BackBack
-11%

Beech Ka Rasta Nahin Hota

Rs. 595 Rs. 530

पाश की कविता हमारी क्रान्तिकारी काव्य-परम्‍परा की अत्यन्त प्रभावी और सार्थक अभिव्यक्ति है। मनुष्य द्वारा मनुष्य के शोषण पर आधारित व्यवस्था के नाश और एक वर्गविहीन समाज की स्थापना के लिए जारी जनसंघर्षों में इसकी पक्षधरता बेहद स्पष्ट है। साथ ही यह न तो एकायामी है और न एकपक्षीय, बल्कि... Read More

Description

पाश की कविता हमारी क्रान्तिकारी काव्य-परम्‍परा की अत्यन्त प्रभावी और सार्थक अभिव्यक्ति है। मनुष्य द्वारा मनुष्य के शोषण पर आधारित व्यवस्था के नाश और एक वर्गविहीन समाज की स्थापना के लिए जारी जनसंघर्षों में इसकी पक्षधरता बेहद स्पष्ट है। साथ ही यह न तो एकायामी है और न एकपक्षीय, बल्कि इसकी चिन्‍ताओं में वह सब भी शामिल है, जिसे इधर प्रगतिशील काव्य-मूल्यों के लिए प्रायः विजातीय माना जाता रहा है।
अपनी कविता के माध्यम से पाश हमारे समाज के जिस वस्तुगत यथार्थ को उद्घाटित और विश्लेषित करना चाहते हैं, उसके लिए वे अपनी भाषा, मुहावरे और बिम्‍बों-प्रतीकों का चुनाव ठेठ ग्रामीण जीवन से करते हैं। घर-आँगन, खेत-खलिहान, स्कूल-कॉलेज, कोर्ट-कचहरी, पुलिस-फौज और वे तमाम लोग जो इन सबमें अपनी-अपनी तरह एक बेहतर मानवीय समाज की आकांक्षा रखते हैं, बार-बार इन कविताओं में आते हैं। लोक-जीवन में ऊर्जा ग्रहण करते हुए भी ये कविताएँ प्रतिगामी आस्थाओं और विश्वासों को लक्षित करना नहीं भूलतीं और उनके पुनर्संस्कार की प्रेरणा देती हैं। ये हमें हर उस मोड़ पर सचेत करती हैं, जहाँ प्रतिगामिता के ख़तरे मौजूद हैं; फिर ये ख़तरे चाहे मौजूदा राजनीति की पतनशीलता से पैदा हुए हों या धार्मिक संकीर्णताओं से; और ऐसा करते हुए ये कविताएँ प्रत्येक उस व्यक्ति से संवाद बनाए रखती हैं जो कल कहीं भी जनता के पक्ष में खड़ा होगा। इसलिए आकस्मिक नहीं कि काव्यवस्तु के सन्‍दर्भ में पाश नाज़िम हिकमत और पाब्लो नेरुदा जैसे क्रान्तिकारी कवियों को ‘हमारे अपने कैम्प के आदमी’ कहकर याद करते हैं और सम्‍बोधन-शैली के लिए महाकवि कालिदास को।
संक्षेप में, हिन्दी और पंजाबी साहित्य से गहरे तक जुड़े डॉ. चमनलाल द्वारा चयनित, सम्‍पादित और अनूदित पाश की ये कविताएँ मनुष्य की अपराजेय संघर्ष-चेतना का गौरव-गान हैं और हमारे समय की अमानवीय जीवन-स्थितियों के विरुद्ध एक क्रान्तिकारी हस्तक्षेप। Pash ki kavita hamari krantikari kavya-param‍para ki atyant prbhavi aur sarthak abhivyakti hai. Manushya dvara manushya ke shoshan par aadharit vyvastha ke nash aur ek vargavihin samaj ki sthapna ke liye jari jansangharshon mein iski pakshadharta behad spasht hai. Saath hi ye na to ekayami hai aur na ekpakshiy, balki iski chin‍taon mein vah sab bhi shamil hai, jise idhar pragatishil kavya-mulyon ke liye prayः vijatiy mana jata raha hai. Apni kavita ke madhyam se pash hamare samaj ke jis vastugat yatharth ko udghatit aur vishleshit karna chahte hain, uske liye ve apni bhasha, muhavre aur bim‍bon-prtikon ka chunav theth gramin jivan se karte hain. Ghar-angan, khet-khalihan, skul-kaulej, kort-kachahri, pulis-phauj aur ve tamam log jo in sabmen apni-apni tarah ek behtar manviy samaj ki aakanksha rakhte hain, bar-bar in kavitaon mein aate hain. Lok-jivan mein uurja grhan karte hue bhi ye kavitayen pratigami aasthaon aur vishvason ko lakshit karna nahin bhultin aur unke punarsanskar ki prerna deti hain. Ye hamein har us mod par sachet karti hain, jahan pratigamita ke khatre maujud hain; phir ye khatre chahe maujuda rajniti ki patanshilta se paida hue hon ya dharmik sankirntaon se; aur aisa karte hue ye kavitayen pratyek us vyakti se sanvad banaye rakhti hain jo kal kahin bhi janta ke paksh mein khada hoga. Isaliye aakasmik nahin ki kavyvastu ke san‍darbh mein pash nazim hikmat aur pablo neruda jaise krantikari kaviyon ko ‘hamare apne kaimp ke aadmi’ kahkar yaad karte hain aur sam‍bodhan-shaili ke liye mahakavi kalidas ko.
Sankshep mein, hindi aur panjabi sahitya se gahre tak jude dau. Chamanlal dvara chaynit, sam‍padit aur anudit pash ki ye kavitayen manushya ki aprajey sangharsh-chetna ka gaurav-gan hain aur hamare samay ki amanviy jivan-sthitiyon ke viruddh ek krantikari hastakshep.