BackBack
-11%

Banbhatt Ki Aatmakatha

Rs. 350 Rs. 312

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी की विपुल रचना-सामर्थ्य का रहस्य उनके विशद शास्त्रीय ज्ञान में नहीं, बल्कि उस पारदर्शी जीवन-दृष्टि में निहित है, जो युग का नहीं युग-युग का सत्य देखती है। उनकी प्रतिभा ने इतिहास का उपयोग ‘तीसरी आँख’ के रूप में किया है और अतीत-कालीन चेतना-प्रवाह को वर्तमान जीवनधारा से... Read More

Description

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी की विपुल रचना-सामर्थ्य का रहस्य उनके विशद शास्त्रीय ज्ञान में नहीं, बल्कि उस पारदर्शी जीवन-दृष्टि में निहित है, जो युग का नहीं युग-युग का सत्य देखती है। उनकी प्रतिभा ने इतिहास का उपयोग ‘तीसरी आँख’ के रूप में किया है और अतीत-कालीन चेतना-प्रवाह को वर्तमान जीवनधारा से जोड़ पाने में वह आश्चर्यजनक रूप से सफल हुई है। बाणभट्ट की आत्मकथा अपनी समस्त औपन्यासिक संरचना और भंगिमा में कथा-कृति होते हुए भी महाकाव्यत्व की गरिमा से पूर्ण है। इसमें द्विवेदी जी ने प्राचीन कवि बाण के बिखरे जीवन-सूत्रों को बड़ी कलात्मकता से गूँथकर एक ऐसी कथाभूमि निर्मित की है जो जीवन-सत्यों से रसमय साक्षात्कार कराती है। इसमें वह वाणी मुखरित है जो सामगान के समान पवित्रा और अर्थपूर्ण है-‘सत्य के लिए किसी से न डरना, गुरु से भी नहीं, मंत्रा से भी नहीं; लोक से भी नहीं, वेद से भी नहीं।’ बाणभट्ट की आत्मकथा का कथानायक कोरा भावुक कवि नहीं वरन कर्मनिरत और संघर्षशील जीवन-योद्धा है। उसके लिए ‘शरीर केवल भार नहीं, मिट्टी का ढेला नहीं’, बल्कि ‘उससे बड़ा’ है और उसके मन में आर्यावर्त्त के उद्धार का निमित्त बनने की तीव्र बेचैनी है। ‘अपने को निःशेष भाव से दे देने’ में जीवन की सार्थकता देखने वाली निउनिया और ‘सबकुछ भूल जाने की साधना’ में लीन महादेवी भट्टिनी के प्रति उसका प्रेम जब उच्चता का वरण कर लेता है तो यही गूँज अंत में रह जाती हैद-‘‘वैराग्य क्या इतनी बड़ी चीज है कि प्रेम देवता को उसकी नयनाग्नि में भस्म कराके ही कवि गौरव का अनुभव करे?’’ Aacharya hajariprsad dvivedi ki vipul rachna-samarthya ka rahasya unke vishad shastriy gyan mein nahin, balki us pardarshi jivan-drishti mein nihit hai, jo yug ka nahin yug-yug ka satya dekhti hai. Unki pratibha ne itihas ka upyog ‘tisri aankh’ ke rup mein kiya hai aur atit-kalin chetna-prvah ko vartman jivandhara se jod pane mein vah aashcharyajnak rup se saphal hui hai. Banbhatt ki aatmaktha apni samast aupanyasik sanrachna aur bhangima mein katha-kriti hote hue bhi mahakavyatv ki garima se purn hai. Ismen dvivedi ji ne prachin kavi baan ke bikhre jivan-sutron ko badi kalatmakta se gunthakar ek aisi kathabhumi nirmit ki hai jo jivan-satyon se rasmay sakshatkar karati hai. Ismen vah vani mukhrit hai jo samgan ke saman pavitra aur arthpurn hai-‘satya ke liye kisi se na darna, guru se bhi nahin, mantra se bhi nahin; lok se bhi nahin, ved se bhi nahin. ’ banbhatt ki aatmaktha ka kathanayak kora bhavuk kavi nahin varan karmanirat aur sangharshshil jivan-yoddha hai. Uske liye ‘sharir keval bhar nahin, mitti ka dhela nahin’, balki ‘usse bada’ hai aur uske man mein aaryavartt ke uddhar ka nimitt banne ki tivr bechaini hai. ‘apne ko niःshesh bhav se de dene’ mein jivan ki sarthakta dekhne vali niuniya aur ‘sabkuchh bhul jane ki sadhna’ mein lin mahadevi bhattini ke prati uska prem jab uchchta ka varan kar leta hai to yahi gunj ant mein rah jati haid-‘‘vairagya kya itni badi chij hai ki prem devta ko uski naynagni mein bhasm karake hi kavi gaurav ka anubhav kare?’’