Look Inside
Bali
Bali
Bali
Bali

Bali

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bali

Bali

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मौजूदा समय में नैतिक ईमानदारी का अभिप्राय सिर्फ़ उसको सिद्ध कर देने-भर से होता है। वह कोई सामाजिक संस्था हो या राजनीतिक अथवा न्यायिक, उसको भी हमसे जवाब-तलब करने का अधिकार है, उसे संतुष्ट करने के लिए बस इतना काफ़ी है कि हम सबूतों के आधार पर अपनी पवित्रता को साबित कर दें। और, दुर्भाग्य से ईश्वरीय सत्ता भी उसी श्रेणी में आ गई लगती है। लेकिन नैतिकता की एक कसौटी अपना आत्म भी है और यही वह प्रामाणिक कसौटी है जो हमें हिप्पोक्रेसी और सच साबित कर दिए गए असत्यों की तहों में दुबके सतत दरों से हमें मुक्त करती है, हमारे पार्थिव संसार में सचाई और नैतिकता की व्यावहारिक स्थापना करती है।
यह नाटक इसी कसौटी के बारे में है। नाटक का विषय पशु-बलि है और कथा बताती है कि बलि आख़िर बलि है, वह जीते-जागते जीव की हो या आटे से बने पशु की। हिंसा तो तलवार चलाने की क्रिया में है, इसमें नहीं कि वह किस पर चलाई गई है।
हिंसा का यह विषयनिष्ठ, सूक्ष्म और उद्वेलक विश्लेषण गिरीश कारनाड ने एक पौराणिक कथा के आधार पर किया है जिसे उन्होंने तेरहवीं सदी के एक कन्नड़ महाकाव्य से लिया है। गिरीश कारनाड के नाटक हमेशा ही सभ्यता के शाश्वत द्वन्द्वों को रेखांकित करते हैं, यह नाटक भी उसका अपवाद नहीं है। Maujuda samay mein naitik iimandari ka abhipray sirf usko siddh kar dene-bhar se hota hai. Vah koi samajik sanstha ho ya rajnitik athva nyayik, usko bhi hamse javab-talab karne ka adhikar hai, use santusht karne ke liye bas itna kafi hai ki hum sabuton ke aadhar par apni pavitrta ko sabit kar den. Aur, durbhagya se iishvriy satta bhi usi shreni mein aa gai lagti hai. Lekin naitikta ki ek kasauti apna aatm bhi hai aur yahi vah pramanik kasauti hai jo hamein hippokresi aur sach sabit kar diye ge asatyon ki tahon mein dubke satat daron se hamein mukt karti hai, hamare parthiv sansar mein sachai aur naitikta ki vyavharik sthapna karti hai. Ye natak isi kasauti ke bare mein hai. Natak ka vishay pashu-bali hai aur katha batati hai ki bali aakhir bali hai, vah jite-jagte jiv ki ho ya aate se bane pashu ki. Hinsa to talvar chalane ki kriya mein hai, ismen nahin ki vah kis par chalai gai hai.
Hinsa ka ye vishaynishth, sukshm aur udvelak vishleshan girish karnad ne ek pauranik katha ke aadhar par kiya hai jise unhonne terahvin sadi ke ek kannad mahakavya se liya hai. Girish karnad ke natak hamesha hi sabhyta ke shashvat dvandvon ko rekhankit karte hain, ye natak bhi uska apvad nahin hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products