pryukt kiya ja raha hai aur jo is pustak mein bhi parilakshit hain.