Look Inside
Bandi
Bandi
Bandi
Bandi

Bandi

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bandi

Bandi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मन्नू भंडारी की अभी तक असंकलित कहानियों की यह प्रस्तुति पाठकों को एक बार फिर अपनी उस प्रिय कथाकार की जादुई क़लम की याद दिलाएगी जिसने नई हिन्दी कहानी, और आज़ादी बाद बनते नए भारतीय समाज में अपनी पहचान तलाशती स्त्री के मन को रूपाकार देने में निर्णायक भूमिका निभाई।
नई कहानी आन्दोलन के उन दिनों में जब हिन्दी की रचनात्मकता अपनी प्रयोगशीलता को लेकर न सिर्फ़ मुखर बल्कि वाचाल प्रतीत होती थी, मन्नू जी ने अत्यन्त संयम के साथ बहुत सार्थक, रुचिकर, पठनीय और लोकप्रिय कहानियों-उपन्यासों की रचना की। अपने लेखक-व्यक्तित्व को लेकर हमेशा संशय में रहनेवाली मन्नू जी ने अपनी रचना-यात्रा के किसी भी मोड़ पर अपने स्वभाव को न किसी फ़ैशन के लिए छोड़ा, न किसी उपलब्धि के लिए। उनका रचना-लोक उनकी अपनी आभा से परिपूर्ण, हर नई कृति के साथ एक नए क्षितिज को रचता रहा। उनकी रचनाओं ने लेखक और पाठक के बीच दोतरफ़ा और सजीव रिश्ता बनाया। न उनकी कहानियों ने, और न ही उपन्यासों या नाटकों ने कभी पाठक से माँग की कि वह साहित्य को पढ़ने, उसकी प्रशंसा करने, उसका आनन्द लेने का प्राकृतिक अधिकार नहीं रखता, कि इसके लिए उसे किसी विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता है। उनकी लिखी कथाएँ हर किसी को अपनी लगीं। और अपने अलावा सबकी भी। हिन्दी में ऐसे लेखकों की बहुतायत नहीं रही। न कभी पहले, न आज।
बाद के दिनों में मन्नू जी का लिखना बहुत कम हो गया था। ऐसे में उनकी ये कहानियाँ हमारे लिए अत्यधिक बहुमूल्य हो जाती हैं। इन कहानियों में से कुछ पत्र-पत्रिकाओं में आ चुकी हैं, जबकि कुछ पहली बार इस संग्रह में शामिल हैं। Mannu bhandari ki abhi tak asanklit kahaniyon ki ye prastuti pathkon ko ek baar phir apni us priy kathakar ki jadui qalam ki yaad dilayegi jisne nai hindi kahani, aur aazadi baad bante ne bhartiy samaj mein apni pahchan talashti stri ke man ko rupakar dene mein nirnayak bhumika nibhai. Nai kahani aandolan ke un dinon mein jab hindi ki rachnatmakta apni pryogshilta ko lekar na sirf mukhar balki vachal prtit hoti thi, mannu ji ne atyant sanyam ke saath bahut sarthak, ruchikar, pathniy aur lokapriy kahaniyon-upanyason ki rachna ki. Apne lekhak-vyaktitv ko lekar hamesha sanshay mein rahnevali mannu ji ne apni rachna-yatra ke kisi bhi mod par apne svbhav ko na kisi faishan ke liye chhoda, na kisi uplabdhi ke liye. Unka rachna-lok unki apni aabha se paripurn, har nai kriti ke saath ek ne kshitij ko rachta raha. Unki rachnaon ne lekhak aur pathak ke bich dotarfa aur sajiv rishta banaya. Na unki kahaniyon ne, aur na hi upanyason ya natkon ne kabhi pathak se mang ki ki vah sahitya ko padhne, uski prshansa karne, uska aanand lene ka prakritik adhikar nahin rakhta, ki iske liye use kisi vishesh prshikshan ki aavashyakta hai. Unki likhi kathayen har kisi ko apni lagin. Aur apne alava sabki bhi. Hindi mein aise lekhkon ki bahutayat nahin rahi. Na kabhi pahle, na aaj.
Baad ke dinon mein mannu ji ka likhna bahut kam ho gaya tha. Aise mein unki ye kahaniyan hamare liye atydhik bahumulya ho jati hain. In kahaniyon mein se kuchh patr-patrikaon mein aa chuki hain, jabaki kuchh pahli baar is sangrah mein shamil hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products