Look Inside
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia
Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia

Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia

Regular price ₹ 455
Sale price ₹ 455 Regular price ₹ 490
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia

Bahudha aur 9/11 ke baad ki dunia

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इधर आतंकवाद और पुनरुत्थानवाद के उदय के कारण वैश्विक राजनीति में कुछ अहम परिवर्तन आए हैं। ये अभूतपूर्व चुनौतियाँ विश्व के नेताओं से एक नई, साहसी और कल्पनाशील राजनीति की माँग कर रही हैं। शान्ति की सदियों पुरानी तकनीकों से ऊपर उठने और विमर्श की हमारी भाषा की पुनर्रचना करने की ज़रूरत को रेखांकित करते हुए यह पुस्तक ‘बहुधा’ की अवधारणा को प्रस्तुत करती है; ‘बहुधा’—यानी एक शाश्वत सचाई, एक सातत्य; शान्तिपूर्ण जीवन और सौहार्द का संवाद। यह अवधारणा बहुजातीय समाजों और बहुवाद के अन्तर को बताती है, वैचारिक आदान-प्रदान की गुंजाइश देती है और सामूहिक कल्याण की समझ को प्रोत्साहित करती है।
पुस्तक को पाँच भागों में विभाजित किया गया है। पहले भाग में 1989 से 2001 की अवधि में घटी घटनाओं और विभिन्न देशों, संस्कृतियों और अन्तरराष्ट्रीय शान्ति पर पड़े उनके प्रभावों पर विचार किया गया है। मसलन—बर्लिन की दीवार का गिरना, हांगकांग का चीन में जाना और सितम्बर 11 को अमेरिका में हुआ हमला। दूसरे भाग में वेदों और पुराणों के उदाहरणों और अशोक, कबीर, गुरु नानक, अकबर व महात्मा गांधी की नीतियों के विश्लेषण के द्वारा बहुवादी चुनौतियों से निबटने के भारतीय अनुभवों को परखा गया है।
आगे के भागों में लेखक ने ‘बहुधा’ को सामूहिक सौहार्द की एक नीति के रूप में रेखांकित करते हुए विश्वस्तर पर इस दृष्टिकोण के अनुकरण पर विचार किया है। एक सद्भावनापूर्ण समाज की रचना के लिए लेखक शिक्षा और धर्म की भूमिका को केन्द्रीय मानते हैं और वैश्विक विवादों को हल करने के लिए संयुक्त राष्ट्रसंघ को शक्तिशाली बनाने की वकालत करते हैं।
लेखक की मान्यता है कि आतंकवाद का जवाब मानवाधिकारों के सम्मान और विभिन्न संस्कृतियों और मूल्य-व्यवस्थाओं के सम्मान में छिपा है। शान्तिपूर्ण विश्व के निर्माण के लिए, आवश्यक संवाद-प्रक्रिया को आरम्भ करने के लिए यह ज़रूरी है।
कई-कई विषय-क्षेत्रों में एक साथ विचरण करनेवाली यह कृति विद्यार्थियों, विद्वानों और इतिहास, दर्शन, राजनीति तथा अन्तरराष्ट्रीय सम्बन्धों के शोधार्थियों के लिए समान रूप से रुचिकर साबित होगी। Idhar aatankvad aur punrutthanvad ke uday ke karan vaishvik rajniti mein kuchh aham parivartan aae hain. Ye abhutpurv chunautiyan vishv ke netaon se ek nai, sahsi aur kalpnashil rajniti ki mang kar rahi hain. Shanti ki sadiyon purani taknikon se uupar uthne aur vimarsh ki hamari bhasha ki punarrachna karne ki zarurat ko rekhankit karte hue ye pustak ‘bahudha’ ki avdharna ko prastut karti hai; ‘bahudha’—yani ek shashvat sachai, ek satatya; shantipurn jivan aur sauhard ka sanvad. Ye avdharna bahujatiy samajon aur bahuvad ke antar ko batati hai, vaicharik aadan-prdan ki gunjaish deti hai aur samuhik kalyan ki samajh ko protsahit karti hai. Pustak ko panch bhagon mein vibhajit kiya gaya hai. Pahle bhag mein 1989 se 2001 ki avadhi mein ghati ghatnaon aur vibhinn deshon, sanskritiyon aur antarrashtriy shanti par pade unke prbhavon par vichar kiya gaya hai. Maslan—barlin ki divar ka girna, hangkang ka chin mein jana aur sitambar 11 ko amerika mein hua hamla. Dusre bhag mein vedon aur puranon ke udaharnon aur ashok, kabir, guru nanak, akbar va mahatma gandhi ki nitiyon ke vishleshan ke dvara bahuvadi chunautiyon se nibatne ke bhartiy anubhvon ko parkha gaya hai.
Aage ke bhagon mein lekhak ne ‘bahudha’ ko samuhik sauhard ki ek niti ke rup mein rekhankit karte hue vishvastar par is drishtikon ke anukran par vichar kiya hai. Ek sadbhavnapurn samaj ki rachna ke liye lekhak shiksha aur dharm ki bhumika ko kendriy mante hain aur vaishvik vivadon ko hal karne ke liye sanyukt rashtrsangh ko shaktishali banane ki vakalat karte hain.
Lekhak ki manyta hai ki aatankvad ka javab manvadhikaron ke samman aur vibhinn sanskritiyon aur mulya-vyvasthaon ke samman mein chhipa hai. Shantipurn vishv ke nirman ke liye, aavashyak sanvad-prakriya ko aarambh karne ke liye ye zaruri hai.
Kai-kai vishay-kshetron mein ek saath vichran karnevali ye kriti vidyarthiyon, vidvanon aur itihas, darshan, rajniti tatha antarrashtriy sambandhon ke shodharthiyon ke liye saman rup se ruchikar sabit hogi.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products