BackBack

Bhakat Prahlad

Rs. 95

भारत के पौराणिक साहित्य में अनेक ऐसे किशोर चरित्र हैं जो मनुष्य के अडिग विश्वास, आस्था और संकल्प बल के प्रतीक हैं। ‘भक्त प्रह्लाद’ हमारे पौराणिक आख्यानों का ऐसा ही चरित्र है। इस चरित्र की कथा के माध्यम से निराला ने प्रह्लाद के उस अटूट विश्वास को उजागर किया है... Read More

Description

भारत के पौराणिक साहित्य में अनेक ऐसे किशोर चरित्र हैं जो मनुष्य के अडिग विश्वास, आस्था और संकल्प बल के प्रतीक हैं। ‘भक्त प्रह्लाद’ हमारे पौराणिक आख्यानों का ऐसा ही चरित्र है। इस चरित्र की कथा के माध्यम से निराला ने प्रह्लाद के उस अटूट विश्वास को उजागर किया है जो किसी भी आततायी के सामने पराजित नहीं होता। साथ ही, मानव-प्रकृति के वर्णन पर भी निराला ने अपना ध्यान केन्द्रित किया है। भक्त प्रह्लाद जब शिक्षा के लिए गुरुकुल में पहुँचा तो गुरु ने आरम्भ में जो तीन बातें बतलाईं, उनमें तीसरी थी, “तुम यहाँ कभी यह घमंड न कर सकोगे कि तुम राजा के लड़के हो। यहाँ जितने लड़के हैं, सबका बराबर आसन है। सम्मान की दृष्टि से बड़ा वह है जिसने अध्ययन अधिक किया है। तुम्हें सदा ही उसका अदब करना चाहिए।” इसके बाद निराला लिखते हैं, “प्रह्लाद मौन धारण किए इन अनुशासनों को सुन रहे थे। तीसरी आज्ञा उन्हें भायी। राजा और रंक एक ही आसन पर बैठकर ज्ञानार्जन करते हैं, समता के इस भाव से समदर्शी बालक का मुख प्रफुल्ल हो उठा।”
उपरोक्त उद्धरण से स्पष्ट है कि ‘भक्त प्रह्लाद’ एक पौराणिक चरित्र का पुनराख्यान-मात्र नहीं है, बल्कि उसके माध्यम से निराला ने किशोर पीढ़ी के लिए समता और मनुष्यता का सन्देश भी दिया है। Bharat ke pauranik sahitya mein anek aise kishor charitr hain jo manushya ke adig vishvas, aastha aur sankalp bal ke prtik hain. ‘bhakt prahlad’ hamare pauranik aakhyanon ka aisa hi charitr hai. Is charitr ki katha ke madhyam se nirala ne prahlad ke us atut vishvas ko ujagar kiya hai jo kisi bhi aattayi ke samne parajit nahin hota. Saath hi, manav-prkriti ke varnan par bhi nirala ne apna dhyan kendrit kiya hai. Bhakt prahlad jab shiksha ke liye gurukul mein pahuncha to guru ne aarambh mein jo tin baten batlain, unmen tisri thi, “tum yahan kabhi ye ghamand na kar sakoge ki tum raja ke ladke ho. Yahan jitne ladke hain, sabka barabar aasan hai. Samman ki drishti se bada vah hai jisne adhyyan adhik kiya hai. Tumhein sada hi uska adab karna chahiye. ” iske baad nirala likhte hain, “prahlad maun dharan kiye in anushasnon ko sun rahe the. Tisri aagya unhen bhayi. Raja aur rank ek hi aasan par baithkar gyanarjan karte hain, samta ke is bhav se samdarshi balak ka mukh prphull ho utha. ”Uprokt uddhran se spasht hai ki ‘bhakt prahlad’ ek pauranik charitr ka punrakhyan-matr nahin hai, balki uske madhyam se nirala ne kishor pidhi ke liye samta aur manushyta ka sandesh bhi diya hai.