Balchanama

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Balchanama

Balchanama

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘बलचनमा’ की गणना हिन्दी के कालजयी उपन्यासों में की जाती है। छठी दशाब्दी के आरम्भिक वर्षों में प्रकाशित होते ही इसकी धूम मच गई और आज तक यह
उसी प्रकार सर्वप्रिय है। इसे हिन्दी का प्रथम आंचलिक उपन्यास होने का भी गौरव प्राप्त
है।
दुनिया के अन्य देशों की तरह भारत का सामन्ती जीवन भी ग़रीबों की त्रासदी से भरा पड़ा है, और यह परम्परा अभी समाप्त होने में नहीं आ रही। इस उपन्यास में चौथे दशक के आसपास मिथिला के दरभंगा ज़िले के ज़मींदार समाज और उनके अन्यायों की कहानी बड़े मार्मिक ढंग से लिखी गई है। ‘बलचनमा’ दरअसल एक प्रतीक है अत्याचारों से उपजे विद्रोह का जो धनाढ्य समाज के अत्याचारों की कारुणिक कथा कहता है। ‘बलचनमा’ का भाग्य उसे उसी कसाई ज़मींदार की भैंस चराने के लिए विवश करता है जिसने अपने बग़ीचे से एक कच्चा आम तोड़कर खा जाने के अपराध में उसके पिता को एक खम्भे से बँधवाकर मरवा दिया था। लेकिन वह गाँव छोड़कर शहर भाग जाता है और ‘इंक़लाब’, ‘सुराज’ आदि शब्दों का ठीक उच्चारण तक न कर पाने पर भी शोषकों से संघर्ष करने के लिए उठ रहे आन्दोलन में शामिल हो जाता है।
मनीषी कवि-कथाकार नागार्जुन का यह उपन्यास साहित्य की महत्त्वपूर्ण धरोहर है। ‘balachanma’ ki ganna hindi ke kalajyi upanyason mein ki jati hai. Chhathi dashabdi ke aarambhik varshon mein prkashit hote hi iski dhum mach gai aur aaj tak yeUsi prkar sarvapriy hai. Ise hindi ka prtham aanchlik upanyas hone ka bhi gaurav prapt
Hai.
Duniya ke anya deshon ki tarah bharat ka samanti jivan bhi garibon ki trasdi se bhara pada hai, aur ye parampra abhi samapt hone mein nahin aa rahi. Is upanyas mein chauthe dashak ke aaspas mithila ke darbhanga zile ke zamindar samaj aur unke anyayon ki kahani bade marmik dhang se likhi gai hai. ‘balachanma’ darasal ek prtik hai atyacharon se upje vidroh ka jo dhanadhya samaj ke atyacharon ki karunik katha kahta hai. ‘balachanma’ ka bhagya use usi kasai zamindar ki bhains charane ke liye vivash karta hai jisne apne bagiche se ek kachcha aam todkar kha jane ke apradh mein uske pita ko ek khambhe se bandhvakar marva diya tha. Lekin vah ganv chhodkar shahar bhag jata hai aur ‘inqlab’, ‘suraj’ aadi shabdon ka thik uchcharan tak na kar pane par bhi shoshkon se sangharsh karne ke liye uth rahe aandolan mein shamil ho jata hai.
Manishi kavi-kathakar nagarjun ka ye upanyas sahitya ki mahattvpurn dharohar hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products