Look Inside
Benipuri Granthawali : Vols. 1-8
Benipuri Granthawali : Vols. 1-8
Benipuri Granthawali : Vols. 1-8
Benipuri Granthawali : Vols. 1-8

Benipuri Granthawali : Vols. 1-8

Regular price Rs. 6,696
Sale price Rs. 6,696 Regular price Rs. 7,200
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Benipuri Granthawali : Vols. 1-8

Benipuri Granthawali : Vols. 1-8

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

श्रीरामवृक्ष बेनीपुरी बीसवीं सदी के उन हिन्दी लेखकों में हैं जिन्होंने साहित्य और पत्रकारिता को नई दिशा दी। साहित्य की विभिन्न विधाओं में उन्होंने श्रेष्ठतम लेखन किया।
कथा-साहित्य और नाटक में नए प्रयोग किए और कालजयी कृतियों की रचना की। इसी तरह राजनैतिक और साहित्यिक दोनों ही तरह की पत्रकारिता को उन्होंने अपनी सशक्त लेखनी से नया रूप दिया।
स्वाधीनता सेनानी बेनीपुरी समाजवाद की राजनीति के आरम्भकर्ताओं में रहे हैं। उनका यह बहुमुखी व्यक्तित्व उन्हें 20वीं सदी के महानायकों की क़तार में खड़ा करता है। ज़िन्दगी की बहुस्तरीय व्यस्तताओं के बावजूद उन्होंने अनवरत साहित्य-लेखन किया और महान साहित्य की रचना की। उनका सम्पूर्ण लेखन अग्रगामी मनुष्य के लिए बहुमूल्य और पाथेय है। बेनीपुरी ग्रन्थावली के आठ खंडों में हम यह दुर्लभ पाथेय प्रस्तुत कर रहे हैं।
ग्रन्थावली के पहले खंड में उनकी कहानियाँ, शब्दचित्र, उपन्यास, ललित निबन्ध, स्मृति चित्र और कविताएँ संकलित हैं। ‘चिता के फूल’ कहानी-संग्रह में शोषित समाज की पीड़ा को अभिव्यक्ति मिली है। ‘लाल तारा’, ‘माटी की मूरतें’ तथा ‘गेहूँ और गुलाब’ नामक शब्द-चित्र संग्रहों की रचनाओं में उन्होंने भारतीय गाँव के किसान-जीवन को सम्पूर्णता में अभिव्यक्त किया है। अपने उपन्यास ‘पतितों के देश में’ के अन्तर्गत उन्होंने भारतीय जेल-जीवन के नरक से साक्षात्कार कराया है। ‘क़ैदी की पत्नी’ में एक स्वाधीनता सेनानी के उपेक्षित परिवार की कहानी कही है। ललित निबन्ध-संग्रह ‘सतरंगा इन्द्रधनुष’ में उन्होंने लोक-संस्कृति के मानवीय स्वरूप और प्रकृति के सौन्दर्य का दिलचस्प चित्रण किया है। ‘गांधीनामा’ में दिवंगत पुत्र के लिए क़ैदी पिता की संवेदनात्मक यादें हैं। इस खंड की एक महत्त्वपूर्ण उपलब्धि बेनीपुरी की कविताएँ हैं जिनके अप्रकाशित होने की वजह से आलोचकों का ध्यान इस ओर नहीं गया। परिशिष्ट में बेनीपुरी का विस्तृत परिचय तथा उनके गाँव बेनीपुर का वृत्तान्त भी शामिल है। Shriramvriksh benipuri bisvin sadi ke un hindi lekhkon mein hain jinhonne sahitya aur patrkarita ko nai disha di. Sahitya ki vibhinn vidhaon mein unhonne shreshthtam lekhan kiya. Katha-sahitya aur natak mein ne pryog kiye aur kalajyi kritiyon ki rachna ki. Isi tarah rajanaitik aur sahityik donon hi tarah ki patrkarita ko unhonne apni sashakt lekhni se naya rup diya.
Svadhinta senani benipuri samajvad ki rajniti ke aarambhkartaon mein rahe hain. Unka ye bahumukhi vyaktitv unhen 20vin sadi ke mahanaykon ki qatar mein khada karta hai. Zindagi ki bahustriy vyasttaon ke bavjud unhonne anavrat sahitya-lekhan kiya aur mahan sahitya ki rachna ki. Unka sampurn lekhan agrgami manushya ke liye bahumulya aur pathey hai. Benipuri granthavli ke aath khandon mein hum ye durlabh pathey prastut kar rahe hain.
Granthavli ke pahle khand mein unki kahaniyan, shabdchitr, upanyas, lalit nibandh, smriti chitr aur kavitayen sanklit hain. ‘chita ke phul’ kahani-sangrah mein shoshit samaj ki pida ko abhivyakti mili hai. ‘lal tara’, ‘mati ki murten’ tatha ‘gehun aur gulab’ namak shabd-chitr sangrhon ki rachnaon mein unhonne bhartiy ganv ke kisan-jivan ko sampurnta mein abhivyakt kiya hai. Apne upanyas ‘patiton ke desh men’ ke antargat unhonne bhartiy jel-jivan ke narak se sakshatkar karaya hai. ‘qaidi ki patni’ mein ek svadhinta senani ke upekshit parivar ki kahani kahi hai. Lalit nibandh-sangrah ‘satranga indradhnush’ mein unhonne lok-sanskriti ke manviy svrup aur prkriti ke saundarya ka dilchasp chitran kiya hai. ‘gandhinama’ mein divangat putr ke liye qaidi pita ki sanvednatmak yaden hain. Is khand ki ek mahattvpurn uplabdhi benipuri ki kavitayen hain jinke aprkashit hone ki vajah se aalochkon ka dhyan is or nahin gaya. Parishisht mein benipuri ka vistrit parichay tatha unke ganv benipur ka vrittant bhi shamil hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products