Bharat Itihas Aur Sanskriti Rajkamal
Bharat Itihas Aur Sanskriti Rajkamal

Bharat Itihas Aur Sanskriti

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Bharat Itihas Aur Sanskriti Rajkamal

Bharat Itihas Aur Sanskriti

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
हिन्दी के सुविख्यात प्रगतिशील रचनाकार गजानन माधव मुक्तिबोध की बहुचर्चित और विवादित कृति। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश शासन द्वारा ‘भद्रता और नैतिकता’ के विरुद्ध ठहराई गई इस पुस्तक पर मध्य प्रदेश न्यायालय में मुक़दमा चला था, जिसका निर्णय था कि इसके 10 आपत्तिजनक अंशों को हटाकर ही इसे पुनः प्रकाशित किया जा सकता है।
शासन की ओर से कुल दस आपत्तियाँ पुस्तक के विरुद्ध पेश की गईं। इनमें वे भी शामिल थीं जो आन्दोलनकर्ताओं ने चुन-चुनकर गिनाई थीं। इनमें से चार को आपत्तिजनक माना गया। विद्वान् न्यायाधीश ने अन्त में फ़ैसले की व्यवस्था देते हुए आदेश दिया कि आपत्तिजनक प्रसंगों को पुस्तक से ख़ारिज़ कर पुस्तक को पुनः प्रकाशित किया जा सकता है। यह घटना अप्रैल सन् 1963 की है।
हाईकोर्ट के फ़ैसले के आदेश का पूर्ण सम्मान करते हुए आपत्तिजनक प्रसंगों को पुस्तक से पृथक् करके ‘भारत : इतिहास और संस्कृति’ अपने समग्र रूप में प्रस्तुत की जा रही है। मुक्तिबोध की इच्छा थी कि कम-से-कम सामान्य रूप में ‘भारत : इतिहास और संस्कृति’ जनता के समक्ष रहे। प्रयत्न रहा है कि जिस स्वरूप में पुस्तक लिखी गई, हू-ब-हू उसी स्वरूप में वह पाठकों के सामने आए। समग्र पुस्तक का जो अनुक्रम मुक्तिबोध ने बनाया था, अध्यायों का क्रम भी उसी के अनुसार रखा गया है।
इसके पाठ्य-पुस्तक-संस्करण की भूमिका में मुक्तिबोध ने लिखा है कि यह इतिहास की पुस्तक नहीं है—इस अर्थ में कि सामान्यतः इतिहास में राजाओं, युद्धों और राजनैतिक उलट-फेरों का जैसा विवरण रहता है, वैसा इसमें नहीं है।...युद्धों और राजवंशों के विवरण में न अटककर मैंने अपने समाज और उसकी संस्कृति के विकास-पथ को अंकित किया है।
वस्तुतः मुक्तिबोध की यह कृति उनके उस सोच का परिणाम है, जो अपने समूचे इतिहास और जातीय परम्परा के यथार्थवादी मूल्यांकन से पैदा हुआ था। Hindi ke suvikhyat pragatishil rachnakar gajanan madhav muktibodh ki bahucharchit aur vivadit kriti. Ullekhniy hai ki madhya prdesh shasan dvara ‘bhadrta aur naitikta’ ke viruddh thahrai gai is pustak par madhya prdesh nyayalay mein muqadma chala tha, jiska nirnay tha ki iske 10 aapattijnak anshon ko hatakar hi ise punः prkashit kiya ja sakta hai. Shasan ki or se kul das aapattiyan pustak ke viruddh pesh ki gain. Inmen ve bhi shamil thin jo aandolankartaon ne chun-chunkar ginai thin. Inmen se char ko aapattijnak mana gaya. Vidvan nyayadhish ne ant mein faisle ki vyvastha dete hue aadesh diya ki aapattijnak prsangon ko pustak se khariz kar pustak ko punः prkashit kiya ja sakta hai. Ye ghatna aprail san 1963 ki hai.
Haikort ke faisle ke aadesh ka purn samman karte hue aapattijnak prsangon ko pustak se prithak karke ‘bharat : itihas aur sanskriti’ apne samagr rup mein prastut ki ja rahi hai. Muktibodh ki ichchha thi ki kam-se-kam samanya rup mein ‘bharat : itihas aur sanskriti’ janta ke samaksh rahe. Pryatn raha hai ki jis svrup mein pustak likhi gai, hu-ba-hu usi svrup mein vah pathkon ke samne aae. Samagr pustak ka jo anukram muktibodh ne banaya tha, adhyayon ka kram bhi usi ke anusar rakha gaya hai.
Iske pathya-pustak-sanskran ki bhumika mein muktibodh ne likha hai ki ye itihas ki pustak nahin hai—is arth mein ki samanyatः itihas mein rajaon, yuddhon aur rajanaitik ulat-pheron ka jaisa vivran rahta hai, vaisa ismen nahin hai. . . . Yuddhon aur rajvanshon ke vivran mein na atakkar mainne apne samaj aur uski sanskriti ke vikas-path ko ankit kiya hai.
Vastutः muktibodh ki ye kriti unke us soch ka parinam hai, jo apne samuche itihas aur jatiy parampra ke yatharthvadi mulyankan se paida hua tha.
Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products