Look Inside
Baqi Itihas
Baqi Itihas
Baqi Itihas
Baqi Itihas

Baqi Itihas

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Baqi Itihas

Baqi Itihas

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

एक इतिहास वह है जिसे राजा–महाराजा, शासक शक्तियाँ और मुख्यधारा के नायक बनाते हैं; इसके बरअक्स एक दूसरा इतिहास भी होता है। इस इतिहास में शामिल होते हैं वे तमाम बेचेहरा लोग जिनके कन्धों से होकर नायकों के विजय–मत्त घोड़े अपने झंडे फहराते हैं। मसलन, सीतानाथ जो इस नाटक का ‘नायक नहीं’ है। वह इतिहास के पिछवाड़े पड़े लाखों औसत जनों की तरह का ही एक शख़्स है, जिनका नाम कहीं दर्ज नहीं होता। लेकिन सीतानाथ इसी व्यर्थता–बोध के चलते आत्महत्या करता है और एक स्थानीय अख़बार में एक–कॉलमी ख़बर बनकर उभरता है। शरद जो ख़ुद भी ‘नायक नहीं’ है, अपनी लेखिका पत्नी वासन्ती के साथ मिलकर उस आत्महत्या पर एक कहानी गढ़ने की कोशिश करता है, लेकिन असफल होता है, और अन्त में पाता है कि वह भी सीतानाथ की ही तरह ‘बाक़ी इतिहास’ का एक अर्द्ध–नायक भर है जिसके सामने न जीने की वजह मौजूद है, न मरने
की।
मध्यवर्ग की इसी उबाऊ और दमघोंटू दैनिकता का विश्लेषण ‘बाक़ी इतिहास’ अपने बहुस्तरीय शिल्प के माध्यम से करता है। देश के कोने–कोने में सैकड़ों बार सफलतापूर्वक मंचित हो चुके इस नाटक का विषय आज भी उतना ही प्रासंगिक है, जितना तीन दशक पहले था। Ek itihas vah hai jise raja–maharaja, shasak shaktiyan aur mukhydhara ke nayak banate hain; iske baraks ek dusra itihas bhi hota hai. Is itihas mein shamil hote hain ve tamam bechehra log jinke kandhon se hokar naykon ke vijay–matt ghode apne jhande phahrate hain. Maslan, sitanath jo is natak ka ‘nayak nahin’ hai. Vah itihas ke pichhvade pade lakhon ausat janon ki tarah ka hi ek shakhs hai, jinka naam kahin darj nahin hota. Lekin sitanath isi vyarthta–bodh ke chalte aatmhatya karta hai aur ek sthaniy akhbar mein ek–kaulmi khabar bankar ubharta hai. Sharad jo khud bhi ‘nayak nahin’ hai, apni lekhika patni vasanti ke saath milkar us aatmhatya par ek kahani gadhne ki koshish karta hai, lekin asphal hota hai, aur ant mein pata hai ki vah bhi sitanath ki hi tarah ‘baqi itihas’ ka ek arddh–nayak bhar hai jiske samne na jine ki vajah maujud hai, na marneKi.
Madhyvarg ki isi ubau aur damghontu dainikta ka vishleshan ‘baqi itihas’ apne bahustriy shilp ke madhyam se karta hai. Desh ke kone–kone mein saikdon baar saphaltapurvak manchit ho chuke is natak ka vishay aaj bhi utna hi prasangik hai, jitna tin dashak pahle tha.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products