BackBack
-11%

Bechain Patton Ka Chorus

Rs. 295 Rs. 263

कुँवर नारायण उन अत्यल्प साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों में हैं जिन्होंने अपने लेखन में भारतीय और वैश्विक विचार, चिन्तन, संवेदना और सरोकारों से गहन संवाद किया है। यह संवाद किसी एक साहित्यिक विधा तक सीमित नहीं रहा। उनकी काव्येतर कृतियाँ इस बात की पुष्टि करती हैं। कुँवर नारायण ने जैसे विश्वस्तरीय... Read More

Description

कुँवर नारायण उन अत्यल्प साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों में हैं जिन्होंने अपने लेखन में भारतीय और वैश्विक विचार, चिन्तन, संवेदना और सरोकारों से गहन संवाद किया है। यह संवाद किसी एक साहित्यिक विधा तक सीमित नहीं रहा। उनकी काव्येतर कृतियाँ इस बात की पुष्टि करती हैं। कुँवर नारायण ने जैसे विश्वस्तरीय कविताएँ लिखी हैं वैसे ही कहानियाँ भी। 'बेचैन पत्तों का कोरस' कुँवर नारायण का दूसरा कहानी-संग्रह है। पहला कहानी-संग्रह, 'आकारों के आसपास', सत्तर के दशक में आया था। अपनी असाधारण मौलिकता के चलते यह संग्रह ख़ासा ध्यानाकर्षक रहा। उस वक़्त रघुवीर सहाय, श्रीकान्त वर्मा, श्रीलाल शुक्ल, नेमिचन्द्र जैन जैसे साहित्यकारों ने इन कहानियों को सुखद आश्चर्य के साथ सराहा।
वर्तमान समय के कथाकारों और समीक्षकों तक के लिए ये कहानियाँ निरन्तर आकर्षण और प्रेरणा का विषय बनी हुई हैं। इसी उपलब्धि का विस्तार हम इस दूसरे संकलन में पाते हैं, जो कि एक लम्बे अन्तराल के बाद आ रहा है।
वर्तमान कथा-परिदृश्य को यह संकलन कई मानों में समृद्ध करेगा। इन कहानियों में अन्तर्वस्तु की विविधता ही नहीं, भाषा, संरचना और रूप का वैविध्य भी उत्कृष्टता का प्रमाण है। हर कहानी स्वयं में नई है और दूसरी से पृथक् भी। ये कहानियाँ औपचारिक और परम्परागत तरीक़े से अलग, कहानी विधा में प्रयोग और नवाचार हैं। बहुविधात्मक प्रभाव का सुन्दर समन्वय इन कहानियों को बहुस्तरीय बनाता है, और निबन्ध, संस्मरण, रेखाचित्र, चारित्रिकी, कविता आदि विधाओं की सम्मिलित शक्ति इन कहानियों के क्षितिज को विस्तृत करती है। Kunvar narayan un atyalp sahitykaron aur buddhijiviyon mein hain jinhonne apne lekhan mein bhartiy aur vaishvik vichar, chintan, sanvedna aur sarokaron se gahan sanvad kiya hai. Ye sanvad kisi ek sahityik vidha tak simit nahin raha. Unki kavyetar kritiyan is baat ki pushti karti hain. Kunvar narayan ne jaise vishvastriy kavitayen likhi hain vaise hi kahaniyan bhi. Bechain patton ka koras kunvar narayan ka dusra kahani-sangrah hai. Pahla kahani-sangrah, akaron ke aaspas, sattar ke dashak mein aaya tha. Apni asadharan maulikta ke chalte ye sangrah khasa dhyanakarshak raha. Us vaqt raghuvir sahay, shrikant varma, shrilal shukl, nemichandr jain jaise sahitykaron ne in kahaniyon ko sukhad aashcharya ke saath saraha. Vartman samay ke kathakaron aur samikshkon tak ke liye ye kahaniyan nirantar aakarshan aur prerna ka vishay bani hui hain. Isi uplabdhi ka vistar hum is dusre sanklan mein pate hain, jo ki ek lambe antral ke baad aa raha hai.
Vartman katha-paridrishya ko ye sanklan kai manon mein samriddh karega. In kahaniyon mein antarvastu ki vividhta hi nahin, bhasha, sanrachna aur rup ka vaividhya bhi utkrishtta ka prman hai. Har kahani svayan mein nai hai aur dusri se prithak bhi. Ye kahaniyan aupcharik aur parampragat tariqe se alag, kahani vidha mein pryog aur navachar hain. Bahuvidhatmak prbhav ka sundar samanvay in kahaniyon ko bahustriy banata hai, aur nibandh, sansmran, rekhachitr, charitriki, kavita aadi vidhaon ki sammilit shakti in kahaniyon ke kshitij ko vistrit karti hai.